यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मेरठ में दो बच्‍च‍ियों संग मां की मौत


🗒 बुधवार, अगस्त 17 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मेरठ में दो बच्‍च‍ियों संग मां की मौत

मेरठ, । चार साल पहले मुस्ताक और आयशा एक दूजे पर जान न्योछावर करने के लिए तैयार रहते थे। तब आयशा के इशारा करने पर ही मुस्ताक उसकी हर ख्वाहिश पूरी करता था। मुस्ताक के प्यार में आयशा ने अपने परिवार को भी हमेशा के लिए छोड़ दिया था। ट्रक चालक मुस्ताक के शराब पीने के बाद दोनों में विवाद होने लगा। मंगलवार की सुबह दस बजे आयशा का बटन वाला फोन टूट गया। उसने मुस्ताक से स्मार्ट फोन दिलवाने की जिद की, जबकि मुस्ताक बटन वाले फोन को ठीक कराने की बात कर रहा था। इसी बात को लेकर दंपती में विवाद हो गया। गुस्से में आकर मुस्ताक ने आयशा तो थप्पड़ मार दिया। उसके बाद आयशा ने पहले घर के अंदर रखे कपड़ों में आग लगा दी। उसके बाद दो साल की आइफा और छह माह की अलफिशा को साथ लेकर घर से जंगल की तरफ निकल गई थी।शीशम के पेड़ पर करीब 12 फीट ऊंचाई पर महिला ने दोनों को कैसे चढ़ाया होगा। बच्चों को चढ़ाने के बाद महिला खुद ही पेड़ पर कैसे चढ़ी। उसके बाद अकेली महिला ने एक साथ दोनों बच्चों के गले में दुपटटा बांधकर फांसी पर कैसे लटकाया। बच्चों को दुपटटे से फांसी पर लटकाया और खुद ही लटक गई। तीनों को एक साथ पेड़ पर लटके देखकर यकीन नहीं करेंगा की महिला ऐसा दुस्साहसिक कदम उठा सकती है। इसी के चलते पुलिस ने महिला के पति मुस्ताक को हिरासत में लेकर पूछताछ की। मुस्ताक का कहना है कि ग्रामीणों से उसे आयशा और दोनों बच्चों के पेड़ पर लटके की सूचना मिली है। उसके बाद ही मुस्ताक मौके पर पहुंचा और पुलिस की मदद से शव को नीचे उतरवा कर पोस्मार्टम के लिए भेजा।आयशा सुबह 11 बजे दोनों बच्चों के साथ घर छोड़कर जंगल में चली गई थी। उसके गुस्से में देखकर मुस्ताक ने यूपी-112 पर काल की। पीआरवी के मौके पर पहुंचने के बाद उनके साथ मिलकर आयशा की तलाश की। करीब 12 बजे तक आयशा का कोई पता नहीं चल पाया। उसके बाद पीआरवी ने मुस्ताक को सलाह दी कि थाने पर जाकर सूचना दी। अपने एक साथी के साथ मुस्ताक ने खरखौदा थाने पहुंचकर आयशा के घर से चले जाने की जानकारी दी। पुलिस ने एक तहरीर लिखकर लाने की बात कहकर टरका दिया। उसके बाद मुस्ताक शाम के समय थाने से गांव पहुंचा था। तभी ग्रामीणों से जानकारी मिली कि उसके दोनों बच्चों के साथ आयशा का शव पेड़ पर लटका हुआ है।गोविंदपु़र गांव में शोकत का परिवार निवास करता है। शोकत के चार बेटे शहजाद, मुस्ताक,फरमान और रिजवान है। शहजाद और मुस्ताक की शादी हो गई। शोकत चारों बेटों और पत्नी फरजाना के साथ एक साथ रहता है। मुस्ताक और उसकी पत्नी आयशा 28 वर्ष में काफी दिनों से विवाद चल रहा था। पहले भी विवाद के चलते आयशा अपनी मौसी के घर चली गई थी। तब भी उसे वहां से मुस्ताक लेकर आया था।