मेरठ में हैरतअंगेज, प्रापर्टी के लिए बहू ने कराई थी ससुर की हत्या

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मेरठ में हैरतअंगेज, प्रापर्टी के लिए बहू ने कराई थी ससुर की हत्या


🗒 शनिवार, जुलाई 17 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
मेरठ में हैरतअंगेज, प्रापर्टी के लिए बहू ने कराई थी ससुर की हत्या

मेरठ,। मेरठ में चौंका देने वाला मामला सामने आया है। यहां गांव ततीना में हुए किसान की हत्या के मामले का शनिवार को राजफाश हो गया। बहू ने ही प्रापर्टी की खातिर पांच लाख रुपये की सुपारी देकर वारदात को अंजाम दिलाया था। पुलिस और एसओजी ने बहू के पिता और भाई समेत दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार कर लिया, जबकि दोनों शूटर पुलिस पकड़ से दूर हैं। उनकी धरपकड़ के लिए दो टीमें दबिश दे रही हैं मवाना थाना क्षेत्र के तीना गांव निवासी सत्यपाल की 28 जून को उस वक्त गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जब वह खेत से पानी देकर लौट रहे थे। मृतक के छोटे बेटे दीपेंद्र ने अज्ञात में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। शनिवार को पुलिस लाइन में आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी क्राइम राम अर्ज ने बताया कि मामले की जांच शुरू हुई तो सर्विलांस की भी मदद ली गई। पता चला कि मृतक की बहू शालिनी पत्नी स्व. संजीव निवासी गांव पाली थाना कोतवाली बागपत का ससुराल वालों से विवाद चल रहा है, इसलिए वह मायके में ही रह रही है। वहीं, पर उसकी मुलाकात कपड़ा दुकानदार जुल्फिकार से हुई थी। उसे बताया कि ससुर करीब 42 बीघा जमीन को देवर के नाम करना चाह रहा है।इसके बाद उन्होंने हत्याकांड की योजना बनाई। जुल्फिकार ने बागपत के नया गांव हमीदाबाद निवासी मनोज उर्फ मौजी से शालिनी की मुलाकात कराई। इसके बाद मनोज ने दोनों शूटर सन्नी निवासी नया गांव हामिदा बाद थाना कोतवाली और गौरव निवासी सरूरपुर कला थाना कोतवाली से मिलवाया। पांच लाख रुपये में बात तय हो गई थी। डेढ़ लाख रुपये एडवांस में भी दे दिए थे। इसके बाद शालिनी ने ससुराल में रहने वाले विपिन से संपर्क किया। उसने कुछ दिन तक मृतक की रेकी की थी।इसके बाद मास्टर माइंड शालिनी के भाई ललित ने दोनों शूटरों को गांव दिया। साथ ही पासपोर्ट साइज का फोटो भी उपलब्ध कराया था, ताकि पहचान करने में कोई दिक्कत ना हो। पुलिस ने शालिनी, जुल्फिकार, मनोज, शालिनी के पिता भोपाल और भाई ललित को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वहीं, दोनों शूटर सन्नी और गौरव फरार हैं। एसपी क्राइम ने बताया कि एसओजी टीम और थाना पुलिस को इनाम दिए जाने की संस्तुति की गई है। इस दौरान एसओजी प्रभारी वरुण शर्मा ने बताया कि शालिनी को पति की मौत के बाद लोनी का घर और बीमे की राशि मिलाकर करीब एक करोड़ रुपया मिला था, लेकिन वह संतुष्ट नहीं थी। उसकी नजर करोड़ों रुपये की जमीन पर भी थी।