यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पत्रकार बनकर करते थे ठगी, तीन गिरफ्तार, एक फरार


🗒 मंगलवार, जून 07 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पत्रकार बनकर करते थे ठगी, तीन गिरफ्तार, एक फरार

मुजफ्फरनगर, । एसएसपी से प्रकरण में कार्रवाई कराने के नाम पर महिला से ठगी के साथ धमकी देने के आरोपित तीन फर्जी पत्रकारों को गिरफ्तार कर लिया है। उनका एक साथी फरार हो गया। पुलिस ने पकड़े गए आरोपितों के कब्जे से विभिन्न समाचार पत्रों व न्यूज चैनलों की फर्जी आईडी व आइकार्ड बरामद किए हैं। पुलिस यह भी जांच कर रही है कि उक्‍त लोग पत्रकारिता की आड़ में किसकी शह पर अवैध रुप से धन उगाने का काम कर रहे थे।नगर कोतवाली के मिमलाना रोड के गुडलक पैलेस निवासी नजमा पत्नी स्व. अहसान ने कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था, जिसमें कहा था कि उसके एक विवादित प्रकरण में एसएसपी से कार्रवाई कराने के नाम पर चार फर्जी पत्रकारों ने पांच हजार रुपये लिए थे। मामले में कार्रवाई नहीं होने पर पीड़िता ने अपने रुपये वापस मांगे तो आरोपितों ने उसे धमकियां दी। आरोप है कि सोमवार को आरोपितों ने महिला के घर में घुसकर उसे फर्जी मुकदमे में फंसाने की भी धमकी दी। विरोध करने पर उसे डराया गया। कोतवाली पुलिस ने मामले में कार्रवाई की। सीओ के नेतृत्व में न्याजूपुरा की छप्परवाली मस्जिद के निकट दबिश देकर आरोपित फर्जी पत्रकार सरताज पुत्र अय्युब निवासी मदीना कालोनी, शारिक पुत्र नफीस निवासी हाजीपुरा गांव सरवट, निसार पुत्र रमजानी निवासी मल्हूपुरा को गिरफ्तार कर लिया। वहीं, इनका एक साथी सुमित पुत्र सुशील निवासी केवलपुरी फरार हो गया। पुलिस ने बताया कि चारों आरोपित गैंग बनाकर लोगों से पत्रकार बनकर ठगी करते हैं। आरोपितों के कब्जे से पांच विभिन्न समाचार पत्रों के फर्जी आइकार्ड और न्यूज चैनल की आईडी व दो मोबाइल बरामद किए गए हैं।पुलिस ने बताया कि आरोपित फर्जी पत्रकार सारिक के खिलाफ पूर्व में भी मुकदमे दर्ज है। उसके खिलाफ गोवध अधिनियम, धमकी देने के साथ मारपीट से जुड़े मामले पंजीकृत है। अन्य का भी रिकार्ड खंगाला जा रहा है।फरार आरोपित सुमित लाकडाउन में जनकपुरी स्थित एक चक्की से उगाही कर चुका है। लाकडाउन में चक्की चलती मिलने पर वह अपने साथियों के साथ वहां पहुंचा था, जिसकी मोबाइल से वीडियो बनाकर खुद को पत्रकार बताते हुए कार्रवाई कराने की धमकी दी थी। चक्की मालिक को डराकर इन्होंने वहां से हजारों रुपये की उगाही की थी। पकड़े गए फर्जी पत्रकारों के गैंग के सदस्य एक चरथावल निवासी यूट्यूब चैनल के पत्रकार के साथ भी घूमते थे।