यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लूट करने के पांच आरोपित ग‍िरफ्तार


🗒 रविवार, मई 01 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
लूट करने के पांच आरोपित ग‍िरफ्तार

मुरादाबाद,  मैनाठेर में दो दिन पूर्व आइसक्रीम फैक्ट्री मालिक से लूट करने के पांच आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। पकड़े गए आरोपितों के पास से लूट की पूरी रकम के साथ ही पांच मोबाइल फोन और एक बाइक बरामद की गई है। आरोपितों ने ईद मनाने के लिए वारदात की थी। पुलिस को आरोपितों के खिलाफ कोई आपराधिक इतिहास नहीं मिला है।रविवार को पुलिस लाइन सभागार में जानकारी देते हुए एसपी देहात विद्यासागर मिश्र ने बताया कि बीते 29 अप्रैल की रात करीब सवा 12 बजे महमूदपुर माफी गांव निवासी मुहम्मद उमर के साथ लूट की घटना को अंजाम दिया गया था। वह आइसक्रीम फैक्ट्री का संचालन करते हैं। रात में फैक्ट्री में काम खत्म करने के बाद जब वह बाइक से घर लौट रहे थे,तो फैक्ट्री से सौ कदम की दूरी पर तीन युवकों ने उनका पैसे का थैला छीनकर भाग गए थे।पीड़ित ने थाने में तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया था। घटना के बाद पुलिस की सर्विलांस टीम की मदद से जांच शुरू हुई। पुलिस ने इस मामले में पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया। पूछताछ में फैक्ट्री में काम करने युवक फरमान ने बताया कि वह हाईस्कूल पास है। बीते छह माह से वह फैक्ट्री में काम कर रहा है। ईद के त्योहार को देखते हुए उसने अपने चार साथी मिजाज निवासी महमूदपुर माफी,रियाज निवासी मैनाठेर, शारिक निवासी महमूदपुर माफी, अरबाज निवासी डींगरपुर मैनाठेर के साथ मिलकर फैक्ट्री मालिक को लूटने की योजना तैयार की थी।जिसमें घटना के बाद फरमान ने अरबाज को फोन करके फैक्ट्री मालिक के निकलने की जानकारी दी थी। जिसके बाद उसके अन्य साथियों ने रास्ते में मुहम्मद उमर को रोककर इसके बाद उसका थैला लेकर भाग गए थे। मैनाठेर थाना प्रभारी अमरनाथ वर्मा ने बताया कि फैक्ट्री मालिक ने 25 से 30 हजार रुपये लूट की तहरीर दी थी। जबकि आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने केवल दस हजार सौ रुपये लूटे हैं। पुलिस ने आरोपितों के पास से लूट की पूरी रकम,चार मोबाइल और एक बाइक बरामद की गई है। सभी आरोपितों के खिलाफ लूट का मुकदमा दर्ज करने के साथ ही जेल भेज दिया गया।पकड़े गए सभी आरोपित पढ़े-लिखे हैं। जिसमें एक आरोपित अरबाज बीए प्रथम वर्ष का छात्र है और मौजूदा समय में दिल्ली रोड स्थित एक निजी विश्वविद्यालय से पढ़ाई पूरी कर रहा है। जबकि अन्य आरोपित हाईस्कूल और इंटर की परीक्षा पास करने के बाद अगल-अलग स्थानों में काम करते हैं। सभी आरोपित एक-दूसरे को अच्छी तरह जानते हैं। वहीं जिस फैक्ट्री मालिक को लूटा वह भी उनके पड़ोस में ही रहता है। घटना का पर्दाफाश होने से पहले ही पीड़ित परिवार ने पुलिस से समझौता करने का प्रयास किया था। लेकिन आरोपितों की संलिप्तता के साक्ष्य मिलने के बाद पुलिस ने समझौता मानने से इन्कार कर दिया।