यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जस्टिस चंद्रचूड़ करेंगे ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले की सुनवाई


🗒 शनिवार, मई 14 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
जस्टिस चंद्रचूड़ करेंगे ज्ञानवापी मस्जिद सर्वे मामले की सुनवाई

नई दिल्ली, । सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ वाराणसी में ज्ञानवापी-श्रृंगार गौरी परिसर के सर्वेक्षण के खिलाफ दायर याचिका पर अगले हफ्ते सुनवाई कर सकती है। ज्ञानवापी मस्जिद का प्रबंधन करने वाली कमेटी ने याचिका दायर कर सर्वेक्षण पर रोक लगाने की मांग की है। सुप्रीम कोर्ट की वेबसाइट पर शनिवार को अपलोड किए गए आदेश में यह जानकारी दी गई है। हालांकि, ज्ञानवापी मस्जिद की देखरेख करने वाली अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी की याचिका पर प्रस्तावित सुनवाई की तारीख अभी अपलोड नहीं की गई है।शुक्रवार को प्रधान न्यायाधीश एनवी रमणा, जस्टिस जेके माहेश्वरी और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ ने सर्वेक्षण के खिलाफ यथास्थिति बनाए रखने संबंधी अंतरिम आदेश देने से इन्कार कर दिया था। हालांकि, प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ सुनवाई के लिए याचिका को सूचीबद्ध करने के बारे में विचार करने पर सहमत हो गई थी। मस्जिद पक्ष ने उपासना स्थल (विशेष प्रावधान) कानून, 1991 और उसकी धारा चार का जिक्र किया, जो 15 अगस्त, 1947 को विद्यमान किसी भी उपासना स्थल के धार्मिक स्वरूप में बदलाव को लेकर कोई भी वाद दायर करने या कोई कानूनी कार्रवाई शुरू करने को लेकर प्रतिबंध का प्रविधान करती है।वाराणसी की एक अदालत ने सर्वेक्षण पर रोक लगाने और एडवोकेट कमिश्नर को हटाने की याचिका खारिज कर दी थी। कमिश्नर को ज्ञानवापी-श्रृंगार गौरी परिसर का सर्वेक्षण कर 17 मई को कोर्ट में रिपोर्ट पेश करनी है। स्थानीय अदालत ने फैसला मंदिर पक्ष की याचिका पर सुनाया था, जिसमें मस्जिद की बाहरी दीवार पर मौजूद देवी-देवताओं की मूर्तियों की रोज पूजा करने की अनुमति दिए जाने का अनुरोध किया गया है।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» देश के सभी सीबीएसई स्कूलों में अब खुलेंगे युवा पर्यटन क्लब

» सुप्रीम कोर्ट के दो न्यायाधीश कल लेंगे पद की शपथ

» शहरों से 150 किमी के अंदर बनेगा व्हीकल स्क्रैपिंग सेंटर

» पावर संकट का स्थायी हल निकालने पर मंथन, अमित शाह ने की उच्चस्तरीय बैठक

» उपराष्ट्रपति ने बच्चों की प्रारंभिक शिक्षा मातृभाषा में कराने की वकालत की