यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

देश के हवाई अड्‌डों पर कम होगी CISF सुरक्षाकर्मियों की संख्या


🗒 रविवार, सितंबर 04 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
देश के हवाई अड्‌डों पर कम होगी CISF सुरक्षाकर्मियों की संख्या

नई दिल्ली, । देश में लगभग 1.63 लाख कर्मियों वाले मजबूत CISF के राष्ट्रीय विमानन सुरक्षा बल में 3 हजार से अधिक पदों को समाप्त कर दिया गया है। भारतीय हवाई अड्डों पर असंवेदनशील काम के लिए इन पदों की नियुक्ति के स्थान पर अब हाइटेक सुरक्षा निगरानी वाली मशीनों और निजी सुरक्षा कर्मियों द्वारा काम लिया जाएगा। समाचार एजेंसी पीटीआइ के अनुसार, 2018-19 में शुरू हुई यह कार्य योजना नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (BCAS) और केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) के क्षेत्रीय कार्यालयों के साथ-साथ केंद्रीय नागरिक उड्डयन और गृह मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से 50 नागरिक हवाई अड्डे समेत पूरे देश में लागू की जा रही है।अधिकारियों ने बताया कि इस योजना के अनुसार, विमानन सुरक्षा नियामक बीसीएएस द्वारा तैयार किया गया खाका कुल 3,049 सीआईएसएफ विमानन सुरक्षा पदों को समाप्त करेगा, जिनके स्थान पर 1,924 निजी सुरक्षा कर्मियों द्वारा प्रतिस्थापित किया जाएगा और सीसीटीवी कैमरों और बैगेज स्कैनर जैसी स्मार्ट निगरानी तकनीक को प्रयोग में लाया जाएगा।एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि नए सुरक्षा ढांचे से विमानन क्षेत्र में 1,900 से अधिक नौकरियों का सृजन होता है। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि निजी सुरक्षा कर्मियों को दिल्ली, मुंबई और अन्य हवाई अड्डों पर गैर-संवेदनशील ड्यूटी के लिए तैनात किया जा रहा है। इन ड्यूटी में जैसे कतार प्रबंधन, एयरलाइंस के कर्मचारियों और यात्रियों को सुरक्षा सहायता और टर्मिनल क्षेत्र के भीतर कुछ प्रवेश और निकास बिंदुओं पर काम करना शामिल है।अधिकारी ने यह स्पष्ट किया कि हवाई अड्डे पर यात्रियों प्रवेश के समय उनकी जानकारी की जांच, यात्रियों की तलाशी, सेकेंडरी लैडर प्वाइंट जांच और हवाई अड्डों को आतंकवाद रोधी कवर मुहैया कराने के मुख्य कार्य को जारी रखेगा। सीआईएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वर्तमान में 65 नागरिक हवाई अड्डों की सुरक्षा के लिए तैनात विमानन सुरक्षा समूह (एएसजी) के 33,000 पदों में से कुल 3,049 पद समाप्त किए गए हैं, जिनके स्थान पर 1,924 निजी सुरक्षा कर्मी रखे जाएंगे, जबकि शेष 1,125 पदों का उपयोग किया जा रहा है।