यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

तीन तलाक बिल 22 जनवरी को निरस्त होगा अध्यादेश की तैयारी में सरकार!


🗒 गुरुवार, जनवरी 10 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मुस्लिम महिलाओं के लिए अभिशाप एक साथ तीन तलाक अध्यादेश बतौर एक विधेयक इस महीने स्वत: निरस्त हो जाएगा। इसके राज्यसभा में लटकने के चलते इस बिल के कानून बनने में बाधा आ गई है।

तीन तलाक बिल 22 जनवरी को निरस्त होगा अध्यादेश की तैयारी में सरकार!

सरकारी सूत्रों के अनुसार, अध्यादेश को फिर से लागू किया जाएगा। इसे दोबारा कब लाया जाएगा इस पर अभी कुछ तय नहीं हुआ है। उल्लेखनीय है कि एक अध्यादेश की अवधि छह माह ही होती है, लेकिन जैसे ही संसदीय सत्र शुरू होता है उसे 42 दिनों (छह हफ्ते) के अंदर संसद में पारित करके एक विधेयक का रूप देना होता है। अन्यथा वह स्वत: ही रद हो जाता है। फिलहाल एक साथ तीन तलाक अध्यादेश 22 जनवरी को खत्म हो रहा है। यह पिछले साल 11 दिसंबर को शीत सत्र शुरू होने का 42वां दिन था। हालांकि विधेयक के संसद में पारित नहीं होने पाने पर सरकार के पास यह अधिकार होता है कि वह अध्यादेश को पुन: स्थापित करे।एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 31 जनवरी से शुरू हो रहे बजट सत्र से सिर्फ एक हफ्ते पहले ही यह अध्यादेश खारिज हो रहा है। सरकार फिर इस बिल को सदन में लाने की कोशिश कर सकती है। हालांकि इस अध्यादेश के रद होते ही फिर से इसे जारी करने पर अभी फैसला नहीं हुआ है। एक अन्य विकल्प बजट सत्र के मध्य में यानी फरवरी में इसे दोबारा पेश करना भी हो सकता है।मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक के उत्पीड़न से बचाने के लिए एक नया बिल पिछले साल 17 दिसंबर को लोकसभा में पेश किया गया था। यह बिल सितंबर के एक अध्यादेश की जगह लाया गया था। लोकसभा में तो यह विधेयक पारित हो गया लेकिन राज्यसभा में विपक्षी दलों के विरोध के चलते इसे विचार के लिए पेश ही नहीं किया जा सका। यह विधेयक मंजूरी के लिए लंबित है।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» अब गलत शिकायत पर दंड के प्रावधान पर पुनर्विचार करेगा चुनाव आयोग

» भारत में मोदी सरकार आने से तिब्बत के भी आज़ाद होने की उम्मीद बढ़ी

» इस बार नई लोकसभा में चेहरे ही नहीं पार्टियां भी बदली-बदली नजर आएंगी

» EC ने कहा- अमरनाथ यात्रा के बाद होगी जम्मू-कश्मीर विधानसभा चुनाव की घोषणा

» बिहार में बह रही सियासी बयार, मां राबड़ी के संग हैं तेजप्रताप, तेजस्वी की हो रही तलाश

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला गोंडा में भाजपा के बूथ अध्यक्ष पर कुल्हाड़ी से जानलेवा हमला, हालत गंभीर

» अब गलत शिकायत पर दंड के प्रावधान पर पुनर्विचार करेगा चुनाव आयोग

» प्रयागराज-वाराणसी हाईवे परबिल्टी थी मुर्गी के दाना की लेकिन ट्रक में लदी थी शराब, दो गिरफ्तार

» केंद्रीय कारागार नैनी में शराब पार्टी की फोटो वायरल, जांच शुरू

» अब बाबा दरबार में सक्रिय होगी शिकायत निवारण व्यवस्था, गठित होगा विशेष प्रकोष्ठ