यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

लोकसभा अध्यक्ष ने सुरक्षा में लगी सरकारी गाडि़यां और सुरक्षाकर्मी वापिस किए


🗒 रविवार, मार्च 17 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने अपनी सुरक्षा में लगे वाहन और सुरक्षाकर्मी मध्य प्रदेश सरकार को लौटा दिए हैं। महाजन ने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र लिखकर कहा कि चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। मैंने सरकारी गाडि़यों का उपयोग बंद कर दिया है, इसलिए मुझे प्रोटोकॉल की गाडि़यों और सुरक्षाकर्मियों की आवश्यकता नहीं है।

लोकसभा अध्यक्ष ने सुरक्षा में लगी सरकारी गाडि़यां और सुरक्षाकर्मी वापिस किए

महाजन ने कहा कि लोकसभा अध्यक्ष के संवैधानिक पद पर होने के कारण सुरक्षा गार्ड व पुलिस की गाडि़यां मेरी गाड़ी के साथ चल रही हैं। संवैधानिक पद पर होने के नाते इंदौर में मेरे राजनैतिक कार्यक्रमों के अलावा अन्य कार्यक्रमों में जाने की सुविधा उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी प्रोटोकॉल की होती है।महाजन ने कहा कि अभी न मेरी उम्मीदवारी घोषित हुई है और न ही मैंने कोई चुनावी फॉर्म भरा है और न ही इंदौर लोकसभा चुनाव की अधिसूचना जारी हुई है। फिर भी मैं गाड़ी और सुरक्षा व्यवस्था त्याग रही हूं।गौरतलब है कि मप्र में लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को प्रोटोकॉल के तहत जेड प्लस श्रेणी की सुरक्षा राज्य सरकार उपलब्ध कराती है। 

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» सुप्रीम कोर्ट की विश्व स्तरीय नई इमारत का राष्ट्रपति कोविंद 17 जुलाई को करेंगे उद्धाटन

» करतारपुर कॉरिडाेर पर वार्ता से पूर्व पाक का बड़ा कदम, लेकिन सड़क या पुल पर फंस सकता है पेंच

» केंद्रीय विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2019 लोकसभा में पारित

» अहमदाबाद पहुंचे कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी, मानहानि से जुड़े केस में है पेशी

» भारत में दो दिवसीय दौरे पर USTR अधिकारी

 

नवीन समाचार व लेख

» जिला बाराबंकी में एक युवक ने शादी के 12 घंटे के अंदर ही पत्‍नी को ट्रिपल तलाक मुकदमा दर्ज

» UPPSC के भ्रष्ट अधिकारी सरकार के निशाने पर

» प्रयागराज मे साक्षी की तरह इस लड़की ने घर से भागकर की लव मैरिज, अब वीडियो जारी कर परिवार पर लगाया गंभीर आरोप

» आजम खां पर एक और मुकदमा, 26 किसानों ने जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीन हड़पने का लगाया आरोप

» चोरो का गिरोह सक्रिय प्रशासन नाकाम