यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बंगाल में चुनावी हिंसा की घटनाओं पर निर्वाचन आयोग की बैठक


🗒 बुधवार, मई 15 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पश्चिम बंगाल में जारी चुनावी हिंसा की घटनाओं को लेकर निर्वाचन आयोग राज्‍य के चुनावी पर्यवेक्षक के साथ एक बैठक कर रहा है। उधर, तृणमूल कांग्रेस ने कहा है कि कोलकाता में मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा को लेकर वह निर्वाचन आयोग से शिकायत करेगा। गौर करने वाली बात यह है कि उक्‍त हिंसा की घटना में भाजपा ने तृणमूल कांग्रेस समर्थकों का हाथ बताया है। वहीं तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमला करने के आरोप लगाए हैं।  बता दें कि कोलकाता में मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान पथराव, आगजनी, लाठीचार्ज की घटनाएं हुईं। शाह जिस वाहन पर सवार थे, उस पर डंडे फेंके गए और भाजपा समर्थकों पर पथराव किया गया। भाजपा ने इस हिंसा के पीछे तृणमूल का हाथ बताया है। वहीं तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप लगाया है। पार्टी ने कहा है कि वह निर्वाचन आयोग से इसकी शिकायत करेगी। इस हिंसा में दोनों पक्षों के कई लोग जख्मी हो गए हैं।

बंगाल में चुनावी हिंसा की घटनाओं पर निर्वाचन आयोग की बैठक

पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्‍यक्ष के रोड शो के दौरान हुई हिंसा को लेकर भाजपा नेताओं ने तृणमूल कांग्रेस पर हमला बोला है। भाजपा नेता एवं महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने कहा कि ममता जी आम चुनावों में अपनी हार को नजदीक देखकर हताश हो गई हैं। इसी कारण वह लोकतंत्र की हत्‍या कर रही हैं। मैं निर्वाचन आयोग (Election Commission) से अपील करता हूं कि वह राज्‍य में स्‍वतंत्र एवं निष्‍पक्ष चुनाव कराए। कल गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पश्चिम बंगाल की चुनावी हिंसा के लिए सीधे तौर पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने साफ किया कि संविधान के संघीय ढांचे के तहत कानून-व्यवस्था की पूरी जिम्मेदारी राज्य सरकार की है और वह इससे बच नहीं सकती हैं। पश्चिम बंगाल में चुनावी हिंसा को निंदनीय बताते हुए राजनाथ ने कहा कि लोकतंत्र में इसके लिए कोई जगह नहीं है। उल्‍लेखनीय है कि पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के हर चरण में हिंसा देखी जा रही है। छठे चरण में आठ सीटों पर मतदान के दौरान घाटल से भाजपा प्रत्‍याशी भारती घोष पर हमला किया गया था। एक अन्‍य घटना में इसी चरण की वोटिंग के दौरान प्रदेश भाजपा अध्‍यक्ष दिलीप घोष पर भी हमले की कोशिश की गई थी। गौर करने वाली बात यह है कि पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान केंद्रीय बलों की 713 कंपनियां और  कुल 71 हजार सुरक्षाकर्मियों की तैनाती के बावजूद हिंसा की घटनाएं थम नहीं रही हैं। 

 

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» चिकित्सा शिक्षा क्षेत्र में खत्म होगा इंस्पेक्टर राज, निजी मेडिकल कॉलेजों में नहीं चलेगी फीस की मनमानी

» अयोग्‍य करार दिए गए तीन बागी विधायक खटखटाएंगे सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

» लोकसभा स्‍पीकर के साथ अखिलेश और आजम की मीटिंग, रमा देवी भी मौजूद

» राष्ट्रपति कोविंद बेनिन, गाम्बिया और गिनी के दौरे पर रवाना कई समझौतों पर होंगे हस्ताक्षर

» छत्तीसगढ़ में बचाव मुद्रा में भाजपा, कांग्रेस में शामिल होने का सता रहा डर

 

नवीन समाचार व लेख

» अनवरगंज के कुलीबाजार स्थित जर्जर मकान के दूसरी मंजिल की छत ढही, मलबे समेत गिरी वृद्धा की मौत

» लखनऊ एक्‍सप्रेस वे पर हादसा, कंस्ट्रक्शन कंपनी एपको के वाइस प्रेसीडेंट की पत्नी और बेटे समेत मौत

» शामली में अवैध रूप से रह रहे चार म्यांमार निवासी सहित छह को जेल भेजा

» कौशांबी जनपद में पिपरी थाना क्षेत्र मे पंखे में उतरे करंट की जद में आने से महिला की मौत

» सीतापुर मे गश्त पर निकले होमगार्ड जवानों को डकैतों ने पीटा, रायफल व नकदी लूटी