यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

उपचुनाव की परीक्षा से दूर रहेगी कांग्रेस, प्रदेश पदाधिकारियों ने पार्टी हाईकमान को दी सलाह


🗒 सोमवार, मई 27 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

विधानसभा चुनाव के बाद लोकसभा चुनाव में मिली करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस, प्रदेश में होने वाले 11 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव से कन्नी काट सकती है। पहले संगठन बाद में चुनाव, फार्मूला आजमाते हुए पार्टी पूरा ध्यान संगठन की मजबूती पर देने की तैयारी कर रही है।पार्टी के आधा दर्जन पूर्व विधायकों व प्रदेश पदाधिकारियों ने पार्टी हाईकमान को इस आशय का एक पत्र लिखकर सलाह दी है कि कमजोर संगठन के रहते बार बार चुनावी परीक्षा मेंं फजीहत कराना उचित नहीं है। उपचुनाव में बिना पुख्ता तैयारी के कूदना पार्टी हित में नहीं होगा। बेहतर यह हो कि पार्टी पूरी ताकत से मिशन-2022 को कामयाब बनाने में अभी से जुट जाए। ब्लाक, जिला और प्रदेश स्तर पर जरूरी बदलाव के साथ पुख्ता रणनीति तैयार की जाए। जिस पर अमल करने के साथ पदाधिकारियों की जवाबदेही भी सुनिश्चित की जाए। पत्र में कहा गया कि वर्ष 2017 की मात के बाद से उपचुनावों को लेकर कांग्रेस के अनुभव अच्छे नहीं है। गोरखपुर व फूलपुर जैसी संसदीय सीटों पर हुए उपचुनाव में कांग्रेस बेहद खराब स्थिति में रही। इसके चलते कैराना के उपचुनाव में कांग्रेस ने सपा, बसपा और रालोद गठबंधन को समर्थन करना ही उचित समझा।उल्लेखनीय है प्रदेश के तीन मंत्रियों समेत 11 विधायक लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं। लखनऊ के कैंट क्षेत्र की विधायक व पर्यटन मंत्री रीता बहुगुणा जोशी-इलाहाबाद, कानपुर के गोविंदनगर के विधायक व खादी ग्रामोद्योग व हथकरघा मंत्री सत्यदेव पचौरी-कानपुर तथा फीरोजाबाद के टूंडला विधायक व पशुधन मंत्री एसपी सिंह बघेल-आगरा लोकसभा क्षेत्र से चुनाव जीत गये हैं। इनके अलावा सहारनपुर के गंगोह विधायक प्रदीप चौधरी-कैराना, अलीगढ़ के इगलास विधायक राजवीर सिंह दिलेर-हाथरस, प्रतापगढ़ के विधायक संगमलाल गुप्त-प्रतापगढ़, चित्रकूट के मानिकपुर विधायक आरके पटेल-बांदा, बलहा विधायक अक्षयवर लाल गौड़-बहराइच, जैदपुर विधायक उपेंद्र सिंह रावत-बाराबंकी से सांसद चुने गये हैं। ये सभी भाजपा से हैं जबकि सपा के रामपुर के विधायक आजम खां और जलालपुर के बसपा विधायक रीतेश पांडेय सांसद निर्वाचित हो चुके है।प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर द्वारा इस्तीफे की पेशकश करने के बाद कांग्रेस नए अध्यक्ष का फैसला लेगी। संगठन के ढांचे में बदलाव करते हुए चार जोन बनाना भी प्रस्तावित है।  

उपचुनाव की परीक्षा से दूर रहेगी कांग्रेस, प्रदेश पदाधिकारियों ने पार्टी हाईकमान को दी सलाह

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» सियासी की बिसात पर भाजपा ने चला बड़ा दांव, अनधिकृकत कॉलोनियों को नियमित करने की घोषणा

» पीएम मोदी का किसानों को दीपावली का तोहफा, केंद्र सरकार ने रबी फसलों के समर्थन मूल्य बढ़ाए

» कर्नाटक के 17 बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई कल

» ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने दी तत्काल तीन तलाक रोधी कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती

» 3,300 करोड़ के रक्षा सौदों को मंजूरी, मेक इन इंडिया के तहत होगा निर्माण

 

नवीन समाचार व लेख

» तालाब मे डूबकर हुयी मौत

» भोजन कराना सबसे पुनीत कार्य : राज्यपाल आनंदी बेन

» जानिए क्या है राज्यपाल का मथुरा-वृंदावन आगमन का कार्यक्रम

» सियासी की बिसात पर भाजपा ने चला बड़ा दांव, अनधिकृकत कॉलोनियों को नियमित करने की घोषणा

» बहराइच मे शिक्षक के निलंबन के विरोध में उतरे बच्चे, जांच अफसर का घेराव