यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

मोदी सरकार में बिहार के छह मंत्री; गिरिराज का कद बढ़ा, रामकृपाल-राधामोहन आउट


🗒 गुरुवार, मई 30 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

मोदी सरकार 2 में शामिल मंत्रियों की घोषणा हो गई है। मंत्रियों ने शपथ भी ले ली है। बिहार के हिस्‍से में छह मंत्री आए हैं। सबसे बड़ा फायदा बेगूसराय से जीते गिरिराज सिंह को हुआ है। पिछली बार वे राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) थे, तो इस बार वे कैबिनेट मंत्री बने हैं। विभागों का बंटवारा बाद में किया जाएगा। वहीं, मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में शामिल मंत्री रामकृपाल यादव और राधामोहन सिंह इस बार आउट हो गए हैं। जदयू मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुआ है। 

मोदी सरकार में बिहार के छह मंत्री; गिरिराज का कद बढ़ा, रामकृपाल-राधामोहन आउट

गिरिराज सिंह 
17वीं लोकसभा चुनाव में बेगूसराय लोकसभा क्षेत्र से चार लाख 22 हजार मतों के बड़े अंतर से जवाहर लाल नेहरु विश्वविद्यालय छात्रसंघ (JNUSU) के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार (Kanhaiya Kumar) को हराकर संसद पहुंचने वाले भाजपा के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह (Giriraj Singh) केंद्र में दोबारा मंत्री बने। उन्‍हें राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंत्री पद की शपथ दिलाई। पिछले कार्यकाल में उनके जिम्मे सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग मंत्रालय था। उन्‍हें विभाग में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) थे। लेकिन इस बार उन्‍हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। 

रामविलास पासवान 
देश में गठबंधन की सियासत के महारथियों की चर्चा हो तो उसमें बिहार के राम विलास पासवान (Ram Vilas Paswan) का नाम अग्रिम पंक्ति में लिया जाता है। तीन दशक में जिन कुछ क्षेत्रीय दलों के महारथियों ने सत्ता के सबसे निपुण दांव चले, उनमें लोक जनशक्ति पार्टी  (LJP) सुप्रीमो रामविलास पासवान शामिल रहे हैं। सरकार कोई भी हो, राम विलास पासवान मंत्री जरूर रहे। राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की वर्तमान सरकार में कैबिनेट मंत्री पासवान गुरुवार को फिर एनडीए की नई सरकार में शामिल हो गए। उन्‍होंने मंत्री पद की शपथ ली। राष्‍ट्रपति रामनाथ काेविंद ने पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई। रामविलास पासवान बिहार से राज्‍यसभा भी जाएंगे।  

रविशंकर प्रसाद 
बिहार के पटना साहिब लोकसभा से जीते सांसद रविशंकर प्रसाद दोबारा मंत्री बन गए। उन्‍हें नरेंद्र मोदी की सरकार में फिर शामिल किया गया है। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्‍हें पद व गोपनीयता की शपथ दिलाई। दरअसल पीएम मोदी की कैबिनेट में बिहार से भी लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने वाले कुछ नेताओं को जगह मिली। इसी में रविशंकर प्रसाद को भी शामिल गया। रविशंकर प्रसाद ने पटना साहिब लोकसभा सीट से जीत हासिल की है और कांग्रेस उम्मीदवार शत्रुघ्न सिन्हा को हराया है। 

अश्विनी चौबे 
कांग्रेस सरकार में केके तिवारी के बाद अश्विनी कुमार चौबे बक्सर से ऐसे दूसरे सांसद हैं, जो केंद्र में दोबारा मंत्री बने हैं। चौब मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में मंत्री रहे हैं। उनहें स्‍वास्‍थ्‍य राज्‍य मंत्री की जिम्‍मेवारी दी गई थी। इस चुनाव में लगातार दूसरी बार बक्सर लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने गए चौबे पांच बार भागलपुर का विधानसभा में प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। इन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत पटना विश्वविद्यालय के छात्रसंघ से की और 1978 में छात्रसंघ के अध्यक्ष चुने गए। उन्होंने प्रतिष्ठित पटना साइंस कॉलेज से जूलॉजी में स्नातक किया है। इस बार इन्‍हें राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) बनाया गया है। 

आरके सिंह
नौकरशाह से राजनेता बने 1975 बैच के आईएएस अधिकारी राजकुमार सिंह यानी आरके सिंह को मोदी कैबिनेट में दोबारा शामिल कर लिया गया। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्‍हें मंत्री पद की शपथ दिलाई। वे आरा से दोबारा सांसद बने थे। उन्‍होेंने सीपीआई माले के उम्‍मीदवार राजू यादव को हराया था। इसके पहले भी आरके सिंह केंद्र में मंत्री थे। इन्‍हें भी राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार)  बनाया गया है। 

नित्‍यानंद राय 
बिहार भाजपा अध्यक्ष नित्यानंद राय भी मोदी कैबिनेट में शामिल किए गए हैं। नित्यानंद राय अमित शाह के बेहद करीबी माने जाते हैं। वे पहली बार केंद्र में शामिल हुए हैं। उन्‍हें राज्‍यमंत्री बनाया गया है। उन्हें भाजपा ने वर्ष 2016 में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी थी। उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद गुटों में बंटी बिहार भाजपा को एकजुट कर एक मंच पर ला खड़ा कर दिया। अपने उसूलों और पक्के इरादे को साथ लेकर चलने वाले नित्यानंद राय ने इस बार रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा को हराया है। नित्‍यानंद को राज्‍यमंत्री बनाया गया है। 

रामकृपाल व राधामोहन हुए आउट 
इस बार भले ही बिहार में भी भाजपा की बल्‍ले-बल्‍ले रही। लेकिन मंत्री पद में पिछली सरकार के दो मंत्रियों को आउट कर दिया गया। इस बार पाटलिपुत्रा लोकसभा क्षेत्र से जीते रामकृपाल यादव और पूर्वी चंपारण लोकसभा क्षेत्र से जीते राधामोहन सिंह को मंत्री नहीं बनाया गया है। हालांकि, रामकृपाल यादव के मंत्री बनने की बड़ी उम्‍मीद थी। उन्‍होंने दूसरी बार राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को हराया है। इनके मंत्री नहीं बनने से समर्थकों में निराशा है। 

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी, राजस्थान भाजपा अध्यक्ष को मिला खत

» अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य समारोह रांची में होगा पीएम मोदी रहेंगे मौजूद, तैयारियां शुरू

» सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या समेत लंबित हैं कई बड़े धार्मिक व राजनीतिक मामले

» बिहार कैबिनेट में आठ नए मंत्री शामिल, BJP-LJP को नहीं मिली जगह

» कांग्रेस के नये सांसदों ने राहुल गांधी को घेरा, कहा अपनी मर्जी से नहीं छोड़ सकते अध्यक्ष पद

 

नवीन समाचार व लेख

» डाक पार्सल ट्रक से ले जाई जा रही हरियाणा मेड शराब पकड़ा

» पुलिस बदमाशों मे मुठभेड़ के दौरान तीन बदमाश घायल पुलिस ने दबोचा

» पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी, राजस्थान भाजपा अध्यक्ष को मिला खत

» निदा खान के शौहर शीरान रजा खां ने की दरगाह आला हजरत के सज्जादानशीन से मारपीट

» जिला चंदोली मे बेकाबू ट्रक ने घर के बाहर सो रहे बुजुर्ग को रौंदा; चालक और क्लीनर फरार