MBBS प्रवेश मामले में सुप्रीम कोर्ट का निर्देश- 15 अगस्त तक विदेशी छात्रों को देनी होगी सूचना

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

MBBS प्रवेश मामले में सुप्रीम कोर्ट का निर्देश- 15 अगस्त तक विदेशी छात्रों को देनी होगी सूचना


🗒 मंगलवार, अक्टूबर 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को प्रायोजित श्रेणी में एमबीबीएस प्रवेश मामले में निर्देश दिया है कि वह हर साल प्रवेश की अंतिम तिथि से कम से कम 15 दिन पहले चयनित विदेशी छात्रों को प्रवेश की सूचना देगी। कोर्ट ने कहा है कि केन्द्र सरकार प्रत्येक वर्ष प्रवेश के लिए छात्रों के नाम मंजूर किये जाने की सूचना छात्रों को 15 अगस्त तक दे देगी। सुप्रीम कोर्ट ने ये निर्देश इसलिए दिये ताकि देर से सूचना पाने के कारण विदेशी छात्र प्रवेश से वंचित न रहें। इसके साथ ही कोर्ट ने अंतिम तिथि बीतने के बाद सात विदेशी छात्रों को एम्स में प्रवेश देने का आदेश दिया।यह मामला प्रायोजित श्रेणी से विकसित देशों के छात्रों को एम्स में एमबीबीएस कोर्स में प्रवेश का था। अंतिम तिथि बीतने के कारण एम्स द्वारा प्रवेश देने से मना किये जाने के बाद छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी। कोर्ट गए सात विदेशी छात्रों में तीन लड़कियां और चार लड़के हैं। जिसमें से एक ईरान, दो भूटान और चार नेपाल के हैं।न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव व न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता की पीठ ने वकीलों की दलीलें सुनने के बाद उपरोक्त आदेश दिये। ईरानी छात्रा आरेफी किगनी के वकील आरके गुप्ता ने कोर्ट से एम्स को प्रवेश लेने का आदेश देने की मांग करते हुए कहा कि विदेश मंत्रालय ने 30 अगस्त को प्रवेश के लिए छात्रा का नाम मंजूर होने की सूचना भेजी थी। विदेश से यहां आने में समय लगता है। जब छात्रा 2 सितंबर को प्रवेश लेने एम्स पहुंची तो एम्स ने यह कहते हुए मना कर दिया कि प्रवेश की अंतिम तिथि 31 अगस्त बीत चुकी है।गुप्ता ने कहा कि छात्रा की कोई गलती नहीं है फिर भी उसे प्रवेश नहीं दिया गया। उन्होंने पीठ को गत वर्ष का आदेश दिखाया जिसमें कोर्ट ने ऐसे ही विदेशी छात्रों को प्रवेश के लिए तिथि बढ़ाई थी। नेपाल और भूटान के छात्रों की ओर से भी यही दलीलें दी गईं।कोर्ट ने बहस सुनने के बाद कहा कि इस साल और पिछले साल की घटनाओं को देखते हुए कोर्ट का यह मानना है कि प्रायोजित श्रेणी के विदेशी छात्रों को सरकार को प्रवेश की अंतिम तिथि से कम से कम 15 दिन पहले सूचना देनी चाहिए। दूसरे शब्दों मे कहा जाए तो प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त तक सूचना दे दी जानी चाहिए।कोर्ट ने कहा है कि इस संबंध में संबंधित देश और संबंधित राज्यों की अथारिटी को उम्मीदवारों के बारे में पूर्व सूचना दी जानी चाहिए। मालूम हो कि एमएमबीबीएस प्रवेश के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने प्रवेश का शिड्यूल तय कर रखा है जिसके मुताबिक प्रवेश की अंतिम तिथि 31 अगस्त है।

MBBS प्रवेश मामले में सुप्रीम कोर्ट का निर्देश- 15 अगस्त तक विदेशी छात्रों को देनी होगी सूचना

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» श्रमिक स्पेशल ट्रेनों पर शिवसेना और केंद्र में सियासी तकरार, रेल मंत्री ने मांगा राज्‍यों से सहयोग

» भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद पर शीर्ष स्तर से क्‍यों है चुप्पी?

» सीतारमण ने कहा- कोविड-19 की चाल पर निर्भर करेगी अगले आर्थिक पैकेज की जरूरत

» मोदी विरोधी आयोजनों में क्यों नहीं शामिल होना चाहती है AAP

» राजनाथ सिंह बोले, आर्थिक पैकेज और सुधारों से अर्थव्यवस्था के बदलेंगे हालत

 

नवीन समाचार व लेख

» हमीरपुर महोबा बॉर्डर पर बैल्डिगं करते समय डीज़ल से भरा टैंकर बना आग का गोला , मची अफरा तफरी

» खेतों में दिखे टिड्डयों का झुंड तो करें फोन’डीएम ने बागवानों को एहतियात बरतने का दिया सुझाव

» कोरोना काल में भी गंदा पानी पीने को मजबूर है पलिया वासी

» नीमगांव फीडर की बिजली काट देने से किसानों की फसलों की सिंचाई हो रही बाधित

» पलिया CO राकेश कुमार नायक ने अवैध खनन कर रहे लोगो पर की कड़ी कार्यवाही