यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

चीन ने सीमा पर जो किया उससे पूरा देश आहत, सेना को उचित कदम उठाने की छूट : पीएम मोदी


🗒 शुक्रवार, जून 19 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच जारी विवाद बढ़ गया है। 15-16 जून की रात को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में भारत के 20 जवानों के शहीद होने पर देश के लोगों में भारी गुस्‍सा है। यह पिछले पांच दशक से भी ज्यादा समय में दोनों देशों के बीच हुआ सबसे बड़ा सैन्य टकराव है। इस तनाव को निपटने के लिए कई स्‍तरों पर पहल की जा रही है। तनाव के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को सर्वदलीय वर्चुअल बैठक हुई। इस बैठक में देश के करीब 20 राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि शामिल रहे, जिसमें मौजूदा हालात पर चर्चा हुई। बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री एस जयशंकर, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण, भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा व विभिन्‍न मंत्रालयों के अधिकारी मौजूद रहे ।तेलंगाना सीएम के चंद्रशेखर राव ( KCR) ने घोषणा की कि गलवन घाटी में शहीद हुए कर्नल संतोष बाबू के परिवार को पांच करोड़ रुपये की आर्थिक मदद, एक आवासीय प्लॉट और उनकी पत्नी को ग्रुप-1 की नौकरी मिलेगी। राज्य सरकार ने वहां शहीद हुए अन्य 19 सैनिकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये देने की घोषणा की।- पीएम मोदी ने कहा, आप सभी ने इस बैठक के लिए अपना समय दिया, अपने मूल्यवान सुझाव दिए इसके लिए मैं सभी दलों का , आप सभी नेतृत्व गण का हृदय से बहुत बहुत बहतु आभार व्यक्त करता हूं।- पीएम मोदी ने कहा, ऐसे में हमने जहां एक तरफ सेना को अपने स्तर पर उचित कदम उठाने की छूट दी है, वहीं दूसरी तरफ डिप्लोमैटिक माध्यमों से भी चीन को अपनी बात दो टूक स्पष्ट कर दी है। मैं आपको भी आश्वस्त कर रहा हूं कि हमारी सेना देश की रक्षा के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रही है। तैैनाती हो, ऐक्शन हो, काउंटर ऐक्शन हो, जल-थल-नभ में हमारी सेनाओं को देश की रक्षा के लिए जो करना है, वो कर रही है।- पीएम मोदी ने कहा, मैं आप सभी को, सभी राजनीतिक दलों को फिर से ये आश्वस्त करता हूं कि हमारी सेनाएं, सीमाओं की रक्षा करने में पूरी तरह सक्षम हैं। हमने उन्हें यथोचित कार्रवाई के लिए पूरी छूट दी हुई है। बेहतर हो रहे इंफ्रास्ट्रक्चर से एक मदद ये भी मिली है कि हमारे जवान, जो उस कठिन परिस्थिति में वहां तैनात रहते हैं, उन्हें साजो-सामान पहुंचाने में, आसानी हुई है।- पीएम मोदी ने कहा, साथियों, राष्ट्रहित, देशवासियों का हित हमेशा हम सभी की सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। बीते वर्षों में देश ने अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए, बॉर्डर एरिया में इंफ्रास्ट्रक्चर डवलपमेंट को प्राथमिकता दी है। हमारी सेनाओं की दूसरी आवश्यकताओं, जैसे फाइटर प्लेन्स, आधुनिक हेलिकॉप्टर, मिसाइल डिफेंस सिस्टम आदि पर भी हमने बहुत बल दिया है।- पीएम मोदी ने कहा, इस कारण जिन क्षेत्रों पर पहले बहुत नजर नहीं रहती थी, अब वहां भी हमारे जवान अच्छी तरह से मॉनिटर कर पा रहे हैं। अब तक जिनको कोई पूछता नहीं था, कोई रोकता-टोकता नहीं था, अब हमारे जवान डगर-डगर पर उन्हें रोकते हैं, टोकते हैं तो तनाव बढ़ता है। निश्चित तौर पर, चीन द्वारा एलएसी पर जो किया गया है, उससे पूरा देश आहत है, आक्रोशित है।- पीएम मोदी ने कहा, ये भावना हमारी इस चर्चा के दौरान भी आप सबके माध्यम से बार-बार दिखाई दी है। चाहे ट्रेड हो, कनेक्टिविटी हो, काउंटर टेरेरिज्म हो, भारत ने कभी किसी बाहरी दबाव को स्वीकार नहीं किया है। राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए जो भी ज़रूरी कार्य हैं, जो भी जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण है, उसे इसी तरह तेज गति से आगे भी किया जाता रहेगा।- पीएम मोदी ने कहा, आज हम इतने सक्षम हैं कि कोई भी हमारी एक इंच जमीन की तरफ आंख उठाकर भी नहीं देख सकता। आज भारत की सेनाएं अलग-अलग सेक्टर्स में एक साथ कार्रवाई करने में भी सक्षम है। बीते वर्षों में देश ने अपनी सीमाओं को सुरक्षित करने के लिए सीमा एरिया में इंफ्रास्ट्रक्चर डवलपमेंट को प्राथमिकता दी है। - पीएम मोदी ने कहा कि न वहां कोई हमारी सीमा में घुसा हुआ है, न ही हमारी कोई पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में है। लद्दाख की गलवन घाटी में हमारे 20 जांबाज शहीद हुए, लेकिन जिन्होंने भारत माता की तरफ आंख उठाकर देखा था, उन्हें वो सबक सिखाकर गए। तैनाती हो, कार्रवाई हो या जवाबी कार्रवाई हो, जल-थल-नभ में हमारी सेनाओं को देश की रक्षा के लिए जो करना है, वो कर रही हैं। - शिवसेना प्रमुख और महाराष्‍ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि  हम सब एक हैं। यह भावना है। हम आपके साथ हैं, पीएम हम अपने सुरक्षा बलों और उनके परिवारों के साथ हैं। भारत शांति चाहता है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम कमजोर हैं। चीन का स्वभाव विश्वासघात का है। भारत मजबूत है, मजबूर नहीं। हमारी सरकार में इतनी क्षमता है कि आंखें निकालकर हाथ में दे दे।- समाजवादी पार्टी के नेता रामगोपाल यादव ने कहा कि देश एक है। पाकिस्तान और चीन की 'नीयत' अच्छी नहीं है। भारत चीन का डंपिंग ग्राउंड नहीं है इसलिए चीनी सामानों पर 300 फीसद शुल्क लगाया जाय।

चीन ने सीमा पर जो किया उससे पूरा देश आहत, सेना को उचित कदम उठाने की छूट : पीएम मोदी

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» मध्य प्रदेश में राज्यसभा चुनाव कल, एक-दूसरे के मोहरों पर है सबकी नजर

» मुख्यमंत्रियों संग बैठक में पीएम मोदी ने दिया टेस्टिंग, ट्रेसिंग और आइसोलेशन पर जोर

» छत्‍तीसगढ़ में भाजपा ने पीएम केयर फंड में सिर्फ 83 हजार कार्यकर्ताओं ने जमा कराए फंड, कांग्रेस ने लगाए आरोप

» फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन पर पीएम मोदी का छलका दुख, ट्विटर पर लिखा भावुक संदेश

» कोरोना को लेकर मुख्यमंत्रियों से 16-17 जून को फिर बात करेंगे पीएम मोदी

 

नवीन समाचार व लेख

» चिनहट की कैमिकल फैक्ट्री के ब्वॉयलर में ब्लास्ट, एक मजदूर की मौत- दो महिलाओं समेत सात घायल

» उन्नाव शहर, वार्ड नं 19 के राम नगर में मिला कोरोना पॉजिटिव एरिया शील

» निजी स्कूलों की फीस माफी का कोई आदेश नहीं हुआ जारी-डॉ. दिनेश शर्मा

» चीन ने सीमा पर जो किया उससे पूरा देश आहत, सेना को उचित कदम उठाने की छूट : पीएम मोदी

» कानपुर में 38 तो कन्नौज मिले नए 11 पॉजिटिव