यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

महामारी और झूठी खबरों की दोहरी मार से जूझ रही दुनिया, आर्थ‍िक तंत्र हुआ बर्बाद : विदेश मंत्री


🗒 शनिवार, जून 27 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि मौजूदा वक्‍त में दुनिया कोरोना महामारी और झूठी खबरों के दोहरे हमलों का सामना कर रही है। विश्‍व आज बदलाव के मोड़ पर खड़ा है। महामारी ने दुनिया के समूचे आर्थिक तंत्र को बर्बाद कर दिया है। शुक्रवार को एलायंस ऑफ मल्टीलेटरलिज्म की वर्चुअल मिनिस्ट्रियल मीटिंग को संबोधित करते हुए कहा कि महामारी ने विश्‍वभर में 40 हजार लोगों की जान ले ली है और हमारे रहने, काम करने, यात्रा करने के तौर तरीकों के साथ साथ आपसी रिश्तों पर भी असर डाला है।विदेश मंत्री ने कहा कि दुनिया आज एकबार फि‍र हम परिवर्तनकारी मौके पर खड़े हैं। मौजूदा वक्‍त में बहुपक्षीय जांच के साथ साथ सभी बहुपक्षीय संस्‍थाओं में आमूलचूल बदलाव की जरूरत है। ऐसे वक्‍त में जब महामारी ने हमारे सभी तौर तरीके बदल दिए हैं दूसरों की मौजूदगी से हमारा सुलभ रहन सहन का स्‍तर कम हो गया है। हालांकि विदेश मंत्री ने यह भी कहा कि अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि महामारी ने हमारी जिंदगी और रहन सहन को हमेशा हमेशा के लिए बदल दिया है।जयशंकर ने कहा कि फेक न्यूज, भ्रामक और जान-बूझकर फैलाई जाने वाली झूठी खबरों की वजह से आपसी बातचीत के दौरान भी लोगों के बीच शंका बढ़ गई है। दूसरे शब्‍दों में हम यह कह सकते हैं कि इस दौर में हम स्‍वास्‍थ्‍य संकट के साथ साथ भ्रमक जानकारियों का भी सामना कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि इन दोनों चुनौतियों से निपटने का रास्ता एक ही रास्‍ता नजर आता है। मौजूदा वक्‍त में हमें साइंटिफिक एप्रोच पर ज्यादा यकीन करने की जरूरत है। इसका मतलब यह है कि हमें राजनीति को दरकिनार करके वास्‍तव‍िकताओं पर ध्‍यान केंद्र‍ित करना चाहिए।विदेश मंत्री ने कहा कि कोरोना से निपटने की बात हो या फिर भविष्य में महामारियों से लड़ने की तैयारियों का मसला हो मौजूदा वक्‍त हमें आकलन करने का संकेत देता है कि भविष्य में यदि कोई महामारी आती है तो इसकी तैयारी में हमारे हेल्‍थ मेकेन‍िज्‍म में किन बदलावों को लागू करने की जरूरत है। पिछले महीने वर्ल्‍ड हेल्‍थ एसेंबली में अपनाया गया संकल्प इस महामारी के प्रति हमारी प्रतिक्रिया का आकलन करने और भविष्य की तैयारी के लिए एक सबक है। यह तथ्यों और विज्ञान का उपयोग करने का एक अवसर है। भारत इस लक्ष्‍य को हासिल करने को काम करने के लिए तैयार है।  

महामारी और झूठी खबरों की दोहरी मार से जूझ रही दुनिया, आर्थ‍िक तंत्र हुआ बर्बाद : विदेश मंत्री

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» मप्र की 24 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव में भाजपा-कांग्रेस का खेल बिगाड़ सकते हैं निर्दलीय

» रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर लगाया आरोप, आर्थिक मदद के एवज में चीन के सामने यूपीए सरकार ने टेके घुटने

» सोनिया और राहुल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका, चीन से हुए समझौते पर जांच की मांग

» भारत से पाकिस्‍तान की और बढ़ी कूटनीतिक दूरी, नई दिल्ली उच्चायोग में कर्मचारियों की संख्या आधी करने का निर्देश

» अमित शाह बोले, पीएम मोदी की पहल पर भगवान जगन्‍नाथ रथयात्रा का निकला हल

 

नवीन समाचार व लेख

» आनंद अस्‍पताल के संचालक हरिओम आनंद ने जहर खाकर जान दी

» गाजीपुर में प्रशिक्षण के लिए आए सिपाही ने लगाई फांसी

» वाराणसी में वेतन कटौती को लेकर धरने पर बैठे एंबुलेंस कर्मी

» गांधी परिवार की सोच खुद की प्रगति तक सीमित - स्मृति ईरानी

» अमेठी आइबी व इंटेलीजेंस की टीम सात गाड़ियों से पहुंची सहायक महाप्रबंधक के आवास पर घंटों चली जांच।