यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

NDA में सीटों को ले LJP बनी रही दबाव, JDU की बेरुखी से भड़क रहे चिराग


🗒 गुरुवार, जुलाई 02 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

विधानसभा चुनाव के ठीक पहले नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के प्रति लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) की तल्खी इन दिनों सुर्खियों में है। सीधे-सीधे वे नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली सरकार के काम पर कड़वी टिप्पणी कर रहे हैैं। पिछले दिनों अपने नेताओं को उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग (VC) में कहा- चुनाव में हर स्थिति के लिए तैयार रहें। चिराग के इस रुख को विधानसभा चुनाव में अधिक सीट हासिल करने की रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। जनता दल यूनाइटेड (JDU) का जवाब बहुत साफ है- वह एलजेपी को अपनी सीटें नहीं देगा, सीटों के बारे में वह भारतीय जनता पार्टी (BJP) से बातचीत करे।नोट करने वाली बात यह है कि चिराग की तल्खी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को लेकर अधिक रहती है। चिराग ने राज्य के कुछ जिलों की यात्रा के दौरान कानून और स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर राज्य सरकार की तीखी आलोचना की। गरीबों को मुफ्त अनाज के मामले पर चिराग के साथ केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) भी राज्य सरकार के प्रति सख्त हैं।चिराग की ताजा नाराजगी की दो वजहें मानी जा रहीं हैं। पहली- उन्हें संदेह है कि विधानसभा चुनाव में एलजेपी को लोकसभा चुनाव (LS Election) की उपलब्धियों के हिसाब से सीटें नहीं मिलेंगी। दूसरी- राज्यपाल कोटे से भरी जाने वाली विधान परिषद (Bihar Legislative Council) की 12 सीटों के मनोनयन के मामले में राष्‍ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के सहयोगी के नाते उनकी राय नहीं मांगी जा रही है। इस मामले में जेडीयू और बीजेपी के नेता ही आपस में ही बात कर रहे हैं। वैसे, बिना किसी की राय मांगे, चिराग ने इन 12 सीटों में से दो की मांग की है। उनकी राय है कि बाकी बची 10 सीटें जेडीयू व बीजेपी बराबरी से बांट लें। जेडीयू उनकी राय को तरजीह नहीं दे रहा है। उसका कहना है-सीटें तो जेडीयू व बीजेपी के बीच ही बंटेगीं। बीजेपी चाहे तो अपने हिस्से की सीटों में से एलजेपी को भी दे दे।चिराग की नाराजगी की तीसरी वजह, जिसकी वे चर्चा नहीं कर रहे, यह है-मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उनकी नोटिस नहीं लेते। पत्र भेजते हैं तो राज्य सरकार की ओर से पावती की सूचना भी नहीं दी जाती है।चिराग की टिप्पणी पर विपक्षी दल मजा ले रहे हैं। उन्हें एनडीए में फूट की संभावना नजर आ रही है। बीजेपी के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव बीच बचाव की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने पिछले दिनों चिराग से भेंट की थी। बुधवार को वे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी मिले। गृह मंत्री अमित शाह के साथ-साथ बीजेपी के कई नेता बार-बार कह रहे हैं कि विधानसभा चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। बीजेपी भी सीटों की संख्या को लेकर जिस तरह से सावधान है उसने भी चिराग के गुस्से को बढ़ा दिया है।

NDA में सीटों को ले LJP बनी रही दबाव, JDU की बेरुखी से भड़क रहे चिराग

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» यूपी की गवर्नर आनंदीबेन पटेल ने मध्य प्रदेश के राज्‍यपाल पद के अतिरिक्‍त प्रभार की शपथ ली

» गरीबों को नवंबर तक मिलेगा मुफ्त अनाज, 'एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड' पर काम जारी

» तेलों की कीमतों पर नोकझोंक, पेट्रोलियम मंत्री बोले; मोदी सरकार पैसा गरीबों के खाते में देती है, 'दामाद' के खाते में नहीं

» महामारी और झूठी खबरों की दोहरी मार से जूझ रही दुनिया, आर्थ‍िक तंत्र हुआ बर्बाद : विदेश मंत्री

» मप्र की 24 सीटों पर विधानसभा उपचुनाव में भाजपा-कांग्रेस का खेल बिगाड़ सकते हैं निर्दलीय

 

नवीन समाचार व लेख

» अलीगढ़ मे ई-रिक्शा लूटने वाले गिरोह के तीन सदस्य दबोचे

» ताजनगरी में कुल कोरोना संक्रमित हुए 1253 और 12 केस और बढ़े, एक और मौत

» प्रयागराज में दो संक्रमित मरीजों की मौत,एसआरएन अस्पताल में चल रहा था इलाज

» प्रयागराज मे दुकानदार से मांगी दस लाख की रंगदारी, पुलिस ने एक बदमाश को दबोचा

» मीरजापुर में बीएड की फर्जी डिग्री पर नौकरी करने वाले शिक्षकों के खिलाफ एफआइआर