यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सीमा पर तनाव के बीच जयशंकर की चीनी विदेश मंत्री के साथ लंबी बैठक, भारत की रणनीति से बौखलाया ड्रैगन


🗒 शुक्रवार, सितंबर 11 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सीमा पर तनाव के बीच जयशंकर की चीनी विदेश मंत्री के साथ लंबी बैठक, भारत की रणनीति से बौखलाया ड्रैगन

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीन के विदेश मंत्री वांग यी की बातचीत भारतीय समयानुसार गुरुवार रात आठ बजे मॉस्को में शुरू हुई। दोनों देशों के बीच पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर पिछले चार महीनों से चल रहे सैन्य तनाव के मद्देनजर इस बैठक की अहमियत काफी बढ़ गई है। देर रात खबर लिखे जाने तक बैठक जारी रहने की सूचना है। द्विपक्षीय मुलाकात से पहले दोनों नेता दो अन्य अवसरों पर भी एक-दूसरे के सामने आए। एक बार शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के विदेश मंत्रियों की बैठक में और दूसरी बार रूस, भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की सालाना बैठक में। उधर, पूर्वी लद्दाख से खबर है कि गुरुवार को दोनों देशों के ब्रिगेड कमांडर एवं कमांडिग ऑफिसर स्तर की बातचीत का दौर जारी रहा। इस बातचीत के भी किसी खास नतीजे पर पहुंचने की सूचना नहीं है। हालांकि कमांडर स्‍तर की इस बातचीत को आगे भी जारी रखने की सहमित बनी है और अगली सैन्य वार्ता कोर कमांडर स्तर पर होने की संभावना है। चीनी सेना की तरफ से एलएसी पार करने की कोशिश के बाद से अभी तक दोनों सेनाओं के बीच छह दौर की लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की या कोर कमांडर स्तर की बातचीत हो चुकी है। इसके अलावा विदेश मंत्रालयों के बीच चार दौर की बातचीत हुई है। लगातार बातचीत जारी रहने के बावजूद विवाद बढ़ता ही गया है।चीन मई 2020 से पहले वाली स्थिति पर अपने सैनिकों को लौटाने को तैयार नहीं है। वहीं भारत का कहना है कि उसको इससे कम कुछ भी मंजूर नहीं है। सूत्रों ने कहा है कि भारत संवाद के हर स्तर को बनाए रखने में भरोसा करता है। अगर कोई शांति की राह निकलेगी तो यह बातचीत से ही निकलेगी। भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना को घेरने की रणनीति जमीन पर उतारनी शुरू कर दी है।पिछले एक पखवाड़े में चीनी सेना की तरफ से बेहद आक्रामक रवैया दिखाने के पीछे एक वजह यह भी है कि पैंगोंग झील के दक्षिणी इलाके के कई महत्वपूर्ण ऊंचे इलाकों पर भारतीय सैनिकों ने डेरा डाल दिया है। अब वहां से चीनी सेना की गतिविधियों पर आसानी से नजर रखी जा रही है। चीनी सेना की तरफ से भारतीय सेना को पीछे करने की कोशिशें भी हो रही हैं। हालांकि उन्हें कोई सफलता हाथ नहीं लगी है।पिछले दो दिनों में चीन की सेना ने कोई आक्रामक रवैया नहीं दिखाया है। संभवत: जयशंकर और वांग यी के बीच होने वाली बातचीत के नतीजे की प्रतीक्षा की जा रही है। वार्ता के विभिन्न दौर के बीच चीन का प्रोपेगंडा वार भी तेज है। चीन का सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स गुरुवार को भी लगातार भारत विरोधी बयानों और आलेखों को अपनी वेबसाइट पर जारी करता रहा। ग्लोबल टाइम्स के एक संपादक ने ट्वीट किया कि यदि सर्दियों तक भारतीय सेना एलएसी से पीछे नहीं हटती है तो उसे भीषण सर्दी में हार का सामना करना पडे़गा। कई भारतीय सैनिक भीषण सर्दी या कोविड-19 से मारे जाएंगे। एक आलेख में जयशंकर और वांग यी की वार्ता को मौजूदा हालात को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने की अंतिम कोशिश करार दिया गया है। यदि इसमें कोई नतीजा नहीं निकला तो यह दुनिया को एक खतरनाक संदेश होगा कि इस विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से नहीं सुलझाया जा सकता।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» पंजाब और राजस्‍थान में दरिंदगी की वारदातों पर सियासत गर्म

» कोरोना गाइडलाइन के उल्लंघन पर केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पर केस दर्ज

» चीन और पाक को छोड़कर अमेरिका सभी दक्षिण एशियाई देशों के साथ बना रहा नया समीकरण

» चुनाव आयोग की सिफारिश के बाद सरकार का फैसला, दस फीसद ज्यादा चुनावी खर्च कर सकेंगे उम्मीदवार

» चीन-भारत गतिरोध पर बोले अमित शाह- कोई हमारी एक इंच जमीन भी नहीं ले सकता

 

नवीन समाचार व लेख

» बागपत में सीमेंट व्‍यापारी की हत्‍या का राजफाश,रंगदारी मांगने गए शूटरों ने की थी हत्‍या

» प्रयागराज पुलिस ने बरामद की एक साल की अगवा बच्ची, डॉक्टर दंपती समेत पांच गिरफ्तार

» इलाहाबाद हाई कोर्ट ने बदायूं की बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्या के चुनाव की पत्रावली की तलब

» बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी के शम्मे हुसैनी अस्‍पताल पर चला प्रशासन का बुल्डोजर

» बाराबंकी में फर्जी डिग्री पर नौकरी कर रहे महिला सहित दो शिक्षक गिरफ्तार