यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

बुन्देली बेटियों को आत्मरक्षा के गुर सिखायेंगे ग्रैंड मास्टर


🗒 रविवार, सितंबर 13 2020
🖋 रजत तिवारी, बुंदेलखंड सह संपादक बुंदेलखंड
बुन्देली बेटियों को आत्मरक्षा के गुर सिखायेंगे ग्रैंड मास्टर

क्रासरः विश्व के हर बच्चे को आत्म सुरक्षा के प्रति आत्मनिर्भर बनाने का है संकल्प

फोटो - डा जसवीर सिंह, फादर आफ मार्डन मार्शल।

अरबिद श्रीवास्वव,ब्यूरो

बांदा
विश्व के कई देशों में बच्चों को मार्शल आर्ट की विशेष जानकारी देने वाले जल्द ही बुंदेलखंड में आकर यहां के बच्चों को ट्रेनिंग देंगे। विश्व विख्यात सख्सियत ग्रैंड मास्टर डा. जसवीर सिंह जिन्हें लोग ‘फादर आफ मार्डन मार्शल‘ के नाम से भी जानते हैं। उनका लक्ष्य है कि दुनिया के हर बच्चे को आत्म सुरक्षा की ट्रेनिंग देकर आत्मनिर्भर बनाना है। वीर भूमि बुन्देलखंड भी इनकी प्राथमिकता में है। गै्रंड मास्टर कहते हैं कि बुन्देलखंड की बेटियों को मार्शल आर्ट के गुर सिखाकर उन्हें आत्मरक्षा के प्रति सशक्त बनायेंगे।
गै्रंड मास्टर डा जसवीर सिंह जल्द ही जनपद में आकर यहां के बच्चों को मार्शल आर्ट के गुरों को बतायेंगे। दूरभाष पर हुयी वार्ता के दौरान उन्होंने बताया कि इस समय वह अमेरिका में बच्चों को प्रशिक्षित कर रहे है। लेकिन अपने देश के बच्चों के लिए भी वह समय निकालेंगे। जल्द ही देश में आकर विभिन्न जगहों पर जाकर बच्चों को मार्शल आर्ट के विशेष गुरों से उन्हें लाभान्वित करेंगे। गैं्रड मास्टर डा. जसवीर सिंह जिन्होंने भारत के कपूरथला (पंजाब) से लेकर अमेरिका, यूरोप, इटली, जर्मनी, फ्रांस, जापान, दक्षिण कोरिया, दुबई, चाइना, हॉगकांग, फिलीपींस, इंडोनेषिया, मलेशिया, सिंगापुर, थाईलैंड, आयरलैंड जैसे देशो में जाकर बच्चों को मार्शल आर्ट में जागरूक किया है। अपने लोक कल्याणकारी इस मिशन का ग्लोब लाइजेशन करने के लिए अपना वर्ल्ड स्पोर्टृस मार्शल आर्ट्स काउंसिल जो कि यूनाइटेड नेशन इंटर गवर्नमेंट ऑर्गेनाइजेशन से मान्यता प्राप्त है, की शुरूआत की। जहां से बच्चे इस कला को सीखकर ब्लैक बेल्ट ही नहीं गै्रड मास्टर बनकर अपना कैरियर शुरू कर सकते हैं। गैं्रड मास्टर डाक्टर सिंह की इस लोक कल्याणकारी महान सोंच को देखते हुए उन्हें ‘फादर आफ मार्डन मार्शल आर्ट’ की उपाधि भी मिल चुकी है। डाक्टर सिंह वर्षों पहले भारत में स्पोर्ट्स मैगजीन में एक लेखक, पत्रकार व सम्पादक रहे हैं। बेजोड़ लेखन के क्षेत्र में उन्हें कई सम्मान मिल चुके हैं। पहले से भी कई तरह के वर्ल्ड रिकार्ड उनके नाम हैं। उनके जीवन के इस स्वर्णिम सफर में एक नगीना और जड़ गया है। पूरे विश्व में मीडिया में 51 दिन के अन्दर उनके 76 इंटरव्यू प्रकाशित हुए हैं। साक्षात्कार प्रकाशित होने का सिलसिला अब भी जारी है। डाक्टर जसवीर सिंह कहते हैं कि अपना जुनून जिंदा रखिये और खुद की क्षमताओं और प्रतिभाओं से सबको अचंम्भित करते रहिये। गै्रंड मास्टर डा. जसवीर सिंह वर्तमान में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनार्ल्ड ट्रम्प के एडवाइजरी बोर्ड के सदस्य भी हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया के बच्चों को आत्मरक्षा के लिए यह कला उन तक पहुंचाने का संकल्प है। खासकर वीरभूमि बुन्देलखंड भी उनकी प्राथमिकता में शामिल है। यहां की बेटियों को मार्शल आर्ट से आत्मरक्षा के गुर सिखायेंगे।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» संसद के इस सत्र में 47 विषयों पर चर्चा के आसार

» पूर्व नौसेना अधिकारी की पिटाई पर फड़नवीस ने उद्धव सरकार पर साधा निशाना, कहा- 10 मिनट में छोड़े 6 आरोपी

» देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्‍ट्र सरकार को घेरा, कहा- दाऊद का घर छोड़ दिया और कंगना का तोड़ दिया

» सीमा पर तनाव के बीच जयशंकर की चीनी विदेश मंत्री के साथ लंबी बैठक, भारत की रणनीति से बौखलाया ड्रैगन

» अब नजर मास्को में जयशंकर-वांग यी की मुलाकात पर टिकीं, तेहरान होते हुए मास्को पहुंचे विदेश मंत्री

 

नवीन समाचार व लेख

» महोबा-सरकारी राशन के लिए भटक रहे बिलरही गांव वासी

» महोबा-नहीं रूक रहा कोरेाना का सैलाव संख्या पहुंची 651 - संक्रमितों के आसपास के क्षेत्र को कराया सेनेटाइज

» महोबा-व्यापारी के परिजनो से मुलाकात करने पहुंचे एडीजी प्रयागराज

» बलरामपुर में सड़क पर घंटों पड़ा रहा शव, डिप्टी CMO पर लापरवाही का आरोप

» लखनऊ के कंटेनमेंट जोन में आवागमन पर रोक, शारीरिक दूरी का पालन अहम