यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

संसद के इस सत्र में 47 विषयों पर चर्चा के आसार


🗒 रविवार, सितंबर 13 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
संसद के इस सत्र में 47 विषयों पर चर्चा के आसार

सोमवार से शुरू हो रहे संसद के मानसून सत्र के दौरान कुल 47 विषयों की पहचान की गई है, जिन पर चर्चा होगी। संसदीय कार्य मंत्रालय की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार, यह सत्र सोमवार से शुरू होकर पहली अक्टूबर को समाप्‍त होगा। इस अवधि में कुल 18 बैठकें आयोजित होंगी जिसमें शनिवार और रविवार सहित सभी दिन कार्य दिवस होंगे। इसमें कुल 47 विषय रखे गए हैं जिनमें 45 बिल और 02 वित्तीय मांगे शामिल हैं।कुल ग्यारह विधेयक अध्यादेश की जगह लेने जा रहे हैं। इनमें किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) विधेयक 2020 मूल्य आश्वासन और कृषि सेवा विधेयक 2020 होम्योपैथी केंद्रीय परिषद (संशोधन) विधेयक 2020, भारतीय चिकित्सा केंद्रीय परिषद (संशोधन) विधेयक 2020 शामिल हैं।आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक 2020, दि इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी (दूसरा) संशोधन विधेयक 2020, बैंकिंग विनियमन (संशोधन) विधेयक 2020, टेक्‍सेशन एंड अदर लॉ (रिलेक्‍सेशन ऑफ सर्टेन प्रोविजन) विधेयक 2020, महामारी रोग (संशोधन) विधेयक 2020, मंत्रियों का वेतन एवं भत्ता (संशोधन) विधेयक 2020, संसद सदस्यों का वेतन, भत्ता एवं पेंशन (संशोधन) विधेयक 2020 भी रखे जाने हैं।संसदीय मामलों के मंत्रालय के अनुसार, सत्र के दौरान कुछ महत्वपूर्ण लंबित कानूनों पर भी विचार होना है। इनमें कीटनाशक प्रबंधन विधेयक 2020, राष्ट्रीय चिकित्सा पद्धति आयोग (NCIM) विधेयक 2019, नेशनल कमिशन फॉर होम्योपैथी (एनसीएच) विधेयक 2019 शामिल हैं। ये पहले भी राज्‍यसभा से पास हो चुके हैं। लंबित विधेयकों में द इंस्टीट्यूट ऑफ टीचिंग एंड रिसर्च इन आयुर्वेद बिल 2020, द एयरक्राफ्ट (अमेंडमेंट) बिल 2020, कंपनी (संशोधन) विधेयक 2020, मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रिगनेंसी (अमेंडमेंट) बिल 2020 शामिल हैं। ये लोक सभा से पारित हो चुके हैं।अन्य विधेयकों में सरोगेसी (रेगुलेशन) विधेयक 2020, राष्ट्रीय रक्षा यूनिवर्सिटी विधेयक 2020, राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय विधेयक 2020, भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी कानून (संशोधन) विधेयक 2020, अंतर-राज्यीय नदी जल विवाद (संशोधन) विधेयक 2019, बांध सुरक्षा विधेयक 2019, प्रमुख बंदरगाह प्राधिकरण विधेयक 2020, कोड ऑन सोशल सिक्‍योरिटी एंड वेल्‍फेयर 2019, औद्योगिक संबंध संहिता विधेयक 2019 शामिल हैं जिन्‍हें रखा जा सकता हैै।कोरोना काल में सत्र के लिए तमाम उपाय किए गए हैं। प्रत्येक दिन प्रत्येक सदन के लिए चार घंटे का सत्र होगा (राज्यसभा के लिए सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक और लोकसभा के लिए दोपहर 3 बजे से 7 बजे तक)। सांसदों को दोनों सदनों में दूर दूर बैठने की व्‍यवस्‍था रहेगी। सांसदों की उपस्थिति दर्ज करने के लिए एक मोबाइल ऐप का सहारा लिया जाएगा। सदन में पॉली-कार्बन शीट के साथ सीटों को अलग किया गया है। शून्यकाल होगा और गैर-तारांकित प्रश्न रखे जाएंगे।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» बुन्देली बेटियों को आत्मरक्षा के गुर सिखायेंगे ग्रैंड मास्टर

» पूर्व नौसेना अधिकारी की पिटाई पर फड़नवीस ने उद्धव सरकार पर साधा निशाना, कहा- 10 मिनट में छोड़े 6 आरोपी

» देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्‍ट्र सरकार को घेरा, कहा- दाऊद का घर छोड़ दिया और कंगना का तोड़ दिया

» सीमा पर तनाव के बीच जयशंकर की चीनी विदेश मंत्री के साथ लंबी बैठक, भारत की रणनीति से बौखलाया ड्रैगन

» अब नजर मास्को में जयशंकर-वांग यी की मुलाकात पर टिकीं, तेहरान होते हुए मास्को पहुंचे विदेश मंत्री

 

नवीन समाचार व लेख

» मेरठ में आर्मी इंटेलिजेंस ने पकड़ा फर्जी फौजी, कैंट कनेक्‍शन खंगालने में जुटी टीम

» बुलंदशहर में नौकरी व लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह पकड़ा

» मेरठ में चप्‍पल बेचने के बहाने घर में घुसे, पानी मांगा और लूट की वारदात को दिया अंजाम

» पूर्व सांसद अतीक अहमद के कब्जे से प्रयागराज में नजूल भूमि खाली, दूसरे भूखंड पर भी कार्रवाई

» वाराणसी में मॉडल पूजा पटेल आत्महत्या मामले में पति को भेजा जेल, दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज