यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पीएम मोदी ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक ली, दिए निर्देश


🗒 गुरुवार, जुलाई 08 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पीएम मोदी ने केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक ली, दिए निर्देश

नई दिल्ली,। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक की अध्‍यक्षता की। यह बैठक मंत्रिपरिषद विस्तार और मंत्रियों के प्रभार में फेरबदल के एक दिन बाद हुई है। प्रधानमंत्री आम तौर पर विस्तार या फेरबदल के बाद कैबिनेट मंत्रियों और राज्य मंत्रियों के साथ बैठक करते हैं। प्रधानमंत्री ने पिछले हफ्ते कैबिनेट और राज्य मंत्रियों की बैठक की अध्यक्षता की थी जिसमें कोरोना महामारी से पैदा हुई चुनौतियों पर चर्चा की गई थी।सूत्रों ने बताय कि इस बैठक में पीएम मोदी ने नए मंत्रियों को कुछ टिप्‍स दिए। पीएम मोदी ने नए मंत्रियों से पूर्ववर्तियों से मिलने और उनके अनुभव से सीखने को कहा। नई मंत्रिपरिषद की बैठक में पीएम ने कहा कि जो अब इसका हिस्सा नहीं हैं उन्होंने काफी योगदान दिया है और नए लोग उनसे सीख सकते हैं।पीएम मोदी ने मंत्रियों से समय पर कार्यालय पहुंचने और अपनी सारी ऊर्जा को मंत्रालय के काम में लगाने के लिए कहा। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने मंत्रियों से गरिमा में रहकर काम करने का भी निर्देश दिया। सूत्रों की मानें तो पीएम मोदी ने नए मंत्रियों को अनावश्यक बयानबाजी से बचने की सलाह भी दी।बैठक में पीएम मोदी ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते रहने को भी कहा। पीएम मोदी ने कहा कि हाल के महीनों की तुलना में अब मामलों में कमी आने के चलते लोग बाहर जाना चाह रहे हैं लेकिन सभी को यह याद रखना चाहिए कि कोरोना महामारी का खतरा अभी टला नहीं है। कई अन्य देशों में संक्रमण में वृद्धि देखी जा रही है। वायरस में भी बदलाव हो रहा है।मंत्रिपरिषद की बैठक में पीएम मोदी ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से हम सभी भीड़-भाड़ वाली जगहों और बिना मास्क या सोशल डिस्टेंसिंग के घूम रहे लोगों की तस्वीरें और वीडियो देख रहे हैं। यह सुखद नजारा नहीं है। इससे हममें डरना चाहिए। ऐसे समय में लापरवाही के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। एक गलती के दूरगामी प्रभाव होंगे और कोरोना महामारी पर काबू पाने की लड़ाई कमजोर होगी।इससे पहले पीएम मोदी ने केंद्रीय कैबिनेट की बैठक ली जिसमें स्‍वास्‍थ्‍य और कृषि के क्षेत्र में कई बड़े फैसले लिए गए। इन फैसलों की जानकारी देते हुए केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा कि सरकार ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में महत्वपूर्ण फ़ैसला लिया है। उन्‍होंने बताया कि भविष्य में कोविड से कैसे निपटे उसके लिए 23 हज़ार करोड़ रुपए का पैकेज लाया जाएगा। केंद्र सरकार 15,000 करोड़ रुपए देगी और राज्य सरकारें 8,000 करोड़ रुपए देगी।केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि 736 ज़िलों में पीडिएट्रिक यूनिट बनाए जाएंगे। 20,000 आइसीयू बेड तैयार किए जाएंगे। हर ज़िले में 10,000 लीटर ऑक्सीजन स्टोरेज की व्यवस्था की जाएगी। हर ज़िले में एक करोड़ रुपए की दवाईयों का बफर स्टॉक किया जाएगा। 23,000 करोड़ रुपए के इस पैकेज की सारे प्रावधानों को अगले नौ महीनों में अमल में लाया जाएगा।वहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि देश में नारियल की खेती से उत्पादन बढ़े और किसानों को सहूलियत दिया जा सके इसके लिए 1981 में नारियल बोर्ड एक्ट लाया गया था जिसमें सरकार संशोधन करने जा रही है। बोर्ड का अध्यक्ष गैर शासकीय व्यक्ति होगा। यह किसान वर्ग से होगा जिसे खेती बारी की जमीनी हकीकत पता हो। कृषि मंडियों को और संसाधन मिले इस दृष्टि से प्रयास किया जाएगा। कृषि अवसंरचना फंड को आत्मनिर्भर भारत के तहत एक लाख करोड़ रुपये प्रवर्धित किया गया है उस फंड का उपयोग APMC कर सकेंगी..

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» महाराष्ट्र में बारिश का कहर, सौ से ज्यादा लोगों की मौत

» अमीर और गरीब के लिए अलग नहीं हो सकती न्याय व्यवस्था - सुप्रीम कोर्ट

» दूसरे दिन संसद के दोनों सदनों में किया जमकर हंगामा

» डेल्टा वैरिएंट को लेकर डब्ल्यूएचओ की चेतावनी

» संसद का मानसून सत्र कल से, 31 विधेयकों पर होगी चर्चा