यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

छात्रों को कौशल विकास से जोड़ने के काम में आएगी तेजी


🗒 शनिवार, जुलाई 10 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
छात्रों को कौशल विकास से जोड़ने के काम में आएगी तेजी

नई दिल्ली। मंत्रिमंडल के नए बदलाव में एक ही मंत्री को शिक्षा जैसे महकमे के साथ कौशल विकास की जिम्मेदारी मिलना भले ही कुछ लोगों को अटपटा लग रहा है, लेकिन यह फैसला एक सोची-समझी रणनीति के तहत लिया गया है। इसका मकसद राष्ट्रीय शिक्षा नीति के उन लक्ष्यों को हासिल करना है, जिसमें वर्ष 2025 तक स्कूलों और उच्च शिक्षण संस्थानों में पढ़ने वाले कम-से-कम से 50 फीसद छात्रों को कौशल विकास या व्यावसायिक शिक्षा से जोड़ना है।राष्ट्रीय शिक्षा नीति आने के बाद वैसे तो उसकी सिफारिशों पर अमल का काम तेजी से शुरू हुआ, लेकिन कौशल विकास और व्यावसायिक शिक्षा से जुड़े मोर्चे पर सुस्ती थी। नई पहल से कौशल विकास और व्यावसायिक शिक्षा से सभी छात्रों को जोड़ने का लक्ष्य तय समय पर पूरा हो सकेगा।नीति में छात्रों को व्यावसायिक शिक्षा से जोड़ने यह पहल तब की गई है, जब 12वीं पंचवर्षीय योजना की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि देश में 19 से 24 वर्ष की आयु के भारतीय कार्यबल में सिर्फ पांच फीसद लोग ही औपचारिक रूप से व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त है। वहीं अमेरिका में इस आयु वर्ग में 52 फीसद लोग, जर्मनी में 75 फीसद लोग और दक्षिण कोरिया में 96 फीसद लोग ऐसी शिक्षा प्राप्त हैं। नीति में इन्ही आधारों पर व्यावसायिक शिक्षा की दिशा में तेजी से काम करने की जरूरत बताई गई है।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» शीर्ष वायरस विज्ञानी ने चेताया, तीसरी लहर का भी है खतरा

» सरकार ने की राशन कार्ड की मुश्किलें दूर करने को लेकर विशेष पहल

» पंजाब में कैप्टन के इस्तीफे के बाद अब निगाहें राजस्थान व छत्तीसगढ़ पर

» अब एटीएम से निकलेंगी दवाइयां, हर ब्लाक में लगेगी मशीन

» लों और रेल पटरियों को उड़ाने वाले थे ISI प्रशिक्षित आतंकी

 

नवीन समाचार व लेख

» श्री राम विवाह की कथा श्रवण कर भक्त गण हो गए भाव विभोर

» अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में दो व्यक्तियों की मौत

» स्वर्णकार समाज ने एसपी सिटी का किया सम्मान

» भाजपा नेता लक्ष्मीकान्त रावत ने पीड़ितो को दिया राशन किट

» वयोवृद्ध कलाकार उस्ताद ईशा खां गायकी के द्वारा सरकार के साढ़े चार वर्ष की उपलब्धियों को जगह-जगह रहे है बता