यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अफगानिस्तान से भारत पहुंचे 146 यात्रियों में 2 कोरोना संक्रमित


🗒 सोमवार, अगस्त 23 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अफगानिस्तान से भारत पहुंचे 146 यात्रियों में 2 कोरोना संक्रमित

नई दिल्ली। अफगानिस्तान में लगातार बिगड़ रहे हालात के बीच वहां से अपने लोगों को निकालने का भारत सरकार का मिशन जारी है। रविवार देर रात से सोमवार सुबह 5.10 के बीच विभिन्न मार्गों से एक के बाद एक चार विमान इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंचे, जिसमें 146 यात्रियों को लाया गया। कई लोगों ने कहा कि भारतीय धरती पर पहुंचकर सुकून मिल रहा है। अफगानिस्तान से भारत आने वाले सभी यात्रियों की कोरोना जांच की गई, जिनमें दो यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए। इन्हें क्वारंटाइन किया गया है। इनमें से एक मेघालय व दूसरा आंध्र प्रदेश का रहने वाला है।इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर सबसे पहले कतर एयरवेज के विमान ने रविवार देर रात 1.55 पर लैंडिंग की। इसमें 30 यात्री ऐसे थे, जिन्हें काबुल से सुरक्षित निकालकर यहां पहुंचाया गया। इसके बाद 3.10 बजे एयर इंडिया का विमान रनवे पर उतरा। इसमें एक यात्री थे, जिन्हें काबुल से सुरक्षित निकालकर पहले कतर और फिर यहां लाया गया था। इसके बाद सोमवार सुबह पौने पांच बजे इंडिगो के विमान से 11 यात्रियों को लाया गया। सुबह 5.10 बजे विस्तारा की उड़ान से 104 यात्री उतरे।काबुल से कतर के रास्ते आइजीआइ पर उतरने वाले अधिकांश यात्री वहां दूतावास व अन्य जगहों पर कार्य करते थे। उन्होंने बताया कि अफगानिस्तान में बिगड़ रहे हालात को देखते हुए पहले ही सभी भारतीयों को सतर्क कर दिया गया था। आलम यह था कि लोग कहीं भी बाहर नहीं निकल रहे थे। एक यात्री ने बताया कि 14 अगस्त को ही वह काबुल से विमान में कतर पहुंच गए। फिर वहां से भारतीय दूतावास ने सभी के लिए विमान का प्रबंध किया। एयर इंडिया के विमान से उतरे ताबिदार सरकार ने बताया कि काबुल में तालिबान का खौफ है। वहां लोग दहशत में जीने को विवश हैं। हर कोई अफगानिस्तान छोड़कर किसी और मुल्क में रहना चाहता है।इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर तैनात जिला प्रशासन के एक अधिकारी का कहना है कि सभी यात्रियों की कोरोना जांच की गई, जिनमें दो यात्री कोरोना संक्रमित पाए गए। इन्हें क्वारंटाइन किया गया है। इनमें से एक मेघालय व दूसरा आंध्र प्रदेश का रहने वाला है। 

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» कोविशील्ड वैक्सीन को मंजूरी नहीं देने को भारत ने बताया भेदभावपूर्ण,

» शीर्ष वायरस विज्ञानी ने चेताया, तीसरी लहर का भी है खतरा

» सरकार ने की राशन कार्ड की मुश्किलें दूर करने को लेकर विशेष पहल

» पंजाब में कैप्टन के इस्तीफे के बाद अब निगाहें राजस्थान व छत्तीसगढ़ पर

» अब एटीएम से निकलेंगी दवाइयां, हर ब्लाक में लगेगी मशीन