यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पीएम नरेन्द्र मोदी ने किया नए स्वरूप में जलियांवाला बाग का वर्चुअल उद्घाटन


🗒 शनिवार, अगस्त 28 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पीएम नरेन्द्र मोदी ने किया नए स्वरूप में जलियांवाला बाग का वर्चुअल उद्घाटन

अमृतसर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सौंदर्यीकरण के बाद नए स्वरूप में जलियांवाला बाग का वर्चुअल उद्घाटन कर दिया है। पीएम ने शहीदों को नमन करते हुए कहा कि अंग्रेज हुकूमत ने जलियांवाला बाग में अमानवीयता की सारी हदें पार कर दी थी। यहां आज भी गोलियों के निशान दिखते हैं। पीएम ने कहा कि जलियांवाला बाग वह स्थान है जहां सरदार उधम सिंह, सरदार भगत सिंह सहित हजारों बलिदानियों ने आजादी की लड़ाई लड़ने वालों को हौसला दिया। पीएम ने कहा कि वर्तमान समय में विरासत व विकास को साथ लेकर चलना होगा।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि गुरुबाणी हमें सिखाती है सुख दूसरों की सेवा से ही आता है। हम सुखी तभी होते हैं जब अपनों की पीड़ा को भी अनुभव करते हैं। आज दुनिया भर में कहीं भी कोई भी भारतीय अगर संकट में घिरता है तो भारत पूरे सामर्थ से उसकी मदद के लिए खड़ा हो जाता है। अफगानिस्तान का वर्तमान संकट में हमने निरंतर अनुभव किया है। आपरेशन देवी शक्ति के तहत अफगानिस्तान से सैकड़ों भारतीयों को भारत लाया जा रहा है। वहां चुनौतियां बहुत हैं, हालात मुश्किल हैं। गुरु कृपा भी हम पर बनी हुई है। हम लोगों के साथ पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब के स्वरूप को भी शीश पर रखकर भारत लाए हैं। बीते वर्षो में हमने जिम्मेदारी को निभाने के लिए जी जान से प्रयास किया है। मानवता की जो सीख हमें गुरु साहिब ने दी थी उसे सामने रखकर हम हर परिस्थितियों का सामना करने में सक्षम हैं।पीएम ने कहा कि यहां तक पहुंचने के लिए हमारे पूर्वजों ने कितना त्याग कितना। हर राष्ट्र का दायित्व होता है वह अपने इतिहास को संजो कर रखे। इतिहास में हुई घटनाएं हमें सिखाती भी हैं और आगे बढ़ने की दिशा भी देती है। जलियांवाला बाग जैसी एक और विभीषिका का हमने भारत विभाजन के समय भी संताप भोगा। पंजाब के परिश्रमी और जिंदादिल लोगों विभाजन के बहुत बड़े भुक्तभोगी रहे। विभाजन के समय जो कुछ हुआ उसकी पीड़ा आज भी हिंदुस्तान के सीने में है और विशेषकर पंजाब के परिवारों में हैं। हम इसे अनुभव करते हैं। किसी भी देश के लिए अपने अतीत की ऐसी विभीषिकाओं को नजरअंदाज करना सही नहीं है, इसलिए भारत में 14 अगस्त को हर वर्ष विभाजन की विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में मनाया जाएगा, ताकि आने वाली पीढ़ियों शहादत को याद रखें। विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस आने वाली पीढ़ियों को भी याद दिलाएगी कि कितनी बड़ी कीमत चुका कर हमें स्वतंत्रता मिली है। वह उस दर्द, तकलीफ को समझ सकेंगे जो विभाजन के समय करोड़ों भारतीयों ने सहा था।पीएम ने कहा कि आज हम आजादी के 75 साल मना रहे हैं तो यह आवश्यक है कि हम अपने राष्ट्र की बुनियाद को मजबूत करें। उस पर गर्व करें। आजादी का अमृत महोत्सव आज इसी संकल्प को लेकर आगे बढ़ रहा है। अमृत महोत्सव में आज गांव-गांव में सेनानियों को याद किया जा रहा है। उनको सम्मानित किया जा रहा है। जलियांवाला बाग की तरह ही आजादी से जुड़े दूसरे राष्ट्रीय समारकों का भी नवीनीकरण जारी है।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» कुछ को छोड़ देश के इन राज्यों में अब भी है बिजली का संकट

» पूर्वी लद्दाख में पीछे हटने को लेकर भारत-चीन में हुई वार्ता

» कश्मीर में हुई हिंदू-सिखों की हत्या का संज्ञान ले सुप्रीम कोर्ट

» बिहार में उपचुनाव की दोनों सीटों पर सामने आए 23 धुरंधर

» कश्मीर में चुन-चुनकर गैर मुस्लिमों को मार रहे आतंकी