यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

शीर्ष वायरस विज्ञानी ने चेताया, तीसरी लहर का भी है खतरा


🗒 सोमवार, सितंबर 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
शीर्ष वायरस विज्ञानी ने चेताया, तीसरी लहर का भी है खतरा

नई दिल्ली, । देश को निकट भविष्य में कोरोना महामारी से मुक्ति नहीं मिलने वाली है। कोरोना महामारी बनी रहेगी। स्थानीय स्तर पर मामले बढ़ने पर इसके तीसरी लहर का रूप लेने का खतरा भी है, लेकिन हालात दूसरी लहर जैसी बदतर नहीं होंगे। यह कहना है देश की जानी मानी वायरस विज्ञानी डा. गगनदीप कंग का। उन्होंने नए टीके विकसित करने पर जोर दिया जो कोरोना के नए वैरिएंट से भी निपट सकें।समाचार एजेंसी प्रेट्र के साथ खास बातचीत में कंग ने कहा कि महामारी की दूसरी लहर के बाद भी देश की एक तिहाई आबादी के अभी संक्रमण के चपेट में आने का खतरा बना हुआ है। इसलिए हो सकता है कि कुछ क्षेत्रों में संक्रमण के मामले बढ़ें और देश भर में फैल जाएं।उन्होंने कहा कि त्योहारी सीजन में लोगों की लापरवाही बढ़ी तो तीसरी लहर का खतरा बढ़ सकता है, लेकिन उसकी व्यापकता दूसरी लहर जैसी नहीं होगी। यह महामारी धीरे-धीरे स्थानिक रूप ले सकती है।किसी महामारी की स्थानिक अवस्था तब होती है जब कोई आबादी वायरस के साथ रहना सीखती है। यह महामारी के चरण से बहुत अलग है, जब वायरस आबादी पर हावी हो जाता है। इन्फ्लूएंजा भी एक तरह की स्थानिक बीमारी ही है।डा. कंग ने कहा कि हो सकता है कि कोरोना वायरस का कोई नया वैरिएंट सामने आए जो प्रतिरक्षा को मात दे दे। ऐसी अवस्था में वायरस फिर महामारी का रूप ले सकता है। इसके साथ ही स्थानीय स्तर पर भी यह वायरस बना रहेगा और लोग उसके साथ जीना सीख जाएंगे। इसलिए ऐसे बेहतर टीके विकसित करने की आवश्यकता है जो सार्स-कोव-2 के नए वैरिएंट से निपट सकें।वहीं, देश में कोरोना के मामलों की बात करें तो अभी रोजाना 30 हजार के आस पास नए मामले सामने आ रहे हैं। सोमवार सुबह जारी हुए केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार बीते 24 घंटे के दौरान देश में 30,256 नए मामले पाए गए। इस दौरान 295 लोगों की कोरोना से मौत हुई है। वहीं बीते 24 घंटे में 43,938 लोग ठीक होकर घर लौट गए।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» सरकार ने की राशन कार्ड की मुश्किलें दूर करने को लेकर विशेष पहल

» पंजाब में कैप्टन के इस्तीफे के बाद अब निगाहें राजस्थान व छत्तीसगढ़ पर

» अब एटीएम से निकलेंगी दवाइयां, हर ब्लाक में लगेगी मशीन

» लों और रेल पटरियों को उड़ाने वाले थे ISI प्रशिक्षित आतंकी

» मैं किसी विचारधारा से समझौता कर सकता हूं, पर आरएसएस और भाजपा से नहीं : राहुल गांधी