यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अब पढ़ाई के साथ पर्यटन स्थलों का भी कराया जाएगा भ्रमण


🗒 शुक्रवार, सितंबर 24 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
अब पढ़ाई के साथ पर्यटन स्थलों का भी कराया जाएगा भ्रमण

नई दिल्ली। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति की एक और अहम सिफारिश को शिक्षा मंत्रालय ने तेजी से आगे बढ़ाया है। इसमें छात्रों को पढ़ाई के साथ देश के प्रमुख ऐतिहासिक और कला-संस्कृति से जुड़े पर्यटन स्थलों का भ्रमण कराया जाना है। शिक्षा मंत्रालय ने पर्यटन मंत्रालय के साथ मिलकर देश के ऐसे सौ स्थलों की सूची तैयार की है, जहां छात्रों को भ्रमण के लिए ले जाया जा सकेगा। इनमें सबसे अधिक आठ पर्यटन स्थल अकेले मध्य प्रदेश के हैं, जबकि उत्तर प्रदेश के सात व बिहार के पांच पर्यटन स्थल शामिल हैं।शिक्षा मंत्रालय की इस पहल के बाद विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को पर्यटन स्थलों की इस सूची के साथ ही यह निर्देश दिया है कि वे राष्ट्रीय शिक्षा नीति की सिफारिश को ध्यान में रखते हुए छात्रों को इन स्थलों के भ्रमण की योजना बनाएं। हालांकि, कोरोना प्रतिबंधों के हटने के बाद ही इस पर अमल करने का सुझाव दिया गया है। वैसे भी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने घरेलू पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए सभी लोगों से देश के कम से कम 10 पर्यटन स्थलों पर भ्रमण का सुझाव दिया है।राष्ट्रीय शिक्षा नीति के मुताबिक इस पहल से छात्र ऐसे स्थलों के इतिहास, वैज्ञानिक योगदान, परंपराओं आदि से भी परिचित हो सकेंगे, जो अब तक वे किताबों में ही पढ़ते रहे हैं। छात्रों में भारत भ्रमण की जिज्ञासा भी बढ़ेगी। साथ ही इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। वहीं नई पीढ़ी देश की समृद्ध विरासत, विविधता, संस्कृति, भाषा और ज्ञान से जुड़ेगी। नीति में इस पूरी मुहिम को 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' की योजना से जोड़ने का सुझाव भी दिया गया है। इसमें एक-दूसरे राज्य की संस्कृति और भाषा से छात्रों को परिचित कराया जाता है। गौरतलब है कि इस पहल से स्कूली बच्चों को भी जोड़ने की सिफारिश की गई है।

छात्रों के भ्रमण के लिए चिह्नित कुछ प्रमुख राज्यों के पर्यटन स्थल

उत्तर प्रदेश-आगरा, प्रयागराज, झांसी, सारनाथ, श्रावस्ती, कुशीनगर, कपिलवस्तु।

मध्य प्रदेश-अमरकंटक, भीमबेटका, ग्वालियर फोर्ट, खजुराहो, जबलपुर, मांडू, पचमढ़ी, सांची।

बिहार-नालंदा, बोधगया, वैशाली, राजगीर, सासाराम।

उत्तराखंड-ऋषिकेश, मसूरी, नैनीताल।

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» कोविशील्ड वैक्सीन को मंजूरी नहीं देने को भारत ने बताया भेदभावपूर्ण,

» शीर्ष वायरस विज्ञानी ने चेताया, तीसरी लहर का भी है खतरा

» सरकार ने की राशन कार्ड की मुश्किलें दूर करने को लेकर विशेष पहल

» पंजाब में कैप्टन के इस्तीफे के बाद अब निगाहें राजस्थान व छत्तीसगढ़ पर

» अब एटीएम से निकलेंगी दवाइयां, हर ब्लाक में लगेगी मशीन