यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कोरोना टीकाकरण पर संदेह नहीं कर सकते - सुप्रीम कोर्ट


🗒 शुक्रवार, नवंबर 26 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कोरोना टीकाकरण पर संदेह नहीं कर सकते - सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली, । सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि वह इस मुश्किल घड़ी में देश में कोरोना वायरस के खिलाफ चलाए जा रहे टीकाकरण कार्यक्रम पर कोई संदेह नहीं कर सकता। लोगों का टीकाकरण नहीं कराने की ढिलाई की कीमत देश सहन नहीं कर सकता है। विश्व भर में लाखों-करोड़ों लोग टीका लगवा रहे हैं। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एएस बोपन्ना की पीठ ने याचिकाकर्ताओं अजय कुमार गुप्ता और अन्य को अपनी याचिका की प्रति सालिसिटर जनरल को मुहैया कराने को कहा, ताकि वह अपना जवाब दे सकें।याचिका में कहा गया है कि टीकाकरण के प्रतिकूल प्रभाव के चलते हजारों लोगों की मौत हुई है। सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा, 'हमारे यहां एक व्यवस्था है, टीकाकरण के बाद किसी भी तरह के प्रतिकूल प्रभाव पर नजर रखने के लिए दिशानिर्देश तय किए गए हैं। असंतुष्ट हमेशा रहेंगे, लेकिन नीति उनके अनुसार नहीं बनाई जा सकती है।' जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, 'आप अकल्पनीय नहीं कह सकते। हमें टीकाकरण के लाभ को भी देखना होगा। हम यह संदेश नहीं दे सकते हैं कि टीकाकरण में कोई समस्या है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इसे मंजूरी दी है, लाखों लोग इसे लगवा रहे हैं। विश्व भर में टीकाकरण चल रहा है। यहां तक कि अमेरिका जैसे विकसित देशों में भी टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा है। हम इस पर केवल संदेह नहीं कर सकते।'पीठ ने कहा कि हमें समग्र रूप से देश की भलाई को देखना होगा। विश्व का एक ऐसी महामारी से सामना हुआ है, जिस तरह की महामारी हमने अपने जीवन में नहीं देखी है। यह राष्ट्रहित में है कि लोग टीका लगवाएं। इसमें किसी तरह की ढिलाई की कीमत को हम सहन नहीं कर सकते हैं। पीठ ने कहा कि मौतों के लिए केवल टीकाकरण को ही कारण नहीं बताया जा सकता है, इसकी और भी कई वजहें हो सकती हैं। याचिका में टीकाकरण को स्वैच्छिक और पूर्व सूचना के साथ लगाने के लिए सरकार को निर्देश देने का आग्रह किया गया है। 

राष्ट्रीय से अन्य समाचार व लेख

» अमित शाह ने उद्योगपतियों को पूर्वोत्तर में निवेश के लिए किया आमंत्रित

» ओबीसी आरक्षण के वर्गीकरण का काम फिलहाल पूरा, बनेंगी चार श्रेणियां

» कोविड डेथ में परिजनों को मुआवजे के मसले पर सुप्रीम कोर्ट गुजरात सरकार से नाराज

» राजस्थान में 11 कैबिनेट और चार राज्य मंत्रियों ने ली शपथ

» अनुकंपा के आधार पर नौकरी प्रदान करने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट ने किया रद