यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

अभी भी यूपी पुलिस के 1.30 लाख पद हैं खाली ऐसे कैसे अपराध पर लगाम लगा पाएगी यूपी पुलिस


🗒 मंगलवार, नवंबर 27 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह मंगलवार को पुलिस अकादमी स्थित प्रेक्षाग्रह में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे अाइपीएस को व्यवहार मधुर बनाने की हिदायत दी है। उन्होंने बताया कि अपराध पर अंकुश लगाने के लिए जरूरी है कि पुलिस व्यवहार अच्छा बनाने के साथ आमजन को मित्र बनाए। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 1.30 लाख पुलिस कर्मियों के पद रिक्त हैं। जब पूरे प्रदेश की पुलिस में सवा लाख से ज्यादा पद खाली हों तो फिर उस राज्य की पुलिस व्यवस्था कैसी होगी यह आप समझ ही सकते हैं। इसमें विभाग की भी तारीफ की जानी चाहिए कि इतने पद रिक्त होने के बावजूद राज्य में कानून व्यवस्था बनाने में जुटे रहते हैं।

अभी भी यूपी पुलिस के 1.30 लाख पद हैं खाली ऐसे कैसे अपराध पर लगाम लगा पाएगी यूपी पुलिस

ट्रेनी आइपीएस की क्लास में अनुशासन, इमानदार, कर्तव्यनिष्ठता का पाठ पढ़ाया। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत और सामाजिक जीवन मे कोई अंतर नहीं रखे। अच्छा नागरिक बनना है और अच्छे तरीके से परिवार भी चलना है। पब्लिक को मित्र बनाना है। यही कामयाबी का मंत्र है।डीजीपी ने कहा कि अच्छी ट्रेनिंग बेहद जरूरी है। पुलिस के लिए प्रशिक्षण सबसे महत्वपूर्ण होता है। प्रदेश में फिलहाल प्रशिक्षण का पर्याप्त स्थान नहीं है। प्रशिक्षण क्षमता का अभाव है और हम सिर्फ छह हजार लोगों को ही प्रशिक्षण दे सकते हैं।प्रशिक्षण के लिए हमें दूसरे की मदद लेनी पड रही है। इसलिए वर्ष २०१९ को प्रशिक्षण वर्ष के तौर पर मनाया जाएगा। उन्होंने हिदायत दी है कि व्यवहार का प्रशिक्षण महत्वपूर्ण है।

नहीं होनी चाहिए संवादहीनता 
पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा कि मेरी कोशिश रहती है कि संवादहीनता न ह।  इसे दूर करने का प्रयास करता रहता हैं। संवाद से सही स्थिति की जानकारी होती है। उन्होंने कहा कि पुलिस बल में एकजुटता जरूरी है।उन्होंने समझाया कि पुलिसजन के व्यवहार की कमी न हो तथा संवेदनहीन व्यक्ति कभी न्याय प्रिय नहीं होता है। इसलिए खुद को सक्षम और सशक्त बनाएं। उन्होंने सवाल उठाया कि जब इतिहास और स्वरूप जबअच्छा तब छवि क्यों खराब हो रही है। 

मित्र पुलिस क्यों करती है मारपीट
उन्होंने शाहजहांपुर में सिपाही से ठेले वाले के विवाद का जिक्र करते हुए कहा कि मारपीट का कारण समझ से परे है। हम आम लोगों के बीच से आते हैं, फिर हमारा व्यवहार कैसे बदल जाता है। हमे आम लोगों जैसा व्यवहार करना होगा तभी आमजन का भरोसा जीत सकते हैं। 

पुलिस के घोड़े गए कुंभ मेले में
डीजीपी ने पुलिस अकादमी में निरीक्षण के दौरान घोड़ों की जानकारी ली। बताया कि घोड़े कुंभ मेले में गए हुए हैं। तीन बार में 22 घोड़े जल्द मिलने वाले हैं अकादमी को। उन्होंने बताया गया कि ग्रास कटर व घोड़ों की देखभाल के औजार 21 होने चाहिए हैं, लेकिन वह सिर्फ तीन हैं। इसका प्रस्ताव भेजा है। बताया कि एसआइ  का पासिंग आउट परेड सितंबर तक हो जाएगा। छह डीएसपी की पीओपी भी जल्द हो जाएगी। डीजीपी ओपी सिंह ने अकादमी में संभ्रांत लोगों से मुलाकात की। शहर विधायक रितेश गुप्ता, देहात विधायक हाजी इकराम कुरैशी, बिलारी विधायक फहीम, बाल विकास समिति डॉ.  विशेष गुप्ता, डॉ, मंजेश राठी, डॉ. अनुराग अग्रवाल, आरएसडी एकाडमी से जी कुमार, टीएमयू से सुरेश जैन व मनीष जैन, राजीव कोठीवाल आदि से अपराध और पुलिस की जानकारी ली।

हमारी पुलिस से अन्य समाचार व लेख

» लखनऊ SSP ने पेश की मानवता की मिसाल, गाड़ी रोकर लहुलूहान युवक को भेजा अस्पताल

» अब UP COP app के जरिये अब घर बैठे एफआइआर दर्ज कराने लगे पीडि़त, 27 सुविधाएं और भी

» UP पुलिस की साप्ताहिक अवकाश योजना ‘छुट्टी’ पर है

» बड़ा बदलाव ला सकता है पुलिस सुधार आयोग

» राजधानी में 21 साल पहले शहीद हुए दारोगा आरके सिंह की जांबाजी और शौर्य की याद AK 47 को देख भी नहीं हिले थे कदम, छह गोलियां खाने के बाद भी डॉन को दबोचे रहे

 

नवीन समाचार व लेख

» डाक पार्सल ट्रक से ले जाई जा रही हरियाणा मेड शराब पकड़ा

» पुलिस बदमाशों मे मुठभेड़ के दौरान तीन बदमाश घायल पुलिस ने दबोचा

» पीएम मोदी को जान से मारने की धमकी, राजस्थान भाजपा अध्यक्ष को मिला खत

» निदा खान के शौहर शीरान रजा खां ने की दरगाह आला हजरत के सज्जादानशीन से मारपीट

» जिला चंदोली मे बेकाबू ट्रक ने घर के बाहर सो रहे बुजुर्ग को रौंदा; चालक और क्लीनर फरार