यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पीलीभीत में खुले में शौच को गई महिला को बाघ ने मार डाला


🗒 सोमवार, मार्च 05 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पीलीभीत में खुले में शौच को गई महिला को बाघ ने मार डाला

घर में शौचालय न होने की कीमत एक महिला को जान देकर चुकानी पड़ी। चचेरी बहन के साथ खुले में शौच को गई थी, जहां बाघ ने हमला कर दिया। उसे खींचता हुआ सड़क से काफी दूर गन्ने के खेत में ले गया।

जान बचाकर भागी दूसरी महिला ने गांव पहुंच कर परिजनों को सूचना दी। कुछ ही देर में सैकड़ों ग्रामीण लाठी डंडा लेकर घटनास्थल पर पहुंचे। तब तक महिला मर चुकी थी। शोरशराबा देख बाघ शव को छोड़कर गन्ने के खेत में छुप गया। मौके पर पहुंची वन विभाग की टीम ने बाघ को ट्रैंकुलाइज करके पिंजरा में कैद कर लिया।

पूरनपुर के जहानाबाद इलाके में यह बाघ अर्से से आतंक का पर्याय था। गांव सिकलापुर निवासी गिरिजा देवी होली से कुछ दिन पूर्व गांव वीरखेड़ा चांदूपुर स्थित अपने मायके आईं थीं। सोमवार सुबह गिरजा चचेरी बहन नीतू के साथ गांव के बाहर सुबह शौच को गई थीं। उसी दौरान अचानक सड़क पर बाघ आ गया। उसे देखकर दोनों बहने गेहूं के खेत में छिप गईं। जान बचाने के लिए दोनों बहनें गेहूं के खेत में पांच मिनट तक दौड़ती रहीं। बाघ भी उनके पीछे लपका और गिरजा पर हमलाकर दबोच लिया। लगभग तीन सौ मीटर की दूरी पर स्थित गन्ने के खेत में खींचकर ले गया।घर पहुंची नीतू ने परिजनों को पूरी घटना बताई। ग्रामीण लाठी डंडा लेकर गन्ने के खेत में पहुंचे। सूचना पुलिस प्रशासन व वन विभाग के अधिकारियों को दी। वन विभाग ने ट्रैक्टरों एवं जेसीबी मशीन से बाघ पकडऩे का अभियान चलाया गया। करीब सवा घंटा चले ऑपरेशन के बाद तीसरी गोली में अपरान्ह सवा बारह बजे बाघ ट्रैंकुलाइज करके पिंजरे में कैद किया गया। बरेली वृत्त के वन संरक्षक पिनाकी प्रसाद सिंह ने बताया कि पकड़ा गया नर बाघ है।