यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

प्रतापगढ़ मे सीबीआइ के शिकंजे में फंसे उप डाकपाल और कैशियर निलंबित


🗒 सोमवार, दिसंबर 02 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

प्रतापगढ़ के उप डाकघर कुंडा में एजेंट से रिश्वत लेने के मामले में सीबीआइ के शिकंजे में फंसे उप डाकपाल व कैशियर को प्रवर डाक अधीक्षक ने निलंबित कर दिया है। दोनों कर्मचारियों का प्रभार अन्य कर्मियों को सौंप दिया गया है। दोनों कर्मचारियों की गिरफ्तारी और उन पर की गई कार्रवाई से कर्मचारियों में खलबली मची है। उधर, शनिवार को देर रात तक जांच के बाद दोनों डाक कर्मियों को सीबीआइ टीम अपने साथ लखनऊ ले गई।संग्रामगढ़ थाना क्षेत्र के धनगढ़ गांव के कुंवर प्रभात सिंह की पत्नी एजेंट शुभा सिंह ने कर्मचारियों के रिश्वत लेने की शिकायत सीबीआइ से की थी। इस पर सीबीआइ की लखनऊ ब्रांच की टीम ने शनिवार दोपहर अचानक उप डाकघर कुंडा में दस्तक दी और रंगे हाथ कैशियर सूरज मिश्र और उप डाकपाल संतोष कुमार को रिश्वत लेते पकड़ लिया। जांच के दौरान कैश में 970 रुपये अधिक मिला, जिसका हिसाब कैशियर व उप डाकपाल नहीं दे सके। जांच के बाद सीबीआइ संतोष को उसके पैतृक आवास पट्टी और शहर में देवकली स्थित आवास पर ले गई। वहां से आने के बाद लखनऊ लेकर चली गई। जांच के दौरान दोनों डाककर्मियों के मोबाइल फोन के सिम को कब्जे में लेते हुए मोबाइल उनके स्वजनों को दे दिया। सीबीआइ अन्य बिंदुओं पर भी जांच कर रही है।प्रवर डाक अधीक्षक केएस वाजपेयी ने बताया कि सीबीआइ द्वारा की गई गिरफ्तारी के बाद कैशियर सूरज मिश्रा और उप डाकपाल संतोष कुमार को निलंबित कर दिया गया है। उनके खिलाफ विभागीय जांच भी की जाएगी। उधर, सीबीआइ का छापा कुंडा बाजार में चर्चा का विषय बना रहा। आरोपित उप डाकपाल संतोष के शहर स्थित आवास पर रविवार को सन्नाटा पसरा रहा। घर पर ताला लटक रहा था।उप डाकघर में आवर्ती जमा राशि में प्रति लाट 100 रुपये अतिरिक्त जमा कराना कैशियर व उप डाकपाल को महंगा पड़ गया। सीबीआइ से यह शिकायत की गई थी कि 30 हजार रुपये का एक लाट होता है। एक लाट जमा करने के एवज में दोनों कर्मचारी 100 रुपये अधिक मांगते हैं। सीबीआइ टीम के साथ पहुंचे अभिकर्ता शुभा सिंह के पति कुंवर प्रभात सिंह ने शनिवार को ग्राहकों का करीब 10 लाख रुपये जमा किया। जब कैश का मिलान किया गया तो सीबीआइ टीम को मौके पर 970 रुपये अधिक मिला। पूछने पर उक्त पैसे का हिसाब कैशियर नहीं दे सके। सूत्रों के मुताबिक सीबीआइ टीम पांच दिन से उप डाकघर की कार्यप्रणाली पर पर नजर रखे हुई थी।कुछ इसी तरह का प्रकरण दो साल पहले जेठवारा उप डाकघर में सामने आया था। ग्राहक व एजेंट की शिकायत पर सीबीआइ ने छापा मारा था। इसमें कई कर्मचारियों पर कार्रवाई भी की थी। अब दूसरी कार्रवाई सीबीआइ ने कुंडा में की है। इससे एक बार डाकघर चर्चा में आ गया है।रिश्वतखोरी में पकड़े गए उप डाकपाल की लाखों रुपये की इमारत शहर के देवकली में लहलहा रही है। छोटी सी कमाई में इतनी बड़ी इमारत खड़ी करने पर सवाल उठ रहा है। मोहल्ले के लोग भी घटना को लेकर हैरान हैं। आस-पास के लोगों के अनुसार देवकली मेंं बने मकान में दो से तीन नौकर ही रहते हैं, जो इसकी देखभाल करते हैं। परिवार के लोगों का भी आना जाना लगा रहता है।

प्रतापगढ़ मे सीबीआइ के शिकंजे में फंसे उप डाकपाल और कैशियर निलंबित

प्रतापगढ़ से अन्य समाचार व लेख

» प्रतापगढ़ के कुंडा पोस्टआफिस में सीबीआइ का छापा

» प्रेस क्लब महामंत्री पद पर त्रिकोणात्मक लड़ाई के आसार

» प्रतापगढ़ में सेल्समैन पर पिस्टल की बट से हमला करके बदमाशों ने 1.68 लाख लूटे

» जरूरतमंदों से कोसों दूर सरकारी योजनाएं, दलित मजदूर को नही मिला पीएम आवास

» संविधान दिवस के 70 वर्ष पूर्ण होने पर पुलिसकर्मियों ने संविधान की रक्षा करने की शपथ ली

 

नवीन समाचार व लेख

» इस बारआइटीआइ और पॉलीटेक्निक में होगी मुंशी-मौलवी की परीक्षाएं

» नवोदय विद्यालय की छात्रा की मौत पर प्रशासन गंभीर मैनपुरी के डीएम भी हटाए गए

» औरैया नवनिर्मित एसडीएम कोर्ट भवन में कुरान पढ़वाने का Video Viral, डीएम ने शुरू कराई जांच

» मैनपुरी में रुपए न जमा करने पर नहीं दी ऑक्सीजन, जुड़वा नवजात शिशुओं की मौत

» मुजफ्फरनगर SSP का आदेश, जिम जाएंगी महिला सिपाही वरना कटेगी तनख्वाह