यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने नोएडा प्राधिकरण के पूर्व चीफ इंजीनियर की जमानत खारिज की


🗒 शुक्रवार, मई 31 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

सत्ता को अपनी उंगलियों पर लंबे समय तक नचाने वाला नोएडा अथारिटी का पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह कोर्ट के आगे मजबूर है। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने आज नोएडा अथॉरिटी के पूर्व मुख्य अभियंता यादव सिंह की जमानत याचिका खारिज कर दी।इलाहाबाद हाई कोर्ट में आज यादव सिंह के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति मामले में जमानत पर सुनवाई थी। न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा की कोर्ट ने यादव सिंह की जमानत याचिका को खारिज कर दियाकरोड़ों की आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में फंसे नोएडा अथॉरिटी के पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह को सीबीआई ने गिरफ्तार किया था। भ्रष्टाचार, आपराधिक साजिश, धेखाधड़ी, फर्जीवाड़ा और कानून के उल्लंघन में फंसे नोएडा अथॉरिटी के पूर्व चीफ इंजीनियर यादव सिंह की अकूत दौलत और ऊंची राजनैतिक पैठ के बारे में किसी को कभी गलतफहमी नहीं रही। उसके काले कारनामों के ढेरों कागजात वर्षों से मुख्यमंत्री कार्यालय, सीबीसीआईडी, आयकर विभाग और प्रवर्तन निदेशालय में पड़े रहे थे। इसके बावजूद उनकी सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ा था। इसके बाद जब सीबीआई ने शिकंजा कसा तो जेल के अंदर कर दिया।

 इलाहाबाद हाई कोर्ट ने नोएडा प्राधिकरण के पूर्व चीफ इंजीनियर की जमानत खारिज की

यूपी में मायावती की सरकार थी, तब यादव सिंह नोएडा अथॉरिटी का चीफ इंजीनियर था। उस दौरान जमकर पैसा कमाया। इसके बाद वर्ष 2012 में अखिलेश यादव की नई सरकार आई और उस पर शिकंजा कसने का नाटक हुआ। सीबीसीआईडी जांच भी हुई, लेकिन फटाफट क्लीनचिट मिल गई। इसके साथ ही तोहफे में नोएडा के अलावा ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी और यमुना एक्सप्रेसवे अथॉरिटी की चीफ इंजीनियरी भी मिल गई। हजार करोड़ रुपये की दौलत के मालिक यादव सिंह पैसा कमाने की वह सरकारी मशीन बन गए, जिसे सजा देना तो दूर, हाशिए पर डालने की कोशिश भी कोई सरकार नहीं कर सकी।सत्ता को अपनी उंगलियों पर नचाने का गुमान रखने वाले यादव सिंह का जन्म आगरा के गरीब दलित परिवार में हुआ था। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में डिप्लोमाधारी यादव सिंह ने 1980 में जूनियर इंजीनियर के तौर पर नोएडा अथॉरिटी में नौकरी शुरू की। 1995 में प्रदेश में पहली बार जब मायावती सरकार आई तो 1995 में 19 इंजीनियरों के प्रमोशन को दरकिनार कर सहायक प्रोजेक्ट इंजीनियर के पद पर तैनात यादव सिंह को प्रोजेक्ट इंजीनियर के पद पर प्रमोशन दे दिया गया। इसके साथ ही उन्हें डिग्री हासिल करने के लिए तीन साल का समय भी दिया गया।इसके बाद 2002 में यादव सिंह को नोएडा में चीफ मेंटिनेंस इंजीनियर (सीएमई) के पद पर तैनाती मिल गई। नौ साल तक वे सीएमई के पद पर ही तैनात रहा। यह इस प्राधिकरण में इंजीनियरिंग विभाग का सबसे बड़ा पद था। इस वक्त तक अथॉरिटी में सीएमई के तीन पद थे। यादव सिंह ने कई पद खत्म कराकर अपने लिए इंजीनियरिंग इन चीफ का पद बनवाया। 

प्रयागराज से अन्य समाचार व लेख

» प्रतियोगी छात्र ज्ञान प्रकाश की हत्या के तीन आरोपित गिरफ्तार

» उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग अधीनस्थ सेवा चयन आयोग दिसंबर तक कराएगा दस भर्ती परीक्षाएं

» प्रयागराज मे प्रतियोगी छात्र की गोली मारकर हत्या, प्रयागराज-लखनऊ राजमार्ग पर रास्ताजाम किया

» बैंक ऑफ इंडिया की सुलेमसरांय शाखा से करेंसी चेस्ट से सवा चार करोड़ रकम उड़ाने का खेल

» नैनी सेंट्रल जेल में फिर छापा, मिला गांजा और पेन ड्राइव

 

नवीन समाचार व लेख

» कानपुर मे बीवी ने ही रची थी शौहर की हत्या की साजिश

» अलीगढ़ में सांसद कार्यालय पर जले युवक की दिल्ली में मौत

» आगरा के भाजयुमो नेता ने टूंडला में किया 'तमंचे पर डिस्को', वीडियो वायरल

» प्रतियोगी छात्र ज्ञान प्रकाश की हत्या के तीन आरोपित गिरफ्तार

» केजीएमयू की बिजली केबल में फॉल्ट आने से 13 घंटे गुल रही बिजली, मचा हाहाकार