यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रेलवे का निजीकरण किसी भी कीमत में नही किया जाएगा -रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव


🗒 शनिवार, अप्रैल 09 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
रेलवे का निजीकरण किसी भी कीमत में नही किया जाएगा -रेल मंत्री अश्वनी वैष्णव

एमसीएम मजदूर संघ का प्रतिनिधी मंडल भी हुआ अधिवेशन में शामिल

अध्यक्ष एमसीएफ मजदूर संघ आदर्श सिंह बघेल के पैर में चोट की वजह से नहीं हो सके शामिल

रायबरेली-  लालगंज रायबरेली रेलकोच, लालगंज से चेन्नई गये मॉडर्न कोच फैक्ट्री मज़दूर संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि भारतीय रेलवे मजदूर संघ का 20वां त्रैवार्षिक अधिवेशन चेन्नई में 9 व 10 अप्रैल को चल रहा है। जिसमें मुख्य अतिथि माननीय रेल मंत्री, भारत सरकार श्री अश्विनी वैश्नव जी ने अपने संबोधन में स्पष्ट शब्दों में कहा कि रेलवे का निजीकरण नहीं किया जाएगा और ना ही ऐसा कोई विचार चल रहा है। रेलवे के आधुनिकीकरण के लिए नये नये टेक्नोलॉजी को रेलवे में स्थान दिया जा रहा है जैसे स्वदेशी टेक्नोलॉजी से विकसित वंदे भारत ट्रेनसेट हो या ट्रेन टकराने की दुर्घटना से बचाव के लिए स्वदेशी "कवच" टेक्नोलॉजी हो इसको रेल व यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखकर अपनाया जा रहा है। रेलवे के निजीकरण ना करने की बात रेल मंत्री जी ने अपने संबोधन में कई बार दोहराया और कहा विपक्ष के लोग केवल सरकार पर निराधार आरोप लगाते रहते हैं। इस पर ध्यान ना देते हुए सरकार नित प्रतिदिन रेलवे के विकास और यात्रीयों के सुविधा के लिए अपने कर्मचारियों के साथ मिलकर कार्य कर रही है। कीमैन/ट्रैकमैन और लोको पायलट की समर्पित ड्यूटी का उदाहरण देते हुए कहा प्रत्येक विभाग के रेलवे कर्मचारी के समर्पण भाव को नमन किया। रोजगार के मुद्दे पर स्पष्टीकरण देते हुए कहा कि जब से वर्तमान सरकार सत्ता में आई है तब से केवल रेलवे के अंदर साढ़े तीन लाख नौकरियां दी जा चुकी है एवं एक लाख चालीस हजार रिक्त पदों को भरने पर काम हो रहा है, जो जल्द पूरा किया जाएगा। भारतीय रेलवे मजदूर संघ को अपना रेल परिवार बताते हुए कहा कि आप जब कभी अपनी समस्याओं को लेकर आयेंगे हम गंभीरता से विचार करेंगे क्योंकि आप राष्ट्रहित को सर्वोपरि मानते हुए रेल हित और कर्मचारी हित में बिना मान्यता के कार्य कर रहे हैं।भारतीय रेलवे मजदूर संघ के केंद्रीय अध्यक्ष श्री अरविन्द कुमार सिंह ने कानपुर में बीते दिनों ट्रैकमैन के द्वारा आत्महत्या का मुद्दा उठाते हुए कर्मचारियों पूरे रेलवे में इसी तरह अधिकारीयों द्वारा शोषण का मुद्दा रेलमंत्री जी के सामने उठाया। अधिवेशन में एमसीएफ मज़दूर संघ के महामंत्री सुशील गुप्ता जी ने एमसीएफ से जुड़े विभिन्न महत्वपूर्ण मांगों का मेमोरंडम महामंत्री भारतीय रेलवे मज़दूर संघ के महामंत्री जी को सौंपा, इस अधिवेशन में सुशील गुप्ता के साथ जितेंद्र सिंह, रामसन अग्रहरि व गिर्राज सैनी आदि पदाधिकारी एमसीएफ से सम्मिलित हुए।

संवाददाता अमरेन्द्र यादव

रायबरेली से अन्य समाचार व लेख

» समझौते के नाम पर पेशकार ने पीड़ित से लिए रुपये-वीडियो वायरल

» ऐहार में तलाब की जमीन पर हो रहे अवैध निर्माण के चलते चला बुलडोजर

» रायबरेली में शराब माफ‍िया की 1.29 करोड़ की संपत्ति कुर्क

» 11 से रामकथा व 16 को श्री हनुमान जी का प्राणप्रतिष्ठा कार्यक्रम

» प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना के लिए करे संपर्क