यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

पर्यावरणविद अमृता देवी के बलिदान दिवस पर एमसीएफ मजदूर संघ ने किया वृक्षारोपण


🗒 सोमवार, अगस्त 29 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
पर्यावरणविद अमृता देवी के बलिदान दिवस पर एमसीएफ मजदूर संघ ने किया वृक्षारोपण

संवाददाता अमरेन्द्र यादव

रायबरेली । आधुनिक रेल कोच कारखाने कीमजदूर संघ यूनियन ने पर्यावरण बिद अमृता देवी के बलिदान दिवस पर वृक्षारोपण कर लोगों को पर्यावरण ठीक रखने के बाबत प्रेरित किया है ।एमसीएफ मजदूर संघ के कार्यकारी अध्यक्ष आदर्श सिंह बघेल ने बताया कि 1730 ईस्वी में राजस्थान के खिजड़ी गांव में "अमृता देवी" ने पेड़ों को बचाने के लिए पेड़ों से चिपककर अपना और अपने तीनों बेटियों का बलिदान दिया था और पूरे गांव में 363 आदमियो ने पर्यावरण बचाने हेतु पेड़ के काटने के विरोध में "विश्नोई समाज" के लोगो ने पेड़ से चिपककर कट कर प्राण गंवाए थे। ऐसे प्रकृति, पर्यावरण व पेड़ो के प्रति प्रेम विश्व मे ऐसी घटना कही नही मिलेगी ।भारतीय मजदूर संघ द्वारा अमृता देवी बलिदान को हर बर्ष 28 अगस्त को "पर्यावरण दिवस" के रूप में मनाते हुए वृक्षारोपण किया जाता है।इसी के तहत मॉडर्न रेलकोच फैक्ट्री मजदूर संघ के कार्यकर्ताओं ने टाइप-2 मंदिर के प्रांगण में वृक्षारोपण किया गया इस अवसर पर महामंत्री सुशील गुप्ता , जितेंद्र सिंह, अमित साहनी अकबाल बहादुर, गिर्राज सैनी, रजनीश कौशल, कुणाल रोशन, सचिन साहू, धर्मेंद्र लोधी आदि ने मुख्य रूप से वृक्षारोपण किया।

रायबरेली से अन्य समाचार व लेख

» अंतर्राष्ट्रीय रेलवे एथलेटिक्स चैंपियन 2022 का हुआ शुभारंभ

» पुरानी रंजिश में बाइक सवार युवकों ने मारी गोली

» राज्यमंत्री दिनेश प्रताप सिंह ने क्सप्रेस बस सेवा को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना

» राणा बेनी माधव की स्मृतियों को संजोने का काम कर रही समितिः सीएम योगी

» आंगनबाड़ी केन्द्रों पर आज लगेगी पोषण पाठशाला

 

नवीन समाचार व लेख

» अंतर्राष्ट्रीय रेलवे एथलेटिक्स चैंपियन 2022 का हुआ शुभारंभ

» बेख़ौफ़ चोरों ने पुष्प वाटिका का गेट लेकर हुए फरार मुकदमा दर्ज

» करंट की चपेट में आने से भैंस की मौत महिला घायल

» सड़क हादसे में बाइक सवार दम्पत्ति की मौत

» भाई के अत्याचार से परेशान पीड़िता ने प्रेस कांफ्रेंस कर मिडिया व अधिकारीयों को सुनाई अपनी पीड़ा,