यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रायबरेली मे एसडीएम ने खाते से जबरन न‍िकाले साढ़े छह लाख रुपये, पूर्व व‍िधायक बोले- कर लूंगा आत्‍मदाह


🗒 मंगलवार, अगस्त 13 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

एक राष्ट्रीयकृत बैंक ने एसडीएम के निर्देश पर पूर्व विधायक के खाते से साढ़े छह लाख रुपये तहसलीदार के पदनाम कर दिए। जानकारी पर उपभोक्ता बिफर पड़े। आरोप जड़ा कि न चेक और न ही विदड्राल और कोई नोटिस भी नहीं। फिर कैसे एकाउंट से पैसा निकाला गया? उन्होंने इसे तहसील प्रशासन द्वारा शाखा प्रबंधक पर दबाव बनाकर मनमानी का आरोप लगाया। कहा, पैसा न मिलने पर 14 अगस्त को आत्मदाह करेंगे। पूर्व विधायक सरेनी सुरेंद्र बहादुर स‍िंंह का आरोप है कि आठ अगस्त को उपजिलाधिकारी जीतलाल सैनी ने उनके बैंक खाते से तहसीलदार पद नाम से 667700 रूपये का बैंकर्स चेक बिना उनकी अनुमति व बिना जानकारी के शाखा प्रबंधक पर दबाव बनाकर जारी करा लिया। उन्होंने लगभग 25 साल पहले लालगंज-फतेहपुर मुख्यमार्ग पर स्थित गेंगासो गंगापुल के पथकर वसूली का टेंडर डाला था। सर्वाधिक बोली लगाने के बाद भी ठेका नहीं लिया था। जिस पर उनकी एक लाख रूपये की जमानत राशि जब्त कर ली गई थी। इसके बाद भी उक्त ठेके के पंजीकरण में लगने वाले स्टांप शुल्क के नाम पर उक्त धनराशि की वसूली अब की गई है। लेकिन न तो उन्हें कोई नोटिस दी गई और न सूचना।आरोप है कि विधिक तरीकों को दरकिनार कर मनमाने तरीके सेे उनके खाते से धन की वसूली की गई है। यदि धनराशि वापस बैंक खाते में न डाली गई तो वह बुधवार की सुबह 11 बजे एसडीएम कार्यालय के सामने आत्मदाह के लिए मजबूर होंगे। उन्होंने इस मामले की न्यायिक जांच कराए जाने की बात भी कही है। उप जिलाधिकारी लालगंज जीतलाल सैनी ने बताया क‍ि राजस्व वसूली में एक प्राविधान ये भी है कि बकाएदार का खाता सीज करते हुए उसका धन सीधे आहरित किया जा सके। इस प्रकरण में ऐसा ही हुआ है। पैसा तहसीलदार के पदनाम को ट्रांसफर किया गया है। उनसे सवाल हुआ कि चेक, ड्राफ्ट और विदड्राल के बिना यह कैसे संभव है। वो भी जब खातेदार हस्ताक्षर तक न करे। वे बोले- विशेष परिस्थितियों में ऐसे नियम हैं। एलडीएम विजय शर्मा ने बताया क‍ि  मुझे पूरे प्रकरण की जानकारी नहीं है। लेकिन कुछ ऐसे पावर हैं जब सरकारी बकायों को इस तरह वसूला जा सकता है। राजस्व वसूली के मामले में हो सकता है कि उक्त बैंक मैनेजर ने प्रशासन के पत्र के आधार पर कार्रवाई की हो। मूलरूप से तेजगांव निवासी सुरेंद्र बहादुर स‍िंंह सरेनी विधानसभा क्षेत्र के विधायक रह चुके हैं। उनके पिता स्व. रतनपाल  स‍िंंह की पहचान गरीबों व असहायों की मददगार के रूप में आज भी है। बताया जाता है कि उन्होंने बनारस ह‍िंंदू विश्वविद्यालय में वाणिज्य संकाय बनवाने के लिए करोड़ों रूपये दान दिए थे, जिसके चलते उन्हें दानवीर भी कहा जाता है। पूर्व विधायक सुरेंद्र बहादुर ने भी कानपुर व वाराणसी यूनीवर्सिटी में करोड़ों रूपये का दान दिया है।

रायबरेली मे एसडीएम ने खाते से जबरन न‍िकाले साढ़े छह लाख रुपये, पूर्व व‍िधायक बोले- कर लूंगा आत्‍मदाह

रायबरेली से अन्य समाचार व लेख

» सरकारी धन के घोटाले में सेक्रेटरी और प्रधान पर एफआइआर

» वाहन चोरो का भंडफोड़ 16 बाइक वा 7 बन्दी

» रायबरेली के कोतवाली क्षेत्र मे देवर ने घर में घुसकर दुष्कर्म किया

» छिवलहा गांव में चोरों ने उड़ाए लाखों का सामान

» थाने के बाहर फरियादियों पर दलालों का पहरा

 

नवीन समाचार व लेख

» अब वाराणसी में भी कोर्ट के फैसले से रैदासियों में रोष, यथास्थिति की उठी मांग

» डीएम व एसएसपी ने जिला जेल में की छापेमारी, मिलीं खामियों को दुरूस्त करने का निर्देश

» अयोध्या रामजन्म भूमि परिसर में आतंकी हमला मामले में अभियुक्तों को फांसी की सजा दिलाने के लिए हाई कोर्ट में होगी अपील

» रायबरेली मे एसडीएम ने खाते से जबरन न‍िकाले साढ़े छह लाख रुपये, पूर्व व‍िधायक बोले- कर लूंगा आत्‍मदाह

» स्वतंत्र देव सिंह के साथ हादसे ने VIP सुरक्षा पर खड़े किए सवाल