यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

डायग्नोस्टिक सेंटरों पर छापे, मची खलबली


🗒 बुधवार, सितंबर 11 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

रायबरेली भ्रूण के लिग की पहचान बताने वालों की धरपकड़ के लिए सोमवार को शहर में अभियान चलाया गया। प्रशासन के साथ स्वास्थ्य महकमे के अधिकारियों ने छापेमारी की। हालांकि, कहीं कोई ऐसी बात सामने निकलकर नहीं आई, लेकिन सेंटर चलाने वालों में खलबली जरूर मची रही।
जिलाधिकारी नेहा शर्मा के निर्देश पर यह अभियान चलाया गया था। डीएम के आदेश पर ही सिटी मजिस्ट्रेट जुगराज सिंह के नेतृत्व वाली एक टीम गठित की गई। जिसमें स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एसके चक को शामिल किया गया था। अफसर अपने अन्य मातहतों के साथ दोपहर शहर में निकले। कचहरी रोड और जिला अस्पताल के आसपास खुले पांच डायग्नोस्टिक सेंटरों की पड़ताल की। सेंटरों से जांच कराने वालों के मोबाइल नंबर लेकर उनसे बातचीत की। इस बात की पुष्टि की गई कि कहीं किसी को भ्रूण के लिग के बारे में तो नहीं बताया गया। मगर, कहीं से ऐसी कोई बात सामने नहीं आई। एसीएमओ ने बताया कि डॉ. एसके जैन, डॉ. जीएस पांडेय के सेंटर और लाइन लाइन पैथोलॉजी समेत कुल पांच सेंटरों की जांच हुई थी।
रिपोर्ट लक्ष्मीकांत शर्मा ब्यूरो चीफ

डायग्नोस्टिक सेंटरों पर छापे, मची खलबली