यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

रायबरेली में किशोरी से हुए दुष्कर्म मामले में अब DNA रिपोर्ट सामने लाएगी असलियत


🗒 शुक्रवार, अक्टूबर 30 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
रायबरेली में किशोरी से हुए दुष्कर्म मामले में अब DNA रिपोर्ट सामने लाएगी असलियत

रायबरेली, रायबरेली में किशोरी से हुए दुष्कर्म मामले में असल गुनहगार की पहचान के लिए डीएनए टेस्ट कराया जा रहा है। इसके लिए पीड़िता के नवजात बच्चे और आरोपितों का सैंपल शुक्रवार को जिला अस्पताल में लिया गया। रिपोर्ट आने पर दुष्कर्मी की असलियत सामने आ जाएगी।  गौरतलब है ये संगीन वारदात फरवरी-मार्च 2020 की है। गांव की 16 वर्षीय किशोरी से दुष्कर्म किया गया। जब उसे गर्भ ठहर गया तो स्वजन कार्रवाई के लिए थाने पहुंचे। पहले गांव के ही शक्ति रैदास के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। बाद में किशोरी ने राघवेंद्र सिंह पर यही आरोप लगाए तो उसका नाम भी केस में शामिल कर लिया गया। सीओ ने चार्जशीट दाखिल कर आरोपितों को जेल भेज दिया। हाल ही में किशोरी को प्रसव के लिए जिला अस्पताल लाया गया। हालत गंभीर होने पर उसको लखनऊ रेफर कर दिया गया। वहां उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई। इस कारण बाराबंकी के मीम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां उसने स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया। जच्चा-बच्चा जब घर लौट आए तो पुलिस ने नवजात के असल पिता की पहचान के लिए डीएनए टेस्ट कराने का निर्णय लिया। भदोखर निरीक्षक रामाशीष उपाध्याय दोनों आरोपितों को जेल से लेकर जिला अस्पताल आए। यहां उनकी सैंपलिंग कराई। नवजात का भी सैंपल लिया गया।जानकारों का कहना है कि दुष्कर्म के मामले में पहली बार डीएनए रिपोर्ट का सहारा रायबरेली पुलिस ले रही है। इसके पहले ऊंचाहार में बच्चे की अदला-बदली के एक मामले में डीएनए के लिए सैंपलिंग तो हुई थी, लेकिन रिपोर्ट नहीं आई थी।

रायबरेली से अन्य समाचार व लेख

» ब्लॉक राही में विधिक साक्षरता एवं जागरुकता शिविर का किया गया आयोजन

» ग्रामों की भूमि गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना हेतु पुनग्र्रहीत: डीएम

» दबंगों ने युवक को पीट पीटकर किया अधमरा जान से मारने की की कोशिश

» जनपद में 1000 लाभार्थियों को मिली आवास की चाभी

» विधिक सेवा गतिविधियों को जन-जन को दी जा रही है जानकारी