यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

श्मशान घाट पर लकड़ियों की कमी, घाटों पर शवों की चल रही है वेटिंग


🗒 बुधवार, अप्रैल 21 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
श्मशान घाट पर लकड़ियों की कमी, घाटों पर शवों की चल रही है वेटिंग

डलमऊ/रायबरेली-कोरोना के बढ़ते प्रकोप में सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली का हाल भी लखनऊ जैसा हो गया है। श्मशान घाटों पर शवों की वेटिंग चल रही। शव जलाने के लिए लकड़ी की भारी किल्लत हो गई है। फतेहपुर जिले से लकड़ियां मंगाई जा रही हैं। यही नही बल्कि शव दाह के लिए आम की जगह यूकेलिप्टस व चिलवल की लकड़ियों से काम चलाया जा रहा। इन लकड़ियों के रेट भी आसामान छू रहे, बाजार में यूकेलिप्टस व चिलवल की लकड़ियों एक हजार से 1200 रुपये प्रति क्विंटल है। दरअसल रायबरेली जिले में सबसे अधिक शव डलमऊ श्मशान घाट पहुंच रहे हैं। किसी दिन 40 या फिर 50 और किसी दिन यह आंकड़ा 100 तक पहुंच रहा है। ऊंचाहार क्षेत्र के गोकना श्मशान घाट पर 15 से 20 और सरेनी के गेगासो श्मशान घाट पर 20 से 25 शवों को हर दिन अंतिम संस्कार के लिए पहुंचाया जाता है। हर दिन यह आंकड़ा कम होने के बजाय बढ़ता जा रहा है। स्थानीय लोगो कहते हैं कि कोरोना के बाद श्मशान घाट पर शवों की संख्या हर दिन बढ़ रही है। आम की लकड़ी मिलना मुश्किल हो गया है। ऐसे में चिलवल, यूकेलिप्टस की लकड़ी की व्यवस्था कराई जा रही है। बाहर से लकड़ी मंगाने पर स्थानीय पुलिस परेशान करती है। इससे और दिक्कत आ रही है। यही हाल रहा तो शवों का अंतिम संस्कार भी नहीं हो पाएगा। लोगों को अपने के शवों को भू-समाधि देनी पड़ेगी। लकड़ी व्यवसाई व गंगा घाट के सोनू पंडा का कहना है कि जिस तरह से लगातार शव आ रहे हैं उनके दाह संस्कार के लिए लकड़िया कम पड़ने लगी है। स्थिति यहां तक पहुंच चुकी है कि आम की लकड़ियां लगभग समाप्त हो चुकी हैं ।चिलवल व यूकेलिप्टस की लकड़ियों से शवों को जलाया जा रहा है।एक वही मृतकों के परिजनों में जबरदस्त भय देखने को मिल रहा है। चारों तरफ त्राहि-त्राहि मची हुई है। शव का अंतिम संस्कार चंदन की लकड़ी से किया जाना सबसे अच्छा माना जाता है। लेकिन चंदन की लकड़ी जुटा पाना मुश्किल हो पाता है इसलिए आम की लकड़ी से भी शव का अंतिम संस्कार करना अच्छा माना जाता है। क्योंकि आम को अमृत फल कहा जाता है। उसकी लकड़ी शुद्ध मानी जाती है। आम की लकड़ी से भी अंतिम संस्कार करने पर चंदन की लकड़ी के कुछ अवशेष रखे जाते हैं। चिलवल और यूकेलिप्टस की लकड़ी से शवों का अंतिम संस्कार सही नहीं माना जाता।
संवाददाता अमरेन्द्र यादव

रायबरेली से अन्य समाचार व लेख

» मतपत्रों में हुई हेराफेरी का शिकार बने प्रधान पद प्रत्याशी अधिकारियों की लापरवाही बनी प्रत्यासी की हार का सबब

» वृद्धाश्रम में वितरित हुआ भोजन और मास्क

» डीएम साहब! स्वच्छ भारत मिशन योजना पर पलीता लगा रहा सहायक एडीओ पंचायत

» दो दिन में आशा कार्यकर्ताओं ने 92,723 घरों का किया सर्वे

» सरेनी के भोजपुर बाजार में लोग उड़ा रहे सोशल डिस्टेंसिंग की खुले आम धज्जियां

 

नवीन समाचार व लेख

» फतेहपुर में पंचायत चुनाव में खराब प्रदर्शन पर बसपा जिलाध्यक्ष निष्कासित, अब नीरज पासी को मिली कमान

» लखनऊ के सहारा और मेयो अस्पताल को नोट‍िस, निर्धारित शुल्क से कई गुना अधिक हो रही थी वसूली

» वैक्सीन पर केंद्र व राज्य में टकराव, कीमतों को लेकर हाई कोर्ट में दायर हुई जनहित याचिका

» लखनऊ के DRDO अस्‍पताल में 90 फीसद बेड खाली, तीमारदार गिड़गिड़ाते रहे, नहीं भर्ती हुए मरीज

» हमीरपुर में यमुना नदी के किनारे मिले सात शव, अफरा-तफरी