यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जिला अस्पताल में रखे वेंटिलेटर बने सफेद हाथी,जिम्मेदार सो रहे कुम्भकर्ण की नींद


🗒 गुरुवार, अप्रैल 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
जिला अस्पताल में रखे वेंटिलेटर बने सफेद हाथी,जिम्मेदार सो रहे कुम्भकर्ण की नींद
रायबरेली-कोरोना संक्रमण से आज पूरा देश परेशान हैं सरकार पूरी तरह से संक्रमण से जनता को बचाने के लिए प्रयासरत हैं कोरोना फाइटर्स और मेडिकल की टीम भी पूरी तरह से अपने काम में लगी हुई है जिला अस्पताल रायबरेली में रखें दस वेंटीलेटर अगर स्टॉल होकर शुरू कर दिए जाए तो काफी राहत मिल सकती है । भाजपा नेता विजय रस्तोगी ने इस संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक ट्वीट भी किया है।भाजपा नेता विजय रस्तोगी ने कहा है कि जिला अस्पताल में दस वेंटीलेटर होना बड़ी बात है लेकिन टेक्नीशियन की अगर कमी है तो उसे एम्स के टेक्निशियंस से स्टॉल करा कर तुरंत शुरू कराया जाना चाहिए ताकि जो लोग वेंटिलेटर के अभाव में अपनी जान से खेल रहे हैं उन्हें बचाया जा सके।जिला अस्पताल में रखे एक वेंटिलेटर की कीमत दस से पंद्रह लाख रूपए हैं । उन्होंने मांग की है कि इन वेंटीलेटर को जिला अस्पताल में एम्स में या फिर L2 अस्पताल में टेक्नीशियन के माध्यम से स्टॉल कराया जाए ताकि कोरोना महामारी से लड़ा जा सके और वेंटिलेटर के अभाव में मरीज दूसरे जिले के चक्कर ना लगाएं।
 
संवाददाता अमरेन्द्र यादव

रायबरेली से अन्य समाचार व लेख

» मतपत्रों में हुई हेराफेरी का शिकार बने प्रधान पद प्रत्याशी अधिकारियों की लापरवाही बनी प्रत्यासी की हार का सबब

» वृद्धाश्रम में वितरित हुआ भोजन और मास्क

» डीएम साहब! स्वच्छ भारत मिशन योजना पर पलीता लगा रहा सहायक एडीओ पंचायत

» दो दिन में आशा कार्यकर्ताओं ने 92,723 घरों का किया सर्वे

» सरेनी के भोजपुर बाजार में लोग उड़ा रहे सोशल डिस्टेंसिंग की खुले आम धज्जियां

 

नवीन समाचार व लेख

» फतेहपुर में पंचायत चुनाव में खराब प्रदर्शन पर बसपा जिलाध्यक्ष निष्कासित, अब नीरज पासी को मिली कमान

» लखनऊ के सहारा और मेयो अस्पताल को नोट‍िस, निर्धारित शुल्क से कई गुना अधिक हो रही थी वसूली

» वैक्सीन पर केंद्र व राज्य में टकराव, कीमतों को लेकर हाई कोर्ट में दायर हुई जनहित याचिका

» लखनऊ के DRDO अस्‍पताल में 90 फीसद बेड खाली, तीमारदार गिड़गिड़ाते रहे, नहीं भर्ती हुए मरीज

» हमीरपुर में यमुना नदी के किनारे मिले सात शव, अफरा-तफरी