यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

दो शिक्षिकाओं के बैंक खाते से निकल गए 32 हजार रुपये


🗒 सोमवार, नवंबर 22 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
दो शिक्षिकाओं के बैंक खाते से निकल गए 32 हजार रुपये

मुरादाबाद,  समय के साथ साइबर अपराधी अपने अपराध करने का तरीका भी बदल रहे हैं। इन दिनों चुनाव को लेकर मतदाता सूचियों का पुनरीक्षण कार्य चल रहा है। बीएलओ ड्यूटी करने वाले सरकारी कर्मचारी इन दिनों साइबर अपराधियों के निशाने पर आ गए हैं। साइबर अपराधियों ने पिछले तीन दिन में बीएलओ ड्यूटी करने वाली रामपुर की दो शिक्षिकाओं को अधिकारी बनकर फोन पर बात की। एनी डेस्क नाम का एप डाउनलोड करने को कहा। दोनों ने एप डाउनलोड कर लिया। इसके बाद शिक्षिका कंचन मिश्रा के खाते से 10 हजार तो शिक्षिका चंद्रेश सिंह खाते से 22 हजार रुपये निकाल लिए गए। शिक्षिकाओं ने घटना की तहरीर पुलिस को दे दी है।शिव विहार कालोनी ज्वालानगर में रहने वाली शिक्षिका चंद्रेश सिंह ने बताया कि वह नौगवां गांव में तैनात हैं। इन दिनों उनकी बीएलओ ड्यूटी लगी है। शुक्रवार को उनके मोबाइल पर अनजान नंबर से काल आई। काल करने वाले ने उन्हें कुछ आफिशियल डिटेल बताई, जिससे वह उन्हें प्रशासनिक अधिकारी समझती रहीं। बाद में काल करने वाले ने उन्हें एनी डेस्क नाम का एप मोबाइल में डाउनलोड करने को कहा। उन्होंने सरकारी काम का हिस्सा समझते हुए एप डाउनलोड कर लिया। इसके बाद उनके मोबाइल से दो बार में 22 हजार रुपये निकाले जाने का मैसेज आया। तब उन्हें ठगी का अहसास हुआ। उन्होंने अपना एटीएम कार्ड ब्लाक करा दिया। शनिवार को इसी तरह की घटना भंडपुरा गांव में तैनात शिक्षिका कंचन मिश्रा के साथ हुई। उनके द्वारा एप डाउनलोड होने पर 10 हजार रुपये खाते से निकाल लिए गए।इस तरह की हो रही घटनाओं को लेकर शिक्षिकाओं में रोष है। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के जिला मंत्री आनंद प्रकाश गुप्ता ने पुलिस अधीक्षक से शिक्षिकाओं के साथ ठगी की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपितों को शीघ्र पकड़ने और रुपये वापस दिलाए जाने की मांग की है। उन्होंने बताया कि बीएलओ बने शिक्षकों के मोबाइल नंबर सार्वजनिक हैं। इसी का फायदा साइबर अपराधी उठा रहे हैं। उन्होंने सभी शिक्षकों को ऐसे अपराधियों के झांसे या दबाव में न आने की अपील भी की है।