यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सहारनपुर में शामली और मेरठ के युवक चला रहे थे अवैध शस्त्र फैक्ट्री


🗒 मंगलवार, जुलाई 13 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सहारनपुर में शामली और मेरठ के युवक चला रहे थे अवैध शस्त्र फैक्ट्री

सहारनपुर,। सहारनपुर में शहर कोतवाली पुलिस और क्राइम ब्रांच ने अवैध हथियार फैक्ट्री का भंडाफोड़ कर तीन आरोपितों को दबोच लिया। उनसे तमंचे और पिस्टल बरामद हुए हैं, जिन्हें पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई जिलों में सप्लाई करते थे।पुलिस लाइन में एसएसपी डा. एस चन्नपा और एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया कि शहर कोतवाली पुलिस एवं क्राइम ब्रांच प्रभारी जयवीर को सूचना मिली कि गढ़ी मलूक गांव के बीएसएनएल टावर के समीप अवैध शस्त्र फैक्ट्री संचालित है। पुलिस ने रविवार देर रात यहां छापा मारकर तीन आरोपितों को पकड़ा। 11 तमंचे 315 बोर, एक तमंचा 312 बोर, दो पिस्टल .32 बोर, लोहा गलाने की मशीन, संडासी, अधबनी दो बंदूक, शस्त्र बनाने के उपकरण आदि बरामद किए।पकड़े गए आरोपित मुकरीम पुत्र कामिल अली निवासी कबीरपुर ख्वाजापुरा थाना झिंझाना जनपद शामली, शाहदीन पुत्र शफीक निवासी गांव बरनावी थाना कैराना जनपद शामली, आबिद पुत्र यूनुस निवासी लक्खीपुरा कांच का पुल थाना लिसाड़ी गेट मेरठ हैं। आरोपितों ने पुलिस को बताया कि वह सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, बागपत, बुलंदशहर आदि जिलों में हथियार सप्लाई करते थे। तमंचा पांच से आठ हजार में, पिस्टल 25 हजार रुपये में बेचते थे। आरोपितों पर तीन-तीन मुकदमे पहले भी दर्ज हैं।गिरोह सरगना मुकरीम ने पुलिस को बताया कि ब्लाक प्रमुख चुनाव के दौरान उनके पास हथियारों की काफी मांग थी। चुनाव से पहले उन्होंने अलीगढ़ और मुजफ्फरनगर में काफी तमंचे सप्लाई किए थे। पुलिस पता कर रही है कि ये हथियार किन लोगों को बेचे गए थे।