यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

तहसील डलमऊ, लालगंज, सलोन की भूमि गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना हेतु पुनग्र्रहीत: डीएम


🗒 मंगलवार, जुलाई 20 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
तहसील डलमऊ, लालगंज, सलोन की भूमि गंगा एक्सप्रेस वे परियोजना हेतु पुनग्र्रहीत: डीएम

रायबरेली 20 जुलाई, 2021 मुख्य कार्यपालक अधिकारी, यूपीडा, पर्यटन भवन लखनऊ के अनुक्रम में उप जिलाधिकारी सलोन जिला रायबरेली के संस्तुति सहित पुनग्र्रहण प्रस्ताव व शासनादेश तथा शासकीय अधिसूचना द्वारा प्रतिनिहित अधिकारो का प्रयोग करते हुए जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव ने ग्राम मीरजहांपुर, परगना व तहसील सलोन जिला रायबरेली की 3 भूमि को जो अब तक उपरिवर्णित शासनादेश के अनुसार अपने अधिकार लेकर कर भूमि का जिलाधिकारी द्वारा निर्धारित सर्किल रेट के अनुसार (समस्त परिसम्पत्तियों को सम्मिलित करते हुए) कुल मूल्य रूपये 39,67,200 (उन्तालिस लाख सरसठ हजार दो सौ) रूपये एवं पुनर्ग्रहीत भूमि का पंजीकृत मूल्य मालगुजारी का 150 गुना अर्थात् 6120 (छः हजार एक सौ बीस) रूपये होता है, इसी तरह ग्राम मीरजहापुर परगना व तहसील सलोन में जिलाधिकारी द्वारा निर्धारित सर्किल रेट के अनुसार (समस्त परिसम्पत्तियों को सम्मिलित करते हुए) कुल मूल्य रूपये 16,15,920 (सोलह लाख पन्द्रह हजार नौ सौ बीस) रूपये एवं पुनर्ग्रहीत भूमि का पंजीकृत मूल्य मालगुजारी का 150 गुना अर्थात् 2494 (दो हजार चार सौ चैरानन्बे) रूपये होता है, इसी तरह ग्राम मीरजहापुर परगना व तहसील सलोन में जिलाधिकारी द्वारा निर्धारित सर्किल रेट के अनुसार (समस्त परिसम्पत्तियों को सम्मिलित करते हुए) कुल मूल्य रूपये 8,12,400 (आठ लाख बारह हजार चार सौ) रूपये एवं पुनर्ग्रहीत भूमि का पंजीकृत मूल्य मालगुजारी का 150 गुना अर्थात् 1254 (एक हजार दो सौ चैव्वन) रूपये होता है, जिसे ‘‘उत्तर प्रदेश शासन, एवं औद्योगिक विकास विभाग लखनऊ’’ के निवर्तन में रखते हुए गंगा एक्सप्रेसवे परियोजना हेतु उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) लखनऊ के पक्ष में शासनादेश के अनुसार निहित व्यवस्थानुसार, निःशुल्क प्रदत्त की है।

संवाददाता आदर्श विश्वकर्मा