यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

ई-रिक्शा लूटने के मामले में सरगना समेत पांच गिरफ्तार


🗒 रविवार, मई 22 2022
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
ई-रिक्शा लूटने के मामले में सरगना समेत पांच गिरफ्तार

शाहजहांपुर, । नशीली कोल्डड्रिंक पिलाकर ई-रिक्शा चालकों को लूटने वाले गिरोह के सरगना समेत पांच लुटेरों को पुलिस ने शुक्रवार देर रात एसओजी व रामचंद्र मिशन पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने लूट के 13 ई-रिक्शा, 100 नशीली गोलियां, दो तमंचे, कारतूस आदि बरामद कर लिए। पकड़े गए लुटेरे शाहजहांपुर के अलावा बुलंंदशहर व पीलीभीत के रहने वाले है।जिले में काफी समय से कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर चालकों को पिलाकर रिक्शा लूटने के मामले सामने आ रहे थे। जिसमे रामचंद्र मिशन थाना क्षेत्र में सबसे ज्यादा इस तरह की घटनाएं हुई। ऐसे में एसपी एस आनंद ने इस गिरोह को पकड़ने के लिए एसओजी को भी लगाया था। शुक्रवार देर रात एसओजी व रामचंद्र मिशन पुलिस ने क्षेत्र के रेती रोड स्थित स्कूल के पास से सरगना समेत पांच लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया।गैंग का सरगना तिलहर थाना क्षेत्र के नजरपुर मुहल्ला निवासी सोहेल खान है। जो नजरपुर मुहल्ला निवासी जीशान, बुलंदशहर जिले के छतारी थाना क्षेत्र के बरकातपुर गांव निवासी एवं हाल पता गाजियाबाद के ट्रोनिका सिटी थाना क्षेत्र के पूजा कालोनी निवासी गोपाल शर्मा, रामचंद्र मिशन थाना क्षेत्र के मुहल्ला ख्वाजा फिरोज निवासी नोमाज अली, पीलीभीत जिले के बीसलपुर थाना क्षेत्र के हबीबुल्ल खां, जनूबी मुहल्ला निवासी शफीक अली के साथ लूट की घटनाओं को अंजाम दे रहा था। पुलिस ने इन लुटेरों की निशानदेही पर रेती मुहल्ला स्थित एक गोदाम से 13 ई-रिक्शा बरामद किए। पुलिस के मुताबिक ई-रिक्शा 50 हजार रुपये में बेच देते थे। इसके बाद सभी आपस में 10-10 हजार रुपये बांट लेते थे।सवारी बनकर बैठते थे लुटेरे: ई-रिक्शा पर लुटेरे सवारी बनकर बैठते थे ताकि किसी को शक न हो। सूनशान स्थान पर कोल्डड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर चालक को पिला देते थे। इसके बाद उसे सड़क किनारे फेंककर ई-रिक्शा लूट लेते थे।एसपी एस आनंद ने बताया कि सोहेल गैंग का सरगना है। जो पहले दिल्ली व गाजियाबाद में प्राइवेट नौकरी करता था। जहां उसकी दोस्ती गोपाल शर्मा से हुई थी। इसके बाद गिरोह में अन्य सदस्यों को जोड़कर ई-रिक्शा लूटना शुरू कर दिया। नशीली दवाएं दिल्ली से खरीदकर लाते थे। यह लुटेरे कई जगह सीसीटीवी में भी लूट करते दिखाई दे रहे हैं।