यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

आवाज का सैंपल लेने के लिए चिन्मयानंद, छात्रा व तीनों युवकों को लेकर SIT शाहजहांपुर जेल से लखनऊ रवाना


🗒 बुधवार, अक्टूबर 09 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
आवाज का सैंपल लेने के लिए चिन्मयानंद, छात्रा व तीनों युवकों को लेकर SIT शाहजहांपुर जेल से लखनऊ रवाना

आवाज का सैंपल लेने के लिए स्वामी चिन्मयानंद, छात्रा और तीनों युवकों को बुधवार सुबह शाहजहांपुर जेल से लेकर विशेष जांच दल (एसआइटी) लखनऊ रवाना हो गया है। लखनऊ की विधि विज्ञान प्रयोगशाला में पांचों आरोपितों के आवाज के नमूने लिये जाएंगे, जिसका वायलर हुए वीडियो से मिलान कराया जाएगा। आवाज का सैंपल लेने के लिए पांचों आरोपितों को लखनऊ स्थित लैब ले जाने के लिए सीजेएम कोर्ट की अनुमति का पत्र चार अक्टूबर जेल प्रशासन तक पहुंच गया था।बुधवार सुबह करीब छह बजे एसआइटी पहले छात्रा को लखनऊ फोरेंसिक लैब ले जाने के लिए शाहजहांपुर जेल से निकली। इसके करीब तीन घंटे बाद यानी नौ बजे चिन्मयानंद को कड़ी सुरक्षा में जेल गेट के अंदर से ही गाड़ी में बैठाकर एसआइटी लखनऊ लेकर चली गई। जेल प्रशासन के मुताबिक करीब 11 बजे के बाद छात्रा के तीनाें साथी सचिन, संजय और विक्रम को लखनऊ भेजा गया। जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर चिन्मयानंद, छात्रा व तीन अन्‍य आरोपियों को अलग-अलग समय पर जेल से लखनऊ के लिए भेजा गया।दुष्कर्म और रंगदारी प्रकरण की जांच में वायरल हुए वीडियो अहम साक्ष्य हैं। एसआइटी का दावा है कि जांच के दौरान पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद, छात्रा और तीनों युवकों ने वीडियो में अपनी मौजूदगी स्वीकारी है। विधि विज्ञान प्रयोगशाला (एफएसएल) की जांच में भी वीडियो सही पाए गए हैं। उनसे टेंपरिंग या एडिटिंग की बात सामने नहीं आई है, लेकिन जो आवाज इन वीडियो क्लिप में है वह आरोपितों की ही है इसे साबित करने के लिए उनका वॉयस सैंपल टेस्ट होना जरूरी है। ताकि एसआइटी अपनी जांच को सही बताते हुए हाई कोर्ट में मजबूती से अपना पक्ष रख सके। इसलिए पांचों लोगों को लखनऊ विधि विज्ञान प्रयोगशाला ले जाने की मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट से अनुमति ली गई थी। अब एसआइटी इन आरोपितों को वॉयस सैंपल टेस्ट के लिए लखनऊ ला रहा है।लॉ की छात्रा से दुष्कर्म और यौन शोषण के आरोप में जेल में बंद चिन्मयानंद के कुछ आपत्तिजनक वीडियो 10 सितंबर को वायरल हुए थे। उसी दिन शाम को एक और वीडियो वायरल हुआ था, जो चिन्मयानंद से रंगदारी मांगे जाने के मामले से संबंधित बताया जा रहा है। इसमें छात्रा और उसके दोस्त संजय के अलावा सचिन व विक्रम की बातचीत भी है। वहीं, इससे जुड़ा एक और वीडियो 26 सितंबर को वायरल हुआ था। एसआइटी ने वायरल वीडियो से पांचों की आवाज मिलान के लिए रिमांड मांगी थी, जिस पर कोर्ट ने चार अक्टूबर को अनुमति दे दी थी।

शाहजहाँपुर से अन्य समाचार व लेख

» पेट्रोल पंप सेल्समैन व ग्राहकों में जमकर चले लाठी-डंडे

» बेटे से परेशान बुजुर्ग मां ने ओवरहेड टैंक पर चढ़कर जान देने का किया प्रयास

» शादी के बाद जेवर लेकर दुल्हन फरार

» ई-रिक्शा लूटने के मामले में सरगना समेत पांच गिरफ्तार

» मुठभेड़ में पकड़े गए एटीएम से लूट के प्रयास के आरोपित