यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

शाहजहांपुर में पिलर धंसने से टूटा 11 करोड़ से बना कोलाघाट पुल


🗒 सोमवार, नवंबर 29 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
शाहजहांपुर में पिलर धंसने से टूटा 11 करोड़ से बना कोलाघाट पुल

शाहजहांपुर,  शाहजहांपुर-दिल्ली राज्यमार्ग पर सोमवार सुबह बड़ा हादसा टल गया। रामगंगा स्थित कोलाघाट पुल पिलर धंसने के साथ ही गिर गया। उस पर से गुजर रही कार भी नीचे आ गई। हालांकि कोई हताहत नहीं हुआ। डीएम इंद्र विक्रम सिंह ने सेतु निगम व लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ निरीक्षण किया। उन्होंने पहले से जांच कर रही टीम से इस मामले में भी रिपोर्ट तलब की है। सेतु निगम के अधिकारियों ने भी जांच के निर्देश दिए हैं। वैकल्पिक व्यवस्था के तहत पैंटून पुल बनाने का एस्टीमेट शासन को भेजा जा रहा है। अभी तक माना जा रहा है कि जमीन के स्टेटा में परिवर्तन आने से पिलर धंस गया।जलालाबाद से मिर्जापुर को जोडऩे के लिए रामगंगा नदी पर करीब 13 वर्ष पहले बना सड़क का पुल सोमवार तड़के ढह गया। वर्ष 2008 में कालाघाट पुल को 11 करोड़ रुपये की लागत से बनाया गया था। सेतु निगम ने इस पुल को बनाकर लोक निर्माण विभाग को हैंडओवर किया था। बीते दो वर्ष से इसकी हालत जर्जर होने लगी तो मरम्मत का काम भी कराया गया। अचानक पुल का आधा हिस्सा गिर गया। इस दौरान यातायात न होने से बड़ा नुकसान टला गया। वहां पर सिर्फ एक कार हल्की सी क्षतिग्रस्त हुई है।शाहजहांपुर को जलालाबाद होते हुए कलान व मिर्जापुर के साथ ही फर्रुखाबाद, बदायूं से जोड़्ने वाले इस मार्ग पर प्रतिदिन हजारों की संख्या में वाहन गुजरते हैं। सुबह करीब तीन बजे जलालाबाद से मिर्जापुर के बीच स्थित पुल का पिलर नंबर आठ अचानक जमीन में धंसने के साथ ही पूरी तरह जमीन में समा गया। उसके साथ दो स्लैब भी नीचे आ गए। मुरादाबाद के मुहल्ला कुंदरकी निवासी नाजिम अपने घायल रिश्तेदार शाकिर को लेकर प्रयागराज से मुरादाबाद जा रहे थे। जिस समय पिलर धंसना शुरू हुआ उनकी कार भी उसी पर थी। स्लैब के साथ उनकी कार भी नीचे आ गई।हालांकि उसमें सवार सभी पांच लोग सुरक्षित बच गए। सूचना पर पुलिस पहुंची। पुल के दोनों ओर आवागमन रोकने के साथ ही यातायात को डायवर्ट कर दिया गया है। सेतु निगम के डीपीएम विजेंद्र मौर्य ने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों मुआयना किया। डीएम इंद्र विक्रम भी वहां पहुंचकर जानकारी ली।