कमलेश चंद्र मिश्र हत्याकांड मे पुलिस तंत्र-मंत्र मान रही है पूर्व प्रवक्ता की हत्या का कारण

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

कमलेश चंद्र मिश्र हत्याकांड मे पुलिस तंत्र-मंत्र मान रही है पूर्व प्रवक्ता की हत्या का कारण


🗒 शनिवार, सितंबर 12 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
कमलेश चंद्र मिश्र हत्याकांड मे पुलिस तंत्र-मंत्र मान रही है पूर्व प्रवक्ता की हत्या का कारण

महोली कस्बे के सोनारन टोला निवासी बुजुर्ग प्रवक्ता कमलेश चंद्र मिश्र की हत्या के मामले में पुलिस घटना के बाद से शनिवार देर शाम तक एक-एक बिंदु पर छानबीन करती रही है। पुलिस का कहना है कि मुकेश शुक्ल निवासी शुक्लन टोला महोली मृतक कमलेश मिश्र के तंत्र-मंत्र विद्या में सहयोग करता था। वह मृतक से तंत्र-मंत्र विद्या की शिक्षा भी ले रहा था। मुकेश शुक्ल के सौतेले भाई प्रवीण शुक्ल को इस बात की आशंका थी कि मुकेश तंत्र-मंत्र से उनके या परिवार को कोई क्षति न कर दे।मृतक के परिवार वालों ने ये बात पुलिस को बताई है। इसी के आधार पर मुकेश शुक्ल व उसके सौतेले भाई प्रवीण शुक्ल को हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। एसपी आरपी सिंह ने बताया, पूर्व प्रवक्ता की हत्या मामले में कारण की सुई तंत्र-मंत्र के इर्द-गिर्द ही घूम रही है। उन्होंने बताया, पूर्व प्रवक्ता लगभग हर रोज पैदल श्मशान स्थित काली माता मंदिर जाकर वहां तंत्र-मंत्र करते थे। श्मशान पूर्व प्रवक्ता के घर से दक्षिण दिशा में करीब एक किमी दूर है।महोली क्षेत्र में पूर्व प्रवक्ता की हत्या की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक आरपी सिंह खुद रात से ही घटना स्थल पर डटे रहे। उनके साथ एएसपी उत्तरी डॉ. राजीव दीक्षित, सीओ सदर व अन्य कई पुलिस अधिकारियों के साथ ही डॉग स्क्वायड टीम, सर्विलांस टीमें भी लगी हैं। एसपी ने बताया, प्रथम दृष्टया हत्या तंत्र-मंत्र को लेकर ही हुई है। फिलहाल, राजफाश में लगी टीमे किस स्तर पर पहुंची हैं, इसे लेकर एसपी पल-पल की अपडेट लेते दिख रहे थे। उन्होंने खुद हिरासत में लिए गए दो लोगों से काफी देर तक कई बिंदुओं पर पूछताछ की। इनके साथ ही एएसपी डॉ. राजीव दीक्षित ने भी कई बिंदुओं पर संदिग्धों से जानकारी जुटाई है।जिला अस्पताल में पंचनामा के दौरान भी पुलिस काफी गंभीर दिखी। एसपी ने जिला अस्पताल में सुरक्षा व्यवस्था की दृष्टि से लहरपुर सीओ पीयूष कुमार सिंह के नेतृत्व में खैराबाद थानाध्यक्ष धर्मप्रकाश शुक्ल, रामकोट थानाध्यक्ष ब्रजेश राय व शहर कोतवाली के एसएसआइ विनोद मिश्र के साथ ही अन्य पुलिस फोर्स तैनात किया था। ये पुलिस अधिकारी पंचनामा और मृतक कमलेश मिश्र के आने-जाने वाले समर्थकों पर भी नजर बनाए हुए थे। पुलिस ने अपने सामने ही मृतक के शव का एक्स-रे भी कराया। वहीं, एसपी ने लखनऊ से विभिन्न दलों के नेताओं के आने की खबर पर अटरिया, सिधौली, खैराबाद थाना पुलिस को भी अलर्ट किए रखा।

सीतापुर से अन्य समाचार व लेख

» सीतापुर के सांडा कस्‍बे के एक घर में जोरदार विस्फोट, वृद्ध महिला की मौत

» सीतापुर में जिंदा जलाई गई युवती की मौत, प्रेमी ने किया था आग के हवाले

» सीतापुर शहर के आलम नगर में आपसी विवाद में हुई दो राउंड फायरिंग,

» सीतापुर में तेंदुए ने युवक को बनाया निवाला, इलाके में फैली दहशत

» सीतापुर में खेल-खेल में पेड़ से बांधा; बर्र के काटने से मौत