सीतापुर में थानाध्यक्ष पर हमला, मुठभेड़ में MP का 50 हजार का इनामिया दबोचा गया

यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सीतापुर में थानाध्यक्ष पर हमला, मुठभेड़ में MP का 50 हजार का इनामिया दबोचा गया


🗒 शुक्रवार, सितंबर 25 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सीतापुर में थानाध्यक्ष पर हमला, मुठभेड़ में MP का 50 हजार का इनामिया दबोचा गया

सीतापुर शुक्रवार तड़के मध्य प्रदेश के एक गैंग ने रास्ता रोकने पर अटरिया थानाध्यक्ष करुणेश सिंह को पहले कार से कुचल देने की कोशिश की। फिर पीछा करने पर भाग रहे बदमाशों ने थानाध्यक्ष पर सामने से गोली दाग दी। खैर, इन दोनों जानलेवा हमलों में थानाध्यक्ष बाल-बाल बच गए। वहीं, सिधौली कोतवाली क्षेत्र में मनवा पुलिस चौकी के पास से बौनाभारी मार्ग पर इन बदमाशों की पुलिस से मुठभेड़ हो गई। जिसमें एक बदमाश के पैर में गोली लगने से वह पुलिस के हत्थे चढ़ गया, जबकि शेष 11 लोग भाग निकले। घायल बदमाश का नाम मिथुन निवासी देवास मध्य प्रदेश बताया जा रहा है। एएसपी दक्षिणी नरेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि गैर राज्य के इन बदमाशों का बड़ा गैंग है। पुलिस मुठभेड़ में इस गैंग बहुत ही कुख्यात अपराधी घायल हुआ है। इस पर 50 हजार रुपये का इनाम पूर्व से आइजी ने घोषित किया गया था। बताया, जो अपराधी फरार हो गए हैं, उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें लगाई गई हैं।अटरिया थाना क्षेत्र के बॉर्डर पर एक ढाबा पर खड़ी एक ट्रक को बरामद की है। इस में बैठे साजिद नाम के व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया गया है। साजिद ने पूछताछ में पुलिस को मध्य प्रदेश के उज्जैन के थाना मतसी के गांव झोकर का निवासी होना बताया है। ट्रक के अंदर रखे असलहा, तमंचा, कारतूस और लॉक कटर बरामद हुए हैं। ट्रक को लूटकर जब बाहर लेकर जाते हैं तो कटर से ट्रक काटकर उसमें से सामान निकाल लेते हैं। साजिद व घायल बदमाश मिथुन से पूछताछ में पता चला है कि मध्य प्रदेश के देवास जिले के थाना टॉक खुर्द के चिड़ावल गांव से 11 लोग आए हुए थे। ये लोग अपना एक ट्रक और कार लेकर चलते हैं। जहां पर दवाओं व सिगरेट के बड़े-बड़े गोदाम होते हैं। वहां से ट्रकों पर माल की लोडिंग होती है उस ट्रक का पीछा करते हैं और रास्ते में सूनसान स्थल मिलने पर ट्रक को ओवरटेक कर उसे रोक लेते हैं। फिर ट्रक चालक को बंधक बनाकर उसे बांधकर खेत या जंगल में फेंक देते हैं। चूंकि बदमाशों का गैंग 10-11 लोगों का है, इसलिए एक-दो घंटे में ही पूरे सामान को अपनी ट्रक में लोडकर लेते हैं। फिर क्रमश: ट्रक-कार का नंबर बदलते हुए ये लोग एमपी तक निकल जाते हैं। वहां पहुंचकर उज्जैन व इंदौर में इनके पहले से परिचित व्यापारी इनके लूटे हुए सामान को खरीद लेते हैं।घायल बदमाश मिथुन ने पुलिस को बताया है कि अभी इसी वर्ष के एक मार्च महीने में लखनऊ जिले के इटौंजा थाना क्षेत्र में सिगरेट से भरा ट्रक लूटा था। इसमें भरे माल की कीमत करीब 50 लाख रुपये थी। गुरुवार रात को भी ये लोग एक ट्रक को लूटने का लक्ष्य बनाकर लखनऊ से सीतापुर की तरफ आ रहे थे।

सीतापुर से अन्य समाचार व लेख

» सीतापुर के काशीराम हत्याकांड का राजफाश, हाथरस के शूटर लोकेंद्र ने मारी थी गोली

» सीतापुर में रोटावेटर से कटकर युवक की मौत, शरीर के हो गए टुकड़े

» सीतापुर में आपसी विवाद में युवक को मारी गोली, छह नामजद

» सीतापुर में लूट और अपहरण की फर्जी सूचना देकर पुलिस को छकाया

» सीतापुर में खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम के नमूना लेने पर भड़के व्यापारी

 

नवीन समाचार व लेख

» महोबा- शिक्षक स्नातक निर्वाचन को लेकर अधिकारियों ने किया निरीक्षण

» महोबा-पंाच और मिले कोरोना के मरीज, जिले में संख्या हुई 1341

» महोबा-विश्व ऐड्स दिवस पर विद्यार्थियों को दी गई जरूरी जानकारी

» महोबा-विशाल मानसिक स्वास्थ्य शिविर में 92 मरीजों का हुआ उपचार

» महोबा-विभिन्न अपराधिक मामलों में वांछित अपराधी को दबोचा