यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सीतापुर में भाजपा नेता के घर पर फेंका नल का एल्बो, खिड़की का शीशा टूटा


🗒 गुरुवार, अक्टूबर 15 2020
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सीतापुर में भाजपा नेता के घर पर फेंका नल का एल्बो, खिड़की का शीशा टूटा

सीतापुर, शहर के रोटी गोदाम मोहल्ला निवासी भाजपा नेता साकेत मिश्रा के घर गुरुवार सुबह किसी अज्ञात ने नल का एल्बो फेंक दिया। इससे उनके घर की कांच की खिड़की टूट गई और एल्बो बरामदे में जा गिरा। मामले की खबर पाकर मौके पर पहुंचे सीओ सिटी पीयूष कुमार सिंह, शहर कोतवाल तेज प्रकाश सिंह ने पूरे मामले की जांच की और आसपास के लोगों से पूछताछ की है।सीओ सिटी पीयूष कुमार सिंह ने बताया कि मामले में भाजपा नेता ने अज्ञात के विरुद्ध तहरीर दी है। मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि भाजपा नेता के घर की सुरक्षा के लिए कांस्टेबल तैनात किए गए हैं। उधर भाजपा नेता साकेत मिश्रा ने पुलिस को बताया है कि, वह गरीबों एवं जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे रहते हैं इसीलिए वह शहर के भूमाफिया के निशाने पर रहते हैं। भाजपा नेता ने पुलिस को यह भी बताया है कि कुछ दिनों पहले खैराबाद में उन्होंने किसानों की जमीन पर कब्जा करने वाले कमाल सराय संगत के महंत पूरन मुनि और बजरंगबली के विरुद्ध आवाज उठाई थी, जिस पर इन लोगों ने भी उन्हें (भाजपा नेता) को जान से मारने की धमकी दी थी। साकेत मिश्रा के मुताबिक वह बुधवार रात में घर की दूसरी मंजिल पर सो रहे थे। उनकी पत्नी सुबह 5:30 बजे के दौरान एसी बंद करने के लिए कमरे के बाहर निकली तो देखा किसी ने लोहे के एल्बो एक कर उनके घर की आहट ली और उसी दरमियान मोटरसाइकिल निकलने की आवाज भी आई। साकेत मिश्र ने पुलिस को बताया है कि उन्हें ऐसा विश्वास हो रहा है कि खैराबाद में उनके द्वारा किसानों के पक्ष में कब्जा करने वाले महंतों के विरुद्ध आवाज उठाई थी, शायद वही लोग उनको जान से मारने की कोशिश में लगे हैं। भाजपा नेता का कहना है कि यदि वह एल्बो की आवाज पर घर से बाहर निकल आते तो शायद उनके साथ बड़ा हादसा हो सकता था।भाजपा में आने से पहले साकेत मिश्र बसपा में थे। वर्ष 2002 के चुनाव में वह सदर विधानसभा क्षेत्र से बसपा के प्रत्याशी थे। वर्ष 2006 में वह भाजपा में शामिल हुए। वर्ष 2007 और वर्ष 2012 में उन्होंने भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा। उन्हें तीनों बार हार का सामना करना पड़ा। अभी उन्होंने भाजपा जिलाध्यक्ष पद के लिए भी नामांकन किया था।