यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

सोनभद्र में संं‍दिग्‍ध लोगों के हाथों बनी अंडा करी खाकर सुबह आठ लोग झाड़‍ि‍यों में बेहोश मिले


🗒 बुधवार, फरवरी 03 2021
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक
सोनभद्र में संं‍दिग्‍ध लोगों के हाथों बनी अंडा करी खाकर सुबह आठ लोग झाड़‍ि‍यों में बेहोश मिले

सोनभद्र, ओबरा थानांतर्गत बिल्ली जंक्शन रेलवे स्टेशन के सामने स्थित बस्ती में अनजान व्यक्तियों के साथ भोजन करना एक परिवार के लिए भारी पड़ गया। अनजान व्यक्तियों द्वारा खाने में मिलाए गए नशीले पदार्थ का सेवन करने से आठ लोग अचेत हो गए। बुधवार सुबह सभी को चोपन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया, जहां तीन लोगों की हालत ज्यादा खराब होने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया है। उधर रात में अनजान दो व्यक्ति घर में चोरी कर फरार हो गए। स्टेशन के सामने मोहन बंसल के घर पर दो व्यक्ति आये दोनों ने अपने को व्यापारी बताते हुए कहा कि वे लोग ट्रेन पकडऩे आए हैं। दोनों ने कहा कि वे यहीं पर खाना बनाना चाहते हैं। जिसपर मोहन बंसल राजी हो गए। दोनों ने अपने सहित पूरे परिवार के लिए अंडा करी बनाया। उसके बाद पूरा परिवार अंडा करी खाकर सोने चला गया। सुबह आसपास के लोगों ने जब घर के पास का नजारा देखा तो चकित रह गए। घर के कई सदस्य जिसमे महिलाएं और बच्चे भी थे सभी घर के आस पास झाडिय़ों में अचेत अवस्था में पड़े हुए थे। पड़ोसियों ने किसी तरह मोहन बंसल, सुनीता देवी, ज्योति, खुशबू, मनु बंसल, टीरू बंसल, उपेंद्र राम और जासनी देवी को तत्काल चोपन में भर्ती कराया। उधर मोहन बंसल के घर से निकाला गया बक्सा रेलवे लाइन के पास मिला। दोनों अज्ञात व्यक्तियों द्वारा घर के अंदर भी चोरी की गयी है।उधर, मोहन बंसल की तबीयत ज्यादा खराब होने के कारण चोरी गए समान के बारे में पता नहीं चल पाया है। दोपहर बाद तक समाचार लिखे जाने तक ओबरा पुलिस को जानकारी नहीं दी गयी थी। 

सोनभद्र से अन्य समाचार व लेख

» अनियंत्रित कार पेड़ से टकराई, तीन की मौत

» डीजे की धुन पर नाचते रहे अस्‍पताल कर्मी, मासूम बच्ची की मौत

» होलिका दहन के दौरान एक व्‍यक्ति ने आग में कूद कर दे दी जान

» सोनभद्र में वाहन में बैलेट पेपर ले जाने का आरोप, सपा कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा

» विधायक ने कार्यकर्ताओं के सामने लगाई उठक-बैठक