यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

जानें आपके लिए चेक बाउंस होना है आपके लिए नुकसानदेह


🗒 शनिवार, अगस्त 11 2018
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

कई बार ऐसा सुनने में आता है कि एक व्यक्ति भुगतान के लिए दूसरे व्यक्ति को चेक काटकर देता है, लेकिन किसी कारणवश वह बाउंस हो जाता है। इसके पीछे कई वजहें हो सकती हैं। आज के समय में कई बैंक ऐसे भी हैं जो कि चेक बाउंस होने पर जुर्माना वसूलते हैं।

जानें आपके लिए चेक बाउंस होना है आपके लिए नुकसानदेह

जुर्माने की राशि अलग-अलग बैंकों में अलग अलग हो सकती है। चेक बाउंस के जुर्माने की राशि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई में अलग-अलग है। कई बार यह चेक बाउंस होने के कारण और उसके प्रकृति पर भी निर्भर करता है। इसमें वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) भी जोड़ा जाता है।यदि अकाउंट में पर्याप्त बैलेंस न होने और गलत सिग्नेचर से चेक बाउंस होता है तो प्राप्तकर्ता और दोषी दोनों से जुर्माना वसूला जाता है। हालांकि बाउंस हुआ चेक फिर से जमा हो सकता है। हम यहां बता रहे हैं कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक की ओर से चेक बाउंस होने पर कितना जुर्माना लिया जाता है...

एसबीआई का चेक बाउंस होने पर जुर्माना:

चेक बाउंस होने पर एचडीएफसी की ओर से लिया जाने वाला जुर्माना:

चेक बाउंस होने पर आईसीआईसीआई की ओर से लिया जाने वाला जुर्माना:

विशेष से अन्य समाचार व लेख

» जम्‍मू-कश्‍मीर में मोदी सरकार के सामने अनुच्छेद 370 और 35ए को लेकर क्‍या हो सकते हैं विकल्‍प

» नहीं है आपका घर तो सरकार को ऐसे ऑनलाइन आवेदन आपको मिलेगा घर

» आइएनएस ने सरकार से की न्यूजप्रिंट पर सीमाशुल्क वृद्धि वापस लेने की मांग

» भारतीय क्रिकेटर धौनी की कंपनियों की जांच के लिए नेफोवा ने लिखा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र

» लोकसभा में तीन तलाक बिल पर चर्चा, हंगामे के पूरे आसार

 

नवीन समाचार व लेख

» पाक की शातिर चाल, कश्मीर को अफगान से जोड़ा, भारतीय सैन्य कार्रवाई से सीमा पार मचा हड़कंप

» मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विश्वास जताया हम अयोध्या का पुरातन गौरव लौटा कर ही दम लेंगे

» वाराणसी के आदम पुर थाना अंतर्गत शराब पिलाने से किया मना तो उतार दिया मौत के घाट

» हेमामालिनी की भावोत्सर्जित नृत्य सेवा के साथ झूलनोत्सव का हुआ समापन

» दारुल उलूम देवबंद परिसर में हेलीपैड निर्माण की जांच को पहुंचा जिला प्रशासन