यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

SBI देता है नाबालिग के नाम पर बैंक अकाउंट खोलने का मौका


🗒 मंगलवार, जनवरी 08 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) जो कि देश का सबसे बड़ा कर्जदाता बैंक हैं पहला कदम और पहली उड़ान नाम से नाबालिगों के लिए दो सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा देता है। पहला कदम और पहली उड़ान अकाउंट ऐसे बच्चों के लिए है जिनकी उम्र 18 वर्ष से कम है।

SBI देता है नाबालिग के नाम पर बैंक अकाउंट खोलने का मौका

पहला कदम खाते को 18 वर्ष से कम उम्र के नाबालिग बच्चे के लिए खोला जा सकता है जबकि पहली उड़ान खाता 10 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए है। यह जानकारी एसबीआई की आधिकारिक वेबसाइट पर दर्ज है। वहीं इन दोनों खातों में मंथली एवरेज बैलेंस (एमएबी) मेंटेन करने की जरूरत भी नहीं होती है। आसान शब्दों में कहा जाए तो इन दोनों खातों तो जीरो बैलेंस पर संचालित किया जा सकता है।

पहला कदम और पहली उड़ान खाते से जुड़ी अहम बातें जो आपको जाननी चाहिए:

योग्यता: इन दोनों खातों को खोलने की योग्यता निम्न प्रकार है।

  • पहला कदम: 18 वर्ष से कम उम्र के किसी भी बच्चे के नाम पर यह खाता खुलवाया जा सकता है, लेकिन इसे बच्चे के माता-पिता या अभिभावक की ओर से साझा रुप से संचालित किया जा सकता है।
  • पहली उड़ान: यह खाता 10 वर्ष से अधिक आयु के नाबालिग के नाम पर खुद उसकी ओर से खोला जा सकता है जो स्वयं हस्ताक्षर कर सकता है।

मोड ऑफ ऑपरेशन: इन खातों का संचालन निम्म प्रकार से होता है...

  • पहला कदम: इस खाते को माता-पिता एवं अभिभावक की ओर से साझा रुप से या फिर माता-पिता एवं अभिभावक की ओर से एकल रुप से संचालित किया जा सकता है।
  • पहली उड़ान: पहली उड़ान खाते को एकल रुप से संचालित किया जा सकता है।

एटीएम-कम डेबिट कार्ड: इन दोनों खातों में एटीएम-कम डेबिट कार्ड की सुविधा भी मिलती है।

  • पहला कदम: पहला कदम सेविंग अकाउंट में बच्चे की तस्वीर लगा एटीएम-कम डेबिट कार्ड मिलता है। इसकी विदड्रॉअल लिमिट या पीओसी लिमिट 5000 रुपये प्रतिदिन की होती है।
  • पहली उड़ान: पहला कदम की ही तरह पहली उड़ान खाते में भी बच्चे की तस्वीर लगा एटीएम-कम डेबिट कार्ड मिलता है और इसमें भी विदड्रॉअल लिमिट या पीओसी लिमिट 5000 रुपये प्रतिदिन की होती है।

इंटरनेट बैंकिंग: इन दोनों खातों में प्रतिदिन 5000 रुपये के लेनदेन की अनुमति होती है। हालांकि इसमें सुविधाएं सीमित होती है। इन दोनों खातों से इंटरनेट बैंकिंग की मदद से बिल्स का भुगतान और डिमांड के साथ ही इंटरनेट बैंक फंड ट्रांस्फर (एनईएफटी) की भी सुविधा मिलती है।

चेक बुक की सुविधा: इन दोनों ही खातों में चेक बुक की भी सुविधा दी जाती है......

  • पहला कदम: इस खाते में अभिभावक की देखरेख में 10 चेक वाली चेकबुक अभिभावक को दी जाती है।
  • पहली उड़ान: अगर नाबालिग हस्ताक्षर करने की सूरत में होता है तो 10 चेक वाली चेकबुक जारी की जाती है।

ब्याज दर: अगर इन खातों पर मिलने वाली ब्याज दर की बात करें तो इस पर अन्य बचत खातों की ही तरह समान ब्याज दर उपलब्ध करवाई जाती है। वहीं इन दोनों खातों में नॉमिनेशन की सुविधा भी मिलती है।

विशेष से अन्य समाचार व लेख

» रुपयों के लेनदेन में खूब करिए एनईएफटी और आरटीजीएस, अब बैंक नहीं लेंगे शुल्क

» लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे तीन घंटे से पहले पार किया तो चालान, हादसों पर अंकुश के लिए नई व्यवस्था

» गूगल गुरू के युग में भी किताबें पढ़ने की आदत डालें: पीएम मोदी

» उत्तर प्रदेश गरीबों को आवास देने में सबसे आगे, PM आवास योजना में आंध्र को पीछे छोड़ा

» विदेशों में कालाधन 216 से 490 अरब डालर होने का अनुमान, संसदीय समिति की रिपोर्ट पेश

 

नवीन समाचार व लेख

» मथुरा यमुना एक्सप्रेस वे पर कैदी को लेकर जा रही पुलिस ने अज्ञात वाहन से टकराई कैदी सहित 12 पुलिसकर्मी हुए घायल

» मथुरा में 25 हजार के इनामी बदमाश हर्षवर्धन को पुलिस ने किया गिरफ्तार, रंगा बिल्ला गैंग का सक्रिय सदस्य था

» मथुरा के शेरगढ़ थाना क्षेत्र के गांव आदमपुर में फौजी के द्वारा एक नवविवाहिता के अश्लील फोटो और वीडियो किये वायरल

» मथुरा में महिलाओ के साथ पुलिस वाला बता रौब दिखाना पड़ा भारी

» मथुरा में बीएसए कॉलेज के समीप नाले में मिला 33 वर्षीय संजय शर्मा का शव