यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

ट्विटर ने चुनाव में बनाया रिकॉर्ड, 600 फीसद बढ़ोतरी के साथ 40 करोड़ किए गए ट्वीट


🗒 शुक्रवार, मई 24 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

ट्विटर इंडिया ने गुरुवार को बताया कि इस साल लोकसभा चुनाव के दौरान वर्ष 2014 के मुकाबले ट्वीट में 600 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई। एक जनवरी से 23 मई तक कुल 40 करोड़ ट्वीट दर्ज किए गए।एक बयान में ट्विटर ने बताया, 11 अप्रैल से 19 मई तक के छह हफ्तों के बीच ट्विटर पर चुनावी मुद्दों में राष्ट्रीय सुरक्षा सबसे ज्यादा चर्चित रहा। इसके बाद धर्म, रोजगार, कृषि और नोटबंदी का नंबर आया। चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सबसे ज्यादा टैग किया गया।भाजपा और एनडीए के हैंडल को 53 फीसद लोगों ने टैग किया। कांग्रेस और यूपीए के अन्य घटक दलों को 37 फीसद लोगों ने टैग किया। वैसे तो ज्यादातर हिंदी और अंग्रेजी भाषा में ही ट्वीट किए गए, लेकिन तमिल और गुजराती में ट्वीट करने वालों की संख्या भी ठीक-ठाक रही।ट्विटर ने साफ किया कि लोकसभा चुनाव की अखंडता बनाए रखने के लिए उसने आवश्यक कदम उठाए। उसने दावा किया कि मानकों व नियमों के अनुपालन के लिए अलग पोर्टल बनाया था, जिससे लोग सीधे तौर पर उसे शिकायत कर सकें।

ट्विटर ने चुनाव में बनाया रिकॉर्ड, 600 फीसद बढ़ोतरी के साथ 40 करोड़ किए गए ट्वीट

विशेष से अन्य समाचार व लेख

» सरकारी खजाने से भरा जाता है CM, मंत्रियों का आयकर

» सितंबर के अंतिम हफ्ते में चार दिन बंद रहेंगे बैंक

» इलाहाबाद हाईकोर्ट में जजों की नियुक्ति न्यूनतम आय में लटकी सभी प्रस्तावों पर लगी रोक

» केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने डिजिलॉकर प्लेटफॉर्म और एम-परिवहन मोबाइल एप में उपलब्ध वाहनों के डॉक्यूमेंट को वैध माना

» लखनऊ की यातायात व्‍यवस्‍था 10वीं मुहर्रम के जुलूस पर बदली

 

नवीन समाचार व लेख

» रीवन में 4 वर्ष की लड़की की तालाब में गिरकर मौत

» चिन्मयानंद मामले में SIT की बड़ी कार्रवाई, 7 घंटे तक की पूछताछ के बाद दिव्य धाम सीज

» सरकारी खजाने से भरा जाता है CM, मंत्रियों का आयकर

» उन्नाव हिन्दुस्तान पेट्रोलियम गैस प्लांट को हटाने को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश

» जन्मस्थान को न्यायिक व्यक्ति मानने के लिए क्या जरूरी है, मुस्लिम पक्ष से सुप्रीम कोर्ट का सवाल