यूनाइट फॉर ह्यूमैनिटी हिंदी समाचार पत्र

RNI - UPHIN/2013/55191 (साप्ताहिक)
RNI - UPHIN/2014/57987 (दैनिक)
RNI - UPBIL/2015/65021 (मासिक)

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने डिजिलॉकर प्लेटफॉर्म और एम-परिवहन मोबाइल एप में उपलब्ध वाहनों के डॉक्यूमेंट को वैध माना


🗒 सोमवार, सितंबर 09 2019
🖋 विक्रम सिंह यादव, प्रधान संपादक

वाहन स्वामी को गाड़ी के मूल दस्तावेज साथ रखने की जरूरत नहीं है। डिजिलॉकर या एम-परिवहन एप में भी उन्हें सुरक्षित रख सकते हैं। वाहन स्वामी व चालक गाड़ी के दस्तावेज अब मोबाइल एप में सुरक्षित रहेंगे और इन्हें ट्रैफिक पुलिस और आरटीओ को दिखा सकेंगे। इस व्यवस्था का सख्ती से पालन कराने के निर्देश प्रमुख सचिव परिवहन ने जारी किए हैं।केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने डिजिलॉकर प्लेटफॉर्म और एम-परिवहन मोबाइल एप में उपलब्ध वाहनों के अभिलेख (डॉक्यूमेंट) को वैध माना है। इसे परिवहन प्राधिकारियों द्वारा जारी प्रमाण प्रमाण-पत्र के समान समझे जाने संबंधी गाइड लाइन जारी की गई है। इसमें उल्लेख किया गया है कि वाहन चालक के खिलाफ किसी कानूनी कार्रवाई के दौरान गाड़ी के कागज जब्त करना जरूरी हो तो ई-चालान सिस्टम से जब्त किए जाएं। प्रमुख सचिव परिवहन अरविंद कुमार ने बताया कि प्रचार-प्रसार के अभाव में जनता इस सुविधा का लाभ नहीं ले पा रही। उन्होंने परिवहन विभाग के साथ ही डीजीपी से इस व्यवस्था का पालन कड़ाई से कराने के लिए कहा है।डिजिलॉकर या एम-परिवहन एप के माध्यम से वाहन के सभी दस्तावेज हमेशा के लिए सुरक्षित रहेंगे। अधिकांश देखा जाता है कि आरसी, प्रदूषण नियंत्रण प्रमाणपत्र और बीमा के कागज वाहन में रखने से खराब हो जाते हैं। कभी-कभी दस्तावेज फट जाते हैं तो गीले होने से खराब हो जाते हैं। दस्तावेज चोरी होने का खतरा भी रहता है। डिजीलॉकर या एम-परिवहन एप के माध्यम से ये सभी फाइलें सुरक्षित रहेंगी।डिजिलॉकर या एम-परिवहन एप से फर्जीवाड़े पर भी अंकुश लगेगा। कुछ लोग फर्जी आरसी और वाहन के दस्तावेज बनाकर वाहनों को बेच देते हैं। यदि आरटीओ अधिकारियों और यातायात पुलिस को चेकिंग के दौरान दस्तावेज में गड़बड़ी मिलेगी तो चालक से डिजिलॉकर खुलवाकर दस्तावेजों की जांच कर सकेंगे।सबसे पहले एप डाउनलोड करना होगा। फिर एप साइनअप करने के लिए अपना मोबाइल नंबर एंटर करना होगा। फिर एक ओटीपी आएगा जिसे एंटर करके वेरिफाई करना होगा। अगले स्टेप में लॉगिन करने के लिए अपना यूजर नेम और पासवर्ड जनरेट करना होगा। इतना करने के बाद आपका डिजिलॉकर एकाउंट बन जाएगा।अब अपने डिजिलॉकर अकाउंट में आपको अपना आधार नंबर प्रमाणित करना होगा। आधार डेटाबेस में आपका जो मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड है उस पर एक ओटीपी आएगा। उस ओटीपी को एंटर करने के बाद आपका आधार प्रमाणित हो जाएगा। अब डिजिलॉकर से आप आरसी, लाइसेंस और इंश्योरेंस की कॉपी डाउनलोड कर सकते हैं और पुलिस को दिखा सकते हैं। एम-परिवहन एप में गाड़ी के मालिक का नाम, रजिस्ट्रेशन की तारीख, मॉडल नंबर, इंश्योरेंस की वैधता आदि जानकारी रहती है। ऐसे में आपको किसी तरह के कागजात को साथ में लेकर चलने की जरूरत नहीं होगी।

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने डिजिलॉकर प्लेटफॉर्म और एम-परिवहन मोबाइल एप में उपलब्ध वाहनों के डॉक्यूमेंट को वैध माना

विशेष से अन्य समाचार व लेख

» इलाहाबाद हाईकोर्ट में जजों की नियुक्ति न्यूनतम आय में लटकी सभी प्रस्तावों पर लगी रोक

» लखनऊ की यातायात व्‍यवस्‍था 10वीं मुहर्रम के जुलूस पर बदली

» अब ई-सुविधा के सभी कर्मियों को मिलेगा दो लाख का इंश्योरेंस

» बुंदेलखंड में रक्षाबंधन पर बहनें नहीं बांधतीं हैं राखी, निभा रहे 837 साल पुरानी अनोखी परंपरा

» यूपी की 'फरार दुल्हन' का हैरान करने वाला सच, सोशल मीडिया में भी हो रही चर्चा

 

नवीन समाचार व लेख

» वाराणसी मे सिगरा पुलिस ने कैशियर समेत चार के खिलाफ दर्ज किया मुकदमा

» वाराणसी अनाथालय परिसर में खेल-खेल में दो बच्चे आपस में उलझ गए, वार्डेन निलंबित

» केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने डिजिलॉकर प्लेटफॉर्म और एम-परिवहन मोबाइल एप में उपलब्ध वाहनों के डॉक्यूमेंट को वैध माना

» 11 को केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का दो दिवसीय अमेठी दौरा

» इलाहाबाद में केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, चिदंबरम गए जेल, जल्द ही राबर्ट वाड्रा का भी नंबर